NDTV Khabar

नोएडा : 18 दिन कलेजे से लगाकर पाला, फिर अचानक बच्ची को अस्पताल में छोड़ गई मां

एक मां जिसने बच्ची को जन्म देकर 18 दिन तक कलेजे से लगाकर पाला, वही मां अपनी बच्ची को अस्पताल में अकेला छोड़ गई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नोएडा : 18 दिन कलेजे से लगाकर पाला, फिर अचानक बच्ची को अस्पताल में छोड़ गई मां

18 दिन की बच्ची को अस्पताल में छोड़ कर भागी मां

खास बातें

  1. बच्ची का जन्म 7 माह में ही हो गया था
  2. महिला ने 18 दिन तक बच्ची का ख्याल रखा
  3. इसके बाद वह 20 जुलाई की शाम अचानक गायब हो गई
नोएडा:

एक मां जिसने बच्ची को जन्म देकर 18 दिन तक कलेजे से लगाकर पाला, वही मां अपनी बच्ची को अस्पताल में अकेला छोड़ गई. अस्पताल में एक सप्ताह तक डॉक्टरों ने बच्ची की मां के आने का इंतजार किया,लेकिन नहीं आने पर अस्पताल के डॉक्टरों ने पुलिस और चाइल्ड हेल्प लाइन को मामले की जानकारी दी. पुलिस अब बच्ची के परिजनों की तलाश कर रही है. नोएडा सेक्टर-24 स्थित ईएसआई अस्पताल का बाल चिकित्सा वार्ड एक बच्ची को अपनी मां के आने का इंतजार है. अस्पताल के रिकॉर्ड के मुताबिक- बच्ची को जन्म 2 जुलाई को सलारपुर की रहने वाली रेखा ने दिया था. 7 माह में पैदा होने बच्ची अपरिपक्व थी इसलिए बच्ची को गहन चिकित्सा वार्ड में रखा गया था. 20 जुलाई तक मां ने बच्ची को कलेजे से लगाकर रखा. 20 जुलाई की शाम महिला बच्ची को छोड़कर चली गई. 

पढ़ें: 10 वर्षीय गर्भवती बच्ची को लंबे समय तक काउंसलिंग की आवश्यकता होगी : विशेषज्ञ


डॉक्टर 26 जुलाई तक उस महिला के लौटने का इंतजार किया, लेकिन उस बच्ची की मां लौटकर नहीं आई. यह किसी को नहीं समझ में आया कि आखिर एक मां अपनी बच्ची को इस तरह कैसे छोड़कर जा सकती है. 26 जुलाई को अस्पताल के डॉक्टरों ने पुलिस और चाइल्ड लाइन को मामले की जानकारी दी.

पढ़ें: उपचार के दौरान बच्ची की मौत, परिजनों ने लगाया लापरवाही का आरोप

टिप्पणियां

गौरतलब है कि ईएसआई अस्पताल में ईएसआई कार्डधारकों के ही परिवार का इलाज किया जाता है. महिला का पति जरूर किसी कंपनी में कर्मचारी है, जिसने महिला को अस्पताल में भर्ती करवाया. महिला ने अपना आधार कार्ड जमा किया था. उस पर दर्ज मोबाइल नंबर पर कॉल करने पर कोई जवाब नहीं मिला. आधार कार्ड नंबर के आधार पर पुलिस और चाइल्ड लाइन टीम बच्ची के परिजनों का पता लगाने में जुटी है. सीसीटीवी फुटेज और जांच में पता चला है कि मां ने जब बच्ची को जन्म दिया तो उसे देखने के लिए कोई नहीं आया. आशंका जताई जा रही है कि बेटी पैदा होने से महिला के परिवारवाले खुश नहीं थे. 

चाइल्ड लाइन के अनुसार- जब तक बच्ची को अस्पताल से ले जाने के अनुमति नहीं मिलती तब तक वह वहीं पर रहेगी. इसके बाद बच्ची के इस मामले को बाल कल्याण समिति के समक्ष रखा जाएगा. इसके बाद उसे मथुरा स्थित अनाथालय में भेज दिया जाएगा.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement