कोरोना महामारी फैलने के बाद से पहली बार मुंबई के धारावी में नहीं आया एक भी नया मामला

Dharavi Coronavirus Update: स्वास्थ्यकर्मी बताते हैं कि धारावी में कोरोना और भी तेजी से पांव पसार सकता था लेकिन सही हस्तक्षेप, आइसोलेशन और मरीजों की टेस्ट‍िंग की बदौलत प्रशासन धारावी को संक्रमण में संभावित बढ़ोतरी से दूर रखने में कामयाब रहा.

मुंबई:

Dharavi Coronavirus Update: मुंबई की धारावी को क्रिसमस का तोहफ़ा मिला है. मुंबई स्थ‍ित एश‍िया की सबसे बड़ी झुग्गी के नाम से मशहूर धारावी (Dharavi)  में पिछले 24 घंटे में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण का एक भी नया मामला सामने नहीं आया. इस साल भारत में इस महामारी (Coronavirus Pandemic) के फैलने की शुरुआत से लेकर अब तक ये पहला मौका है जब धारावी में एक भी नया मरीज नहीं मिला है. 19 दिनों से सिंगल डिजिट में यहां मामले दिख रहे थे, वहीं यहां अब सिर्फ़ 10 सक्रिय मामले ही बचे हैं. धारावी पुलिस, धारावी के डॉक्टर और यहां के आमलोग बेहद उत्साहित हैं.

ट्रेसिंग, ट्रैकिंग, टेस्टिंग और ट्रीटमेंट! बीएमसी के इस 4-टी मॉडल ने धारावी को क्रिसमस के दिन ‘ज़ीरो' केस पर पहुंचाया. धारावी में 1 अप्रैल को पहली बार कोरोना का मामला आया- वो भी मौत के साथ. पिछले 19 दिनों से यहां कोविड मरीजों की संख्या सिंगल डिजिट में चल रही है. इस समय सक्रिय मामले भी सिर्फ 10 हैं. यहां अब तक 3,700 से ज्यादा मामले रिपोर्ट हुए हैं.

ICMR ने बताया- भारत की Covaxin ने खींचा दुनिया का ध्यान, Lancet ने डेटा में दिखाई दिलचस्पी

स्वास्थ्यकर्मी बताते हैं कि धारावी में कोरोना और भी तेजी से पांव पसार सकता था लेकिन सही हस्तक्षेप, आइसोलेशन और मरीजों की टेस्ट‍िंग की बदौलत प्रशासन धारावी को संक्रमण में संभावित बढ़ोतरी से दूर रखने में कामयाब रहा. 26 जुलाई को धारावी में कोरोना के केवल 2 ही मामले सामने आए थे. हालांकि कुछ महीनों बाद मरीजों की संख्या फिर बढ़ गई लेकिन शुक्रवार को एक बार यहां एक भी नया मरीज नहीं मिला.

बीएमसी के साथ धारावी की गलियों में घूम घूम कर लोगों की स्क्रीनिंग और इलाज करने वाली धारावी आयुष डॉक्टर एसोसिएशन (DADA) के डॉक्टर इसे बड़ी उपलब्धि मान रहे हैं. चिलचिलाती गर्मी में मज़दूरों के पलायन से लेकर धारावी को फिर से पटरी पर लाने की क़वायद के दौरान क़ानून व्यवस्था के पालन की चुनौती धारावी पुलिस ने बखूबी सम्भाली. कोरोना फ़्री धारावी एक बार फिर से रफ्तार पकड़ने की कोशिश के पूरे जोश में है.

जब नए मामलों की संख्या एक द‍िन में केवल दो तक रह गई तब कोरोना की कर्व को फ्लैट करने या कोरोना वायरस क्लस्टर से सफल कंटेनमेंट मॉडल के रूप में धारावी की कामयाबी की दुनियाभर में तारीफ हुई. यहां तक कि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी कोरोना के ख‍िलाफ लड़ाई को लेकर धारावी की प्रशंसा की थी.

एक समय पर कोरोना हॉटस्पॉट था मुंबई का धारावी, इस तरह पाया वायरस पर काबू

ऐसा लगता है कि सख्त लॉकडान लगाने और केवल जरूरी सामानों के लिए लोगों को आवाजाही करने की इजाजत देना धारावी के बेहद फायदेमंद साबित हुआ और धारावी में हर दिन नए मरीजों की संख्या में कमी दर्ज की जाने लगी और अब यह शून्य तक पहुंच गई.

महाराष्ट्र में पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 3,580 नए मामले दर्ज किए गए जिसके बाद राज्य में संक्रमितों की कुल संख्या बढ़ कर 19.51 लाख हो गई जबकि यहां अब तक 49000 से ज्यादा लोगों की जान इस वायरस की वजह से जा चुकी है.


6 लाख से ऊपर की आबादी वाली धारावी की संकरी गलियों में 100 वर्ग फुट के कमरे में 10-10 लोग रहते हैं. यहां का सालाना बिज़नेस टर्नओवर क़रीब 7,000 करोड़ का बताया जाता है. चमड़ा, टेक्स्टायल और प्लास्टिक का हज़ारों करोड़ का कारोबार धारावी की तंग गलियों में माचिस की डिब्बियों जैसे कमरों में चलता है. कोविड ने आर्थिक तौर पर धारावी को बहुत बड़ा झटका दिया लेकिन कोरोना फ़्री हुई धारावी के हौसले एक बार फिर ऊंचे हैं.

मुंबई में सीवर के पानी मे मिला कोरोना वायरस

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com