NDTV Khabar

नोएडा प्लाट आवंटन घोटाला : सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व IAS अफसर नीरा यादव की सजा एक साल घटाई

कोर्ट ने सजा तीन साल से घटाकर दो साल की, पूर्व IAS अफसर राजीव कुमार को भी दो साल की सजा

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
नोएडा प्लाट आवंटन घोटाला : सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व IAS अफसर नीरा यादव की सजा एक साल घटाई

नोएडा प्लाट आवंटन घोटाले में सुप्रीम कोर्ट ने पूर्व आईएएस अधिकारी नीरा यादव को दोषी माना है.

खास बातें

  1. नोएडा प्लाट आवंटन घोटाला साल 1993 से 1995 के दौरान हुआ था
  2. नीरा यादव को 2016 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दोषी करार दिया
  3. भ्रष्टाचार के मामले में दो अलग-अलग अदालतों से सजा मिली
नई दिल्ली: नोएडा प्लाट आवंटन घोटाले में सजायाफ्ता पूर्व IAS अफसर नीरा यादव की याचिका पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ गया है. कोर्ट ने नीरा यादव को दोषी करार दिया है लेकिन सजा तीन साल से घटाकर दो साल कर दी है. नीरा यादव अब और 14 महीने की सजा काटनी होगी. पूर्व IAS अफसर राजीव कुमार को भी दो साल की सजा दी गई है.

नोएडा प्लाट आवंटन घोटाला साल 1993 से 1995 के दौरान हुआ था. नीरा यादव को 2016 में इलाहाबाद हाईकोर्ट ने दोषी करार दिया. इस फैसले को उन्होंने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी.

यह भी पढ़ें - नोएडा प्लॉट आवंटन घोटाले में दोषी पूर्व आईएएस अधिकारी नीरा यादव के केस से जज ने खुद को अलग किया

सुनवाई के दौरान सीबीआई की तरफ से सॉलीसिटर जनरल रंजीत कुमार ने कहा यादव को भ्रष्टाचार के मामले में दो अलग-अलग अदालतों से सजा मिली है. यह केवल साधारण जमानत का मामला नहीं है. ऐसे में इनको जमानत नहीं दी जा सकती.

यह भी पढ़ें- नोएडा प्लॉट आवंटन : आईएएस नीरा यादव को जमानत का सीबीआई ने किया विरोध

जबकि नीरा यादव की तरफ से कहा गया कि उन्होंने भ्रष्टाचार कानून को चुनौती दी है. साथ ही कोर्ट से भ्रष्टाचार निरोधक कानून की धारा 13(1)(डी) निरस्त करने की मांग की है. इसमें किसी का फेवर करने वाले पब्लिक सर्वेंट को सजा देने का प्रावधान है. नीरा के वकील ने कहा कि ऐसे ही एक मामले में पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को राहत मिली है, ऐसे में उन्हें भी राहत दी जाए.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें- नोएडा प्लॉट आवंटन मामला : नीरा यादव की याचिका पर सीबीआई को नोटिस

नीरा यादव का कहना है कि उनका इस पूरे मामले में कोई रोल नहीं है. उनके पर लगे आरोप स्‍पष्‍ट नहीं हैं. इन तथ्‍यों को निचली अदालत और हाईकोर्ट ने दरकिनार किया है. लिहाजा उन्‍हें दी गई सजा के फैसले को खारिज किया जाए और उन्हें जमानत दी जाए. दरअसल नीरा यादव को सीबीआई की विशेष अदालत और इलाहाबाद हाईकोर्ट ने भ्रष्टाचार कानून के तहत दोषी ठहराते हुए तीन साल के कारावास की सजा सुनाई है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement