NDTV Khabar

नोएडा अथॉरिटी घोटाला : यादव सिंह को सुप्रीम कोर्ट ने दी जमानत

सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि यादव सिंह गवाहों को प्रभावित नहीं करेंगे और सबूतों के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नोएडा अथॉरिटी घोटाला : यादव सिंह को सुप्रीम कोर्ट ने दी जमानत

खास बातें

  1. यादव सिंह को शर्तों के साथ मिली जमानत
  2. पासपोर्ट जमा कराने और जांच में सहयोग के निर्देश
  3. गवाहों को प्रभावित नहीं करेंगे यादव सिंह
नई दिल्ली: नोएडा अथॉरिटी के हजारों करोड़ रुपये के घोटाले मामले में आरोपी यादव सिंह को मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जमानत दी है. कोर्ट ने यादव सिंह को कहा कि वे पासपोर्ट जमा कराएंगे साथ ही जांच में सहयोग करेंगे. सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि वह गवाहों को प्रभावित नहीं करेंगे और सबूतों के साथ छेड़छाड़ नहीं करेंगे. ED के तय समयसीमा के भीतर आरोपपत्र दाखिल न करने की वजह से कोर्ट ने जमानत दी, हालांकि यादव सिंह अभी जेल से बाहर नहीं आ सकेंगे, क्योंकि उनके खिलाफ सीबीआई ने भ्रष्टाचार, आपराधिक साजिश, धोखाधड़ी, फर्जीवाड़ा और कानून के उल्लंघन के संबंध में केस दर्ज किया गया है और इस मामले में उनको अभी तक जमानत नही मिली है.

नोएडा के नामी स्कूल में बुक सेलर ने विदेशी छात्र से किया कुकर्म

यादव सिंह ने कहा कि इस मामले में 60 दिनों में प्रवर्तन निदेशालय ने आरोप पत्र दाखिल नहीं किया. यादव सिंह ने कहा कि 29 अप्रैल को 60 दिन पूरे हुए और 30 अप्रैल को रविवार था. 1 मई को यादव सिंह ने हाई कोर्ट में जमानत याचिका दाखिल कर दी, लेकिन प्रवर्तन निदेशालय ने 2 मई को आरोप पत्र दाखिल किया. यादव सिंह ने कहा कि कानूनन 60 दिनों के भीतर आरोप पत्र दाखिल न होने पर जमानत मिल जाती है लेकिन इस केस में हाई कोर्ट ने जमानत नहीं दी. यादव सिंह ने इस केस में संजय दत्त के अलावा कई और केसों का उदाहरण दिया है. 

नोएडा: अगवा करके की शादी फिर देह व्यापार में धकेला, दो भाई गिरफ्तार
इससे पहले इलाहाबाद हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच ने खारिज कर दी थी. लखनऊ जेल में बंद यादव सिंह ने प्रवर्तन निदेशालय के मामले में जमानत याचिका दायर की थी, जो खारिज कर दी गई. यादव सिंह सहित उनके नोएडा अथॉरिटी के नौ साथी बहुचर्चित टेंडर घोटाले में डासना जेल में सजा काट रहे हैं. यादव सिंह पर आरोप है कि उसने नोएडा प्राधिकरण में चीफ इंजीनियर रहते हुए कई सौ करोड़ रुपये घूस लेकर ठेकेदारों को टेंडर बांटे. यही नहीं नोएडा, ग्रेटर नोएडा और यमुना एक्सप्रेस अथॉरिटी में इंजीनियर रहते हुए यादव सिंह की सभी तरह के टेंडर और पैसों के आवंटन में बड़ी भूमिका होती थी.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement