चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की कश्मीर पर टिप्पणी को लेकर भारत ने जताई कड़ी आपत्ति, आया यह बयान... 

शी चिनफिंग (Xi Jinping) और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran KHan) के कश्मीर पर चर्चा (Kashmir Issue) की खबरों पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए भारत ने कहा कि इस मुद्दे पर नई दिल्ली के रुख से बीजिंग 'अच्छी तरह से अवगत' है.

चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग की कश्मीर पर टिप्पणी को लेकर भारत ने जताई कड़ी आपत्ति, आया यह बयान... 

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग (Xi Jinping).

खास बातें

  • कश्मीर पर चीनी राष्ट्रपति के बयान से भारत को आपत्ति
  • भारत ने शी चिनफिंग के बयान पर जताया ऐतराज
  • कहा- कश्मीर मुद्दे पर भारत के रुख से वाकिफ है बीजिंग
नई दिल्ली:

चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग (Xi Jinping) और पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान (Imran KHan) के कश्मीर पर चर्चा (Kashmir Issue) की खबरों पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए भारत ने बुधवार को कहा कि इस मुद्दे पर नई दिल्ली के रुख से बीजिंग 'अच्छी तरह से अवगत' है. विदेश मंत्रालय की तरफ से कहा गया कि हमारे आंतरिक मामलों पर अन्य देश टिप्पणी नहीं करे. भारत की यह कड़ी प्रतिक्रिया शी और इमरान खान के बीच एक बैठक में कश्मीर पर चर्चा होने के बारे में चीनी सरकारी मीडिया में खबर आने के बाद आई है.

भारत दौरे से पहले शी चिनफिंग का बड़ा बयान- बोले पाकिस्तान-चीन की दोस्ती अटूट और चट्टान जैसी मजबूत

खबर के मुताबिक बैठक में शी चिनफिंग ने इमरान खान से कहा कि कश्मीर में स्थिति की चीन निगरानी कर रहा है और उसने आशा जताई कि 'संबद्ध पक्ष' शांतिपूर्ण वार्ता के जरिये मुद्दे का हल कर सकते हैं. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा, 'हमने शी की खान के साथ बैठक के बारे में खबर देखी है, जिसमें कश्मीर पर उनके बीच हुई चर्चा का भी जिक्र किया गया है. भारत का लगातार और स्पष्ट रुख रहा है कि जम्मू कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है. चीन हमारे रुख से अच्छी तरह से अवगत है. भारत के आंतरिक मामलों पर अन्य देश टिप्पणी नहीं करें.' शी का शुक्रवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखर बैठक होने का कार्यक्रम है.

शी चिनफिंग के भारत दौरे से पहले चीन ने कहा-द्विपक्षीय ढंग से हो कश्मीर मुद्दे का समाधान

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

चीनी राष्ट्रपति ने इमरान खान को एक बैठक के दौरान भरोसा दिलाया कि अंतरराष्ट्रीय एवं क्षेत्रीय हालात में बदलावों के बावजूद चीन और पाकिस्तान के बीच मित्रता अटूट तथा चट्टान की तरह मजबूत है. जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 (Article 370) के ज्यादातर प्रावधानों को भारत सरकार द्वारा पांच अगस्त को रद्द करने के बाद पाकिस्तान और भारत के बीच तनाव बढ़ने के बीच इमरान ने चीन यात्रा की है. 

VIDEO: 11-12 अक्टूबर को मिलेंगे PM मोदी और चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग