ओडिशाः विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, दो बड़े नेताओं सहित कई कार्यकर्ता बीजेपी में शामिल

ओडिशा में विधानसभा चुनाव (Odisha Legislative Assembly election) से पहले वरिष्ठ कांग्रेस नेता पद्मलोचन पंडा (Padmalochan Panda) और सुभंकर मोहपात्रा (Subhankar Mohapatra) भाजपा में शामिल हो गए.

ओडिशाः विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका, दो बड़े नेताओं सहित कई कार्यकर्ता बीजेपी में शामिल

ओडिशा के वरिष्ठ कांग्रेस नेता पद्मलोचन पंडा और सुभंकर मोहपात्रा सहित कई अन्य नेता बीजेपी में शामिल हुए हैं.

खास बातें

  • ओडिशा में 2019 के विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस को बड़ा झटका
  • दो बड़े नेता कई समर्थकों के साथ हुए बीजेपी में शामिल
  • केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने दिलाई सदस्यता
नई दिल्ली:

ओडिशा में विधानसभा चुनाव (Odisha Legislative Assembly election) से पहले कांग्रेस(Congress) को बड़ा झटका लगा है. वरिष्ठ कांग्रेस नेता पद्मलोचन पंडा (Padmalochan Panda) और सुभंकर मोहपात्रा (Subhankar Mohapatra) कई अन्य नेताओं और कार्यकर्ताओं के साथ भाजपा(BJP) में शामिल हो गए. उन्होंने केंद्रीय मंत्री धर्मेंद्र प्रधान की मौजूदगी में बीजेपी की सदस्यता ग्रहण की. यह हाल तब रहा, जबकि जून में ही कांग्रेस  ओडिशा विधानसभा चुनाव के लिए वीडी सतीशन के नेतृत्व में स्क्रीनिंग कमेटी बनाकर तैयारियों में जोर-शोर से जुटी है. इस कमेटी में जितिन प्रसाद और नौशाद सोलंकी जैसे सदस्य हैं. 

नवीन पटनायक ने शाह के दावे की उड़ाई खिल्ली
ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने भाजपा प्रमुख अमित शाह के अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में 120 से ज्यादा सीटें जीतने के दावे की शुक्रवार को खिल्ली उड़ाई. पटनायक ने यह भी कहा कि सरकार ने कभी भी पश्चिमी जिलों की उपेक्षा नहीं की है जैसा शाह ने आरोप लगाया है. बीजू जनता दल(बीजद) प्रमुख ने यहां संवाददाताओं से कहा,‘राज्य सरकार ने कभी भी पश्चिमी ओडिशा के जिलों की उपेक्षा नहीं की है. जैसा कि आप देख सकते हैं कि हम उस क्षेत्र के चहुमुखी विकास के लिए काम कर रहे हैं.' बोलंगीर में एक जनसभा को संबोधित करते हुए शाह ने आरोप लगाया था कि बीजद सरकार ओडिशा के पश्चिमी जिलों की उपेक्षा कर रही है.शाह ने कहा था, ‘नवीन पटनायक ने पश्चिमी क्षेत्र के लिए सौतेली मां का रवैया अपनाया है. समूचे राज्य में सिंचाई के तहत आने वाला क्षेत्र 33 प्रतिशत है जो पश्चिमी क्षेत्र में सिर्फ 11 फीसदी है.

यह दिखाता है कि नवीन बाबू ने पश्चिमी जिलों से न्याय नहीं किया है.' भाजपा की पश्चिमी ओडिशा में मजबूत मौजूदगी है. पटनायक ने शाह के इस दावे की खिल्ली उड़ाई कि भाजपा अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव में 147 सीटों में से 120 सीटें जीत लेगी. मुख्यमंत्री ने हंसते हुए कहा, ‘मेरे ख्याल से यह(शाह का दावा) बहुत बहुत ज्यादा है. मुझे उनके दावे में कोई आधार नहीं दिखता है.' अपनी ओडिशा यात्रा के पहले दिन चार अप्रैल को शाह ने राज्य में 120 से ज्यादा सीटें जीतने के भाजपा के लक्ष्य का जिक्र नहीं किया. भाजपा प्रमुख ने पिछले साल सितंबर में राज्य की अपनी यात्रा के दौरान ‘120 से ज्यादा' सीटें जीतने का लक्ष्य निर्धारित किया था.

 
Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com