बैंक खाता खुलवाने, सत्यापन कराने के लिये धर्म के बारे में जानकारी देने की जरूरत नहीं

किसी बैंक में नया खाता खुलवाने या पुराने खाते का सत्यापन कराने के लिये खाताधारक को उसके धर्म के बारे में जानकारी देने की जरूरत नहीं है. सरकार ने शनिवार को यह स्पष्टीकरण दिया है.

बैंक खाता खुलवाने, सत्यापन कराने के लिये धर्म के बारे में जानकारी देने की जरूरत नहीं

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

किसी बैंक में नया खाता खुलवाने या पुराने खाते का सत्यापन कराने के लिये खाताधारक को उसके धर्म के बारे में जानकारी देने की जरूरत नहीं है. सरकार ने शनिवार को यह स्पष्टीकरण दिया है. वित्त मंत्रालय में वित्त सचिव एवं वित्तीय सेवा विभाग के सचिव राजीव कुमार ने ट्विटर पर कहा, ‘‘किसी भी भारतीय नागरिक को अपना बैंक खाता खुलवाने या पुराने खाते में अपने ग्राहक को जानो यानी केवाईसी अनुपालन मामले में अपने धर्म का खुलासा करने की कोई जरूरत नहीं है.

SBI और एक्सिस बैंक के अधिकारियों ने माना "येस बैंक के अधिग्रहण के लिए कोटक महिंद्रा बैंक सबसे उपयुक्त"

जनता को ऐसी अफवाहों पर कतई विश्वास नहीं करना चाहिये.'' सरकार की ओर से यह स्पष्टीकरण ऐसे समय आया है जब कुछ मीडिया खबरों में कहा जा रहा था कि बैंक खाता खुलवाने या सत्यापन करते समय उपभोक्ता से उनके धर्म के बारे में जानकारी मांग सकते हैं.

Video: 'CAA किसी नागरिक का अधिकार नहीं छीनता है'



(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)
 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com