NDTV Khabar

आरएसएस को जवाब देने के लिए अब कांग्रेस भी लगाएगी 'शाखा'

सेवा दल संगठन के स्तर पर व्यापक बदलाव की भी तैयारी में है और इसको लेकर उसने एक ब्लू्प्रिंट भी तैयार किया है. इसे सोमवार को राहुल गांधी की मौजूदगी में सार्वजनिक किया जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
आरएसएस को जवाब देने के लिए अब कांग्रेस भी लगाएगी 'शाखा'

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली: राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) और उससे जुड़े संगठनों की ओर से समय-समय पर राष्ट्रवाद को लेकर खड़े किए जाने वाले विमर्श की काट के तौर पर कांग्रेस के सेवा दल ने हर महीने के आखिरी रविवार को एक हजार जिलों/शहरों में ‘ध्वज वंदन’ कार्यक्रम आयोजित करने का फैसला किया है. सेवा दल अपने इन 'ध्वज वंदन' कार्यक्रमों में गांधी और नेहरू के सिद्धांतों और 'धर्मनिरपेक्षता, सहिष्णुता और बहुलवादी विचारों' पर आधारित राष्ट्रवाद पर विमर्श शुरू करने का प्रयास करेगा. कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की ओर से स्वीकृति मिलने का बाद सेवा दल इस कार्यक्रम को लेकर आगे बढ़ेगा. सेवा दल संगठन के स्तर पर व्यापक बदलाव की भी तैयारी में है और इसको लेकर उसने एक ब्लू्प्रिंट भी तैयार किया है. इसे सोमवार को राहुल गांधी की मौजूदगी में सार्वजनिक किया जाएगा.

सेवा दल के मुख्य संगठक लालजी भाई देसाई ने बताया, ‘पिछले कुछ वर्षों में सेवा दल पहले की तरह की सक्रिय नहीं रह गया और वह सिर्फ कांग्रेस के कार्यक्रमों के आयोजनों के प्रबंधन तक सीमित रह गया था. हम इसे फिर से मजबूत बनाने का प्रयास कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा, ‘अब हम राष्ट्रनिर्माण, राष्ट्रसेवा, संगठन निर्माण और पार्टी के मुख्य संगठन के साथ तालमेल बिठाकर काम करने पर जोर देंगे.’    

उन्होंने कहा कि अगले तीन महीने में देश के पूर्वी, पश्चिमी, उत्तरी, दक्षिणी और मध्य हिस्सों में प्रशिक्षण शिविरों का आयोजन किया जाएगा. आगामी 11 जून को मणिपुर में ऐेसे पहले प्रशिक्षण शिविर का आयोजन होने जा रहा है जिसमें देश के पूर्वी हिस्से के सेवा दल के कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी शामिल होंगे. गुजरात से ताल्लुक रखने वाले देसाई ने कहा कि देश के एक हजार जिलों, शहरों एवं महानगरों में हर महीने के आखिरी रविवार को ‘ध्वज वंदन’ कार्यक्रम होगा जिसमें ध्वजारोहण के साथ वैचारिक चर्चा होगी. इस दौरान गांधी और नेहरू के सिद्धांतों तथा कांग्रेस की विचारधारा के बारे में लोगों बताया जाएगा.

टिप्पणियां
उन्होंने कहा, ''हम धर्मनिरपेक्षता, सहिष्णुता और बहुलवादी विचारों' पर आधारित राष्ट्रवाद पर विमर्श शुरू करने का प्रयास करेंगे.'' देसाई के मुताबिक फिलहाल 700 जिलों और शहरों में सेवा दल का संगठन है जहां 20 से लेकर 200 तक की संख्या में उसके कार्यकर्ता हैं.    उन्होंने कहा, ‘सेवा दल में हम युवा इकाई शुरू करने जा रहे हैं. महिला इकाई पहले से थी. युवा इकाई शुरू होने से हमें युवाओं को अपने साथ जोड़ने में मदद मिलेगी.’देसाई ने कहा कि सेवा दल ने संगठन निर्माण और आगे के कार्यक्रमों को लेकर एक ब्लूप्रिंट तैयार किया गया है और 11 जून को राहुल गांधी की मौजूदगी में इसे मीडिया के समक्ष पेश किया जाएगा.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement