NDTV Khabar

...तो क्या अब मोदी सरकार पर विपक्ष से ज्यादा भारी पड़ेंगे नीतीश कुमार? यह हैं नाराजगी के 10 कारण

बिहार के सीएम और जनता दल यूनाईटेड के अध्यक्ष नीतीश कुमार की बीजेपी को दो टूक- साथ हैं, लेकिन सरकार में नहीं जाएंगे

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
...तो क्या अब मोदी सरकार पर विपक्ष से ज्यादा भारी पड़ेंगे नीतीश कुमार? यह हैं नाराजगी के 10 कारण

बिहार के सीएम और जेडीयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने मोदी सरकार में शामिल न होकर अपनी नाराजगी जाहिर कर दी है.

खास बातें

  1. आनुपातिक प्रतिनिधित्व की मांग पर बीजेपी ने साधी चुप्पी
  2. सांकेतिक प्रतिनिधित्व का फॉर्मूला जेडीयू के किसी नेता को मंजूर नहीं
  3. बीजेपी बहुमत पाने के बाद अपने नियमों और शर्तों पर चलने लगी
पटना:

बिहार (Bihar) के मुख्यमंत्री और जनता दल यूनाइटेड (JDU) के राष्ट्रीय अध्यक्ष नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने शुक्रवार को साफ कर दिया कि वे बीजेपी (BJP) के साथ हैं, लेकिन केंद्र सरकार में नहीं जाएंगे. नीतीश ने इसके पीछे कई कारण गिनाए. आइए जानते हैं वे कौन-कौन से कारण हैं जिनके कारण नीतीश बीजेपी के साथ बिहार में गठबंधन तो जारी रखना चाहते हैं लेकिन अब केंद्र सरकार (Modi Government) में शामिल होने की संभावना से इनकार कर रहे हैं.

  1. नीतीश (Nitish Kumar) मोदी सरकार में शामिल होने से इसलिए इनकार कर रहे हैं क्योंकि जो आनुपातिक प्रतिनिधित्व की उन्होंने मांग रखी थी उस पर बीजेपी (BJP) के शीर्ष नेतृत्व ने चुप्पी साध ली. बिहार से बीजेपी ने अपने कोटे से पांच लोगों को मंत्रिमंडल में शामिल किया है. नीतीश के अनुसार इसके बाद अब शायद ही उनकी मांग को मानें. ऐसे में उन्होंने भविष्य में भी सरकार में शामिल होने की किसी भी संभावना को अभी से खारिज कर दिया है.
  2. केंद्र सरकार में शामिल न होने के पीछे नीतीश (Nitish Kumar) ने जो दूसरा तर्क दिया है उसके अनुसार प्रारंभ में सरकार बनाने के समय जो भी बातचीत होती है वही आखिरी बातचीत मानी जाती है. इसका मतलब यह है कि क्या बनेगा, नहीं बनेगा और सरकार में किसकी कितनी भागीदारी होगी वह सब सरकार बनने के पहले ही तय हो जाता है. नीतीश को मालूम है कि बीजेपी का सांकेतिक प्रतिनिधित्व का फ़ॉर्मूला उनकी पार्टी के किसी नेता या कार्यकर्ता को कभी मंजूर नहीं होगा. इसलिए इस विषय पर उन्होंने अभी से पूर्ण विराम लगा दिया है.
  3. नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने सरकार में शामिल न होने की घोषणा से भी महत्वपूर्ण बात यह कही है कि बिहार का जनादेश बिहार की जनता का कमाल है. यह बिहार के लोगों की जीत है. कोई यह माने कि यह हम लोगों की जीत है तो यह एक भ्रम है. नीतीश के इस कथन का सीधा अर्थ यही है कि बिहार का जनादेश न तो नरेंद्र मोदी के नाम है और न उनके चेहरे पर. यह जनादेश इससे ज़्यादा बिहार के एनडीए में शामिल दलों के आधारभूत वोटर के एक साथ आने का कमाल है.
  4. नीतीश (Nitish Kumar) ने माना कि बीजेपी को जो पूर्ण बहुमत है उसके बाद एनडीए के एजेंडे को भी ठंडे बस्ते में डाल दिया जाए तो आश्चर्य नहीं होगा. नीतीश का कहना है कि एनडीए का एजेंडा क्या होगा, वे जानेंगे कि क्या करना चाहिए, लेकिन मैंने साफ कर दिया है कि जो पिछली राज्य का पिछड़ापन है, उसे दूर करने के लिए जो भी कदम उठाने चाहिए, उठाए जाएं.
  5. नीतीश (Nitish Kumar) ने माना कि आनुपातिक प्रतिनिधित्व की उनकी मांग बीजेपी ने नहीं मानी. हालांकि इस संबंध में उन्होंने अपनी राय से बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह (Amit Shah) और राष्ट्रीय महासचिव भूपेंद्र यादव को अवगत करा दिया था. आनुपातिक प्रतिनिधित्व का क्या अर्थ होता है, नीतीश कुमार के अनुसार यह भी बीजेपी को तय करना था लेकिन बीजेपी के शीर्ष नेतृत्व ने चुनाव परिणाम आने के बाद सहयोगियों को सांकेतिक प्रतिनिधित्व से ज्यादा कुछ न देने की ठान ली थी.
  6. नीतीश ने साफ किया कि उन्होंने न तो कोई संख्या और न ही कोई नाम बीजेपी के पास भेजा था. मीडिया में इस संबंध में सारी रिपोर्ट अटकलों पर आधारित हैं जिनमें कोई तथ्य नहीं.
  7. नीतीश (Nitish Kumar) ने साफ किया कि भले ही केंद्रीय मंत्रिमंडल में अति पिछड़ा या महादलित समुदाय को कोई प्रतिनिधित्व फिलहाल नहीं दिया गया है लेकिन उनकी सरकार और पार्टी इन वर्गों के लिए पूर्व की तरह काम करती रहेगी. दरअसल उन्हें इसका अंदाजा है कि बीजेपी ने जिस तरह पांच में से चार, यानी की 80% केवल अगड़ी जाति के लोगों को मंत्रिमंडल में जगह दी है, उससे पिछड़े वर्गों में मायूसी है. आने वाले दिनों में उनमें नाराजगी भी हो सकती है इसलिए मंत्रिमंडल में न जाकर उन्होंने राजनीतिक रूप से एक सही फैसला लिया है.
  8. हालांकि नीतीश कुमार (Nitish Kumar) ने एक से अधिक बार इस बात को दोहराया कि भले ही वे सरकार में शामिल नहीं हो रहे लेकिन वे बीजेपी के साथ मिलकर काम करेंगे. लेकिन उनकी बातों से साफ है कि अपनी मांग को नहीं माने जाने के बाद वे निश्चित रूप से आने वाले दिनों में भाजपा के साथ फूंक-फूंककर कदम रखेंगे.
  9. नीतीश कुमार (Nitish Kumar) की बातों से शुक्रवार को साफ झलका कि जिस बुलंदी से उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) को एक बार फिर जनादेश दिलाने के लिए प्रचार-प्रसार किया, वहीं बीजेपी और मोदी बहुमत का आंकड़ा पार करने के बाद अपने नियमों और शर्तों के अनुसार उनसे यह अपेक्षा करने लगे कि गठबंधन उनकी शर्तों के अनुसार चलेगा.
  10. नीतीश कुमार के तेवर से स्पष्ट है कि मौन रखकर पूरे प्रचार अभियान के दौरान उन्होंने जिम्मेदार सहयोगी की भूमिका निभाई, अब बीजेपी सांकेतिक प्रतिनिधित्व का फ़ॉर्मूला देकर उनसे उम्मीद नहीं कर सकती कि वे (Nitish Kumar) अब चुप रहेंगे. इसलिए आने वाले समय में विपक्ष से ज्यादा मुखर नीतीश कुमार हर मुद्दे पर रहें तो यह आश्चर्य की बात नहीं होगी.


टिप्पणियां

VIDEO : सरकार में सांकेतिक हिस्सेदारी की जरूरत नहीं



NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement