NDTV Khabar

Nobel Prize: ओल्गा टोकार्कज़ुक को 2018 का और पीटर हैंडके को 2019 का साहित्य का Nobel Prize

वर्ष 2018 के लिए पोलिश लेखिका ओल्गा टोकार्कज़ुक (Olga Tokarczuk) को साहित्य के नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in Literature) से सम्मानित किया गया है. वर्ष 2019 के लिए साहित्य का नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in Literature) ऑस्ट्रियाई लेखक पीटर हैंडके (Peter Handke) को दिया गया है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
Nobel Prize: ओल्गा टोकार्कज़ुक को 2018 का और पीटर हैंडके को 2019 का साहित्य का Nobel Prize

Nobel Prize: ओल्गा टोकार्कज़ुक को 2018 का और पीटर हैंडके को 2019 का साहित्य का Nobel Prize

खास बातें

  1. दो साल के साहित्य के नोबेल पुरस्कार घोषित
  2. 2018 का नोबेल पुरस्कार ओल्गा टोकार्कज़ुक को मिला
  3. 2019 का नोबेल पुरस्कार पीटर हैंडके को मिला
नई दिल्ली:

वर्ष 2018 के लिए पोलिश लेखिका ओल्गा टोकार्कज़ुक (Olga Tokarczuk) को साहित्य के नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in Literature) से सम्मानित किया गया है. वर्ष 2019 के लिए साहित्य का नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in Literature) ऑस्ट्रियाई लेखक पीटर हैंडके (Peter Handke) को दिया गया है. स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में नोबेल फाउंडेशन (Nobel Foundation) ने नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize 2019) विजेताओं की घोषणा की. इससे पहले, बुधवार को कैमिस्ट्री के नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize 2019) की घोषणा की गई थी, और वह लिथियम-आयन बैटरी का विकास करने के लिए अमेरिका के जॉन बी. गुडइनफ (John Goodenough), इंग्लैंड के एम. स्टैनली विटिंघम (Stanley Whittingham) तथा जापान के अकीरा योशिनो (Akira Yoshino) को संयुक्त रूप से दिया गया था.


यह भी पढ़ें: जॉन बी. गुडइनफ, एम. स्टैनली विटिंघम और अकीरा योशिनो को मिला Chemistry का Nobel Prize

मंगलवार को भौतिकी (Physics) का नोबेल पुरस्कार घोषित किया गया था, जो कनाडाई-अमेरिकी एस्ट्रो-फिज़िसिस्ट जेम्स पीबल्स (James Peebles), स्विस एस्ट्रो-फिज़िसिस्ट मिशेल जी.ई. मेयर (Michel Mayor) और स्विस एस्ट्रोनोमर डिडिएर क्वेलोज (Didier Queloz) को प्रदान किया गया था. जेम्स पीबल्स को 'भौतिक ब्रह्माण्ड विज्ञान में सैद्धांतिक खोजों के लिए', मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज़ को 'एक सौर-प्रकार के तारे की परिक्रमा करने वाले एक्सोप्लेनेट की खोज के लिए' संयुक्त रूप से नोबेल पुरस्कार दिया गया था. पुरस्कार की आधी राशि जेम्स पीबल्स को दिए जाने की घोषणा की गई, जबकि शेष राशि को अन्य दोनों विज्ञानियों में बराबर-बराबर बांटा गया.

यह भी पढ़ें: जेम्स पीबल्स, मिशेल मेयर और डिडिएर क्वेलोज को मिला Physics का Nobel Prize

इससे भी पहले, सोमवार को अमेरिका के विलियम जी. कायलिन जूनियर (William G. Kaelin Jr) और ब्रिटेन के ग्रेग एल. सेमेन्ज़ा (Gregg L. Semenza) और सर पीटर जे. रैटक्लिफ (Sir Peter J. Ratcliffe) को चिकित्सा के क्षेत्र में नोबेल पुरस्कार की घोषणा की गई थी. इन विज्ञानियों ने पता लगाया है कि ऑक्सीजन का स्तर किस तरह हमारे सेलुलर मेटाबोलिज़्म और शारीरिक गतिविधियों को प्रभावित करता है. इस खोज से एनीमिया, कैंसर और अन्य बीमारियों के खिलाफ लड़ाई में नई रणनीति बनाने का रास्ता साफ हुआ.

यह भी पढ़ें: Nobel Prize: क्यों दिया जाता है नोबेल पुरस्कार, जानिए इसके बारे में सबकुछ

गुरुवार को की गई घोषणा सहित वर्ष 1901 से अब तक साहित्य का नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in Literature) 112 बार और 116 लेखकों को दिया जा चुका है. अब तक कुल 15 महिलाओं को साहित्य का नोबेल पुरस्कार दिया गया है. सबसे कम उम्र में साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित होने वाले (Nobel Laureate) 41-वर्षीय रुडयार्ड किपलिंग (Rudyard Kipling) थे, जिन्हें 1907 में पुरस्कृत किया गया था, और सबसे बड़ी उम्र में साहित्य के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित होने वाली लेखिका 88-वर्षीय डोरिस लेसिंग (Doris Lessing) थीं, जिन्हें 2007 में यह पुरस्कार प्रदान किया गया.

साहित्य का नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize in Literature) सात अवसरों - 1914, 1918, 1935, 1940, 1941, 1942 तथा 1943 - पर नहीं दिया गया था. चार बार साहित्य का नोबेल पुरस्कार दो-दो लेखकों को संयुक्त रूप से दिया गया. वर्ष 1904 में फ्रेडरिक मिस्त्राल (Frédéric Mistral) व जोसे एकेगेरे (José Echegaray) को, वर्ष 1917 में कार्ल जेलरप (Karl Gjellerup) व हेनरिक पॉन्टोप्पिडन (Henrik Pontoppidan) को, वर्ष 1966 में शूमेल एगनॉन (Shmuel Agnon) व नेली सैक्स (Nelly Sachs) को तथा वर्ष 1974 में आईविन्ड जॉनसन (Eyvind Johnson) व हैरी मार्टिनसन (Harry Martinson) को संयुक्त रूप से दिया गया था. साहित्य का नोबेल पुरस्कार कभी किसी लेखक को दो बार नहीं दिया गया है.  

टिप्पणियां

यह भी पढ़ें: अमेरिका और ब्रिटेन के इन 3 वैज्ञानिकों को मिला मेडिसिन का नोबेल पुरस्कार

बता दें कि पिछले साल यौन उत्पीड़न की घटना के बाद साहित्य का नोबेल पुरस्कार नहीं दिया गया था. विशेषज्ञों का कहना है कि इस वर्ष एकेडमी किसी भी विवाद से बचने के लिए बहुत सतर्कता से विजेताओं के नाम को चुना गया है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement