अब सऊदी अरब के संपत्ति कोष PIF ने Jio प्लेटफार्म्स में खरीदी 2.32 प्रतिशत हिस्सेदारी

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने अपनी डिजिटल इकाई जियो प्लेटफार्म्स में 2.32 प्रतिशत हिस्सेदारी 11,367 करोड़ रुपये में सऊदी अरब के संपत्ति कोष ‘पब्लिक इनवेस्टमेंट फंड’ (PIF) को बेची है.

अब सऊदी अरब के संपत्ति कोष PIF ने Jio प्लेटफार्म्स में खरीदी 2.32 प्रतिशत हिस्सेदारी

प्रतीकात्मक.

खास बातें

  • सऊदी अरब के संपत्ति कोष ‘पब्लिक इनवेस्टमेंट फंड’ ने खरीदी हिस्सेदारी
  • जियो प्लेटफार्म्स में 2.32 प्रतिशत हिस्सेदारी 11,367 करोड़ रुपये हुआ सौदा
  • रिलायंस जियो प्लेटफार्म्स में 25 प्रतिशत तक हिस्सेदारी बेच चुकी है
नई दिल्ली:

रिलायंस इंडस्ट्रीज ने गुरुवार को कहा कि उसने अपनी डिजिटल इकाई जियो प्लेटफार्म्स में 2.32 प्रतिशत हिस्सेदारी 11,367 करोड़ रुपये में सऊदी अरब के संपत्ति कोष ‘पब्लिक इनवेस्टमेंट फंड' (PIF) को बेची है. कुल मिलाकर कंपनी अप्रैल से लेकर अब तक अपनी डिजिटल इकाई में हिस्सेदारी बेचकर करीब 1.16 लाख करोड़ रुपये जुटा चुकी है. इसकी शुरुआत 22 अप्रैल से फेसबुक के निवेश के साथ हुई. रिलायंस अब तक जियो प्लेटफॉर्म्स में कुल मिलाकर 25 प्रतिशत तक हिस्सेदारी बेच चुकी है. कंपनी ने एक बयान में कहा कि सऊदी सरकारी संपत्ति कोष का निवेश 4.91 लाख करोड़ रुपये के इक्विटी मूल्य और 5.16 लाख करोड़ रुपये के उपक्रम मूल्य के आधार पर हुआ है.

इस निवेश के साथ जियो प्लेटफार्म्स में फेसबुक, सिल्वर लेक, विस्ता इक्विटी पार्टनर्स, जनरल अटलांटिक, केकेआर, मुबाडला, एडीआईए, टीपीजी और एल काटेर्टन ने अप्रैल 2020 से अब तक 1,15,693.95 करोड़ रुपये का निवेश कर चुके हैं. बयान के अनुसार, ‘PIF के अतिरिक्त निवेश के साथ जियो प्लेटफार्म्स ने दुनिया के महत्वपूर्ण वित्तीय निवेशकों के साथ भागीदारी की है जो भारत के लिये ‘डिजिटल सोसाइटी' दृष्टिकोण स्थापित करने में योगदान देंगे.' 

जियो प्लेटफार्म्स में ग्राहकों के हिसाब से देश की सबसे बड़ी दूरसंचार कंपनी रिलायंस जियो शामिल है। जियो 2016 में मुफ्त वॉयस कॉल और सस्ते डेटा के साथ बाजार में आई. अभी 38.8 करोड़ ग्राहकों के साथ जियो ने कई प्रतिद्वंद्वी कंपनियों को एकीकरण के लिये मजबूर किया. पिछले दो महीने से दिग्गज उद्योगपति मुकेश अंबानी की कंपनी ने करीब 14 अरब डॉलर की संपत्ति बेचने की घोषणा की। इसमें 53,124 करोड़ रुपये के राइट इश्यू की प्रक्रिया पूरी हो चुकी है. इससे रिलायंस को इस साल के अंत तक 1.61 लाख करोड़ रुपये के शुद्ध कर्ज को लौटाने में मदद मिलेगी.

PIF का यह अब तक का सबसे बड़ा निवेश है. रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक मुकेश अंबानी ने कहा, 'हमने कई दशकों तक सऊदी अरब के साथ अपने बेहतर और सार्थक संबंधों का आनंद उठाया है. PIF के जियो प्लेटफार्म में निवेश से स्पष्ट है कि तेल अर्थव्यवस्था से आगे बढ़कर यह संबंध अब भारत के ‘न्यू ऑयल' यानी डेटा-अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए आगे बढ़ रहे हैं.'

PIF के गवर्नर महामहिम यासिर अल-रुम्यायन ने कहा, 'हमें एक अनूठे व्यवसाय में निवेश करने की खुशी है, जो भारत में प्रौद्योगिकी क्षेत्र के परिवर्तन में सबसे आगे है. हमारा मानना है कि भारतीय डिजिटल अर्थव्यवस्था की क्षमता बहुत अधिक है और जियो प्लेटफार्म हमें उस विकास तक पहुंचने का एक शानदार अवसर प्रदान करेगा.' यह सौदा भारतीय नियामकों तथा अन्य जरूरी मंजूरी पर निर्भर है. इस सौदे से पहले रिलायंस ने जियो प्लेटफार्म्स में 22.38 प्रतिशत हिस्सेदारी फेसबुक, सिल्वर लेक जैसी इकाइयों को बेचकर 1,04,326.95 करोड़ रुपये जुटाए हैं.

Newsbeep

VIDEO: Jio-Facebook Deal: फेसबुक ने खरीदी जियो प्लेटफार्म्स की 9.99% हिस्सेदारी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com




(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)