NDTV Khabar

अधीर रंजन चौधरी ने कहा - कश्‍मीर हमारा आंतरिक मामला, तो राम माधव बोले 48 घंटे में हुआ हृदय परिवर्तन

संसद में चर्चा के दौरान अधीर रंजन चौधरी ने कश्‍मीर मसले पर पाकिस्‍तान और यूएन का जिक्र कर हंगामा खड़ा कर दिया था. जिसका जवाब गृहमंत्री अमित शाह ने दिया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अधीर रंजन चौधरी ने कहा - कश्‍मीर हमारा आंतरिक मामला, तो राम माधव बोले 48 घंटे में हुआ हृदय परिवर्तन

अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि पीएम को लाल किले से कश्‍मीर को लेकर घोषणा करनी चाहिए

नई दिल्‍ली:

पाकिस्‍तान ने भारत के साथ अपने सभी व्‍यापारिक संबंध तोड़ लिए हैं. पाकिस्‍तान के इस कदम पर कांग्रेस पार्टी के नेता अधीर रंजन चौधरी ने कहा कि मैं जानता हूं कि पाकिस्‍तान कुछ करने जा रहा है. कश्‍मीर का मसला हमारा आंतरिक मामला है. हमारे देश को अधिकार है कि वह कौन सा कानून अपने देश के लिए पास करे. संसद में चर्चा के दौरान अधीर रंजन चौधरी ने कश्‍मीर मसले पर पाकिस्‍तान और यूएन का जिक्र कर हंगामा खड़ा कर दिया था. जिसका जवाब गृहमंत्री अमित शाह ने दिया. अधीर रंजन चौधरी द्वारा संकल्प का विरोध किये जाने पर शाह ने पूछा था कि क्या कांग्रेस पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को भारत का हिस्सा नहीं मानती है? लेकिन हम इसके लिए जान भी देने को तैयार हैं. जम्मू कश्मीर का मतलब पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर (पीओके) और अक्साई चिन से भी है क्योंकि इसमें दोनों समाहित हैं.

अब बीजेपी नेता राम माधव ने ट्वीट कर पूछा है कि 48 घंटे में आपका हृदय परिवर्तन हो गया.


अधीर रंजन चौधरी ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लाल किले से कश्‍मीर को लेकर घोषणा करनी चाहिए. लेकिन उन्‍होंने सवाल उठाया कि जब कश्‍मीर अपना है तो यहां इतनी पाबंदियां क्‍यों लगाई गई हैं. अमरनाथ यात्रा को बीच में ही रोके जाने और एडवाइजरी जारी करने पर भी उन्‍होंने सवाल उठाया. उनका कहना है कि जब पाकिस्‍तान से कोई जंग नहीं हो रही तो क्‍यों नहीं कश्‍मीर को सभी के लिए खोल दिया जाता.

टिप्पणियां

गौरतलब है कि लोकसभा में कश्‍मीर संबंधी सकल्‍प पेश किए जाने के बाद अधीर रंजन चौधरी ने सरकार से पूछा था कि जम्मू कश्मीर देश का आंतरिक विषय है या द्विपक्षीय मामला, साथ ही कहा था कि 1948 से संयुक्त राष्ट्र राज्य संबंधी स्थिति की निगरानी कर रहा है. चौधरी ने जम्मू कश्मीर संबंधी संकल्प पेश किये जाने का विरोध करते हुए कहा था, ‘‘ आप कहते हैं कि जम्मू कश्मीर देश का आंतरिक विषय है. 1948 से संयुक्त राष्ट्र (यूएन) राज्य संबंधी स्थिति की निगरानी कर रहा है, यह बुनियादी प्रश्न है और सरकार को स्थिति स्पष्ट करना चाहिए. आप बतायें कि यह आंतरिक मामला है या द्विपक्षीय.''

VIDEO: लोकसभा में अपने ही सवाल में फंसी कांग्रेस



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement