NDTV Khabar

ओम प्रकाश राजभर ने बीजेपी को फिर दिखाई 'आंख', कहा-मांगें नहीं मानी तो यूपी में लड़ेंगे अकेले

ओमप्रकाश राजभर ने सरकार को चेतावनी देते हुये कहा है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गयी तो 24 फरवरी के बाद वह प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा कर देंगे.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ओम प्रकाश राजभर ने बीजेपी को फिर दिखाई 'आंख', कहा-मांगें नहीं मानी तो यूपी में लड़ेंगे अकेले

ओम प्रकाश राजभर (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. ओम प्रकाश राजभर ने बीजेपी को फिर दी चेतावनी
  2. 24 फरवरी तक का दिया समय
  3. ति पिछड़ा सामाजिक न्याय कमेटी की रिपोर्ट को लागू करने की मांग
आजमगढ़:

उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री और सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने सरकार को चेतावनी देते हुये कहा है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गयी तो 24 फरवरी के बाद वह प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने की घोषणा कर देंगे. राजभर ने रविवार को यहां कहा कि सुभासपा पिछले 22 महीने से सरकार में शामिल है. शिक्षा के सवाल पर, पिछड़ों में आरक्षण के बंटवारे के सवाल पर लगातार इस सरकार को जगाने का प्रयास कर रही है. उत्तर प्रदेश सरकार ने अति पिछड़ा सामाजिक न्याय कमेटी बनाई थी उस कमेटी ने अक्टूबर में रिपोर्ट दी थी कि आरक्षण को तीन श्रेणी-पिछड़ा,अति पिछड़ा,सर्वाधिक पिछड़ा में बांट दिया जाए. 

यूपी में NDA के सहयोगी का BJP से 'आर-पार' का ऐलान: अगर मोदी सरकार ने वादा पूरा नहीं किया, तो लड़ेंगे 80 सीटों पर चुनाव


अक्टूबर महीने में रिपोर्ट देने के बाद भी सरकार अब उसे लागू नहीं कर रही है. उन्होंने गरीब सवर्णों को 10 फीसदी आरक्षण दिए जाने का स्वागत किया ,लेकिन पिछड़े दलितों में भी गरीब हैं उन्हें भी अलग आरक्षण की मांग की. सुभासपा अध्यक्ष ने कहा कि यह उनकी नाराजगी नहीं है यह उनका अधिकार है और 24 फरवरी तक सरकार ने उनकी बात नहीं मानी तो उत्तर प्रदेश की 80 लोकसभा सीटों पर अकेले दम पर चुनाव लड़ेंगे. 

यूपी के मंत्री बोले- हिंदू मुस्लिम दंगों में नेता क्यों नहीं मरते? अब कोई भी नेता भड़काए तो उसे ही आग लगा दो

टिप्पणियां

उन्होंने साफ किया कि उनकी मांग को अनसुना किया गया तो नुकसान भारतीय जनता पार्टी को उठाना पड़ेगा, पहले उनकी पार्टी पूर्वांचल के 32 सीटों पर प्रभावी थी लेकिन अब पश्चिमी उत्तर प्रदेश सहित पूरे प्रदेश की 80 सीटों पर पार्टी की हैसियत बढ़ी है, क्योंकि वह सरकार में रहते हुए जनता की समस्याओं को लेकर सरकार के खिलाफ बिगुल बजाया है. एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी में प्रियंका गांधी के सक्रिय होने का कोई खास फर्क नहीं पड़ेगा हां यह जरूर है कि कांग्रेस के कार्यकर्ताओं में जोश बढ़ा है.  (इनपुट भाषा से) 

Video:बिहार की रार खत्म तो यूपी में खींचतान शुरू, अब ओपी राजभर नाराज



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement