NDTV Khabar

उमर अब्दुल्ला ने ट्रंप के 'कश्मीर मुद्दे' पर दिए बयान पर कहा- भारत सरकार अमेरिकी राष्ट्रपति को झूठा कहेगी या...

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान (Imran Khan) से मुलाकात के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कहा था कि अगर भारत और पाकिस्तान चाहें तो वह कश्मीर पर मध्यस्थता के लिए तैयार हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उमर अब्दुल्ला ने ट्रंप के 'कश्मीर मुद्दे' पर दिए बयान पर कहा- भारत सरकार अमेरिकी राष्ट्रपति को झूठा कहेगी या...

नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला (फाइल फोटो)

नई दिल्ली:

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान (Imran Khan) से मुलाकात के बाद अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) ने कहा था कि अगर भारत और पाकिस्तान चाहें तो वह कश्मीर पर मध्यस्थता के लिए तैयार हैं. डोनाल्ड ट्रंप  (Donald Trump) ने दावा किया था कि पीएम मोदी (PM Modi) ने उनसे कश्मीर मसले पर मदद मांगी थी. हालांकि जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री एवं नेशनल कांफ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला ने सोमवार को हैरानी जतायी कि भारत सरकार अमेरिकी राष्ट्रपति को झूठा कहेगी या फिर इस विवाद में तीसरे पक्ष की मध्यस्थता को लेकर भारत ने अपनी स्थिति बदल ली है.

केंद्र सरकार ऐतिहासिक सूचना का अधिकार कानून-2005 को पूरी तरह से खत्म करने पर उतारू है : सोनिया गांधी

अब्दुल्ला ने ट्वीट किया, ‘‘व्यक्तिगत तौर पर मुझे लगता है कि डोनाल्ड ट्रम्प चौंकाने वाली बात कर रहे हैं कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने कश्मीर मुद्दे को सुलझाने में अमेरिका को शामिल होने का अनुरोध किया है, हालांकि मैं यह देखना चाहता हूं कि क्या ट्रम्प के दावे पर विदेश मंत्रालय उन्हें मदद के लिये कहेगा.''


बता दें कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में ट्रम्प ने सोमवार को कहा कि मोदी दो हफ्ते पहले उनके साथ थे और उन्होंने कश्मीर मामले पर मध्यस्थता की पेशकश की थी. ट्रम्प ने यह भी कहा कि मुझे लगता है कि भारत हल चाहता है और पाकिस्तान भी. यह मसला 70 साल से चल रहा है. मुझे इसमें मध्यस्थता करने पर खुशी होगी. 

कश्मीर पर मध्यस्थता की ट्रंप की पेशकश पर बोले पाक पीएम, कहा- इसे सिर्फ दो पक्ष नहीं सुलझा सकते

गौरतलब है कि भारत के विदेश मंत्रालय ने ट्रम्प द्वारा इस संबंध में दावा किए जाने के कुछ ही देर में उसे सिरे से खारिज कर दिया और कहा कि उसका रूख हमेशा से यही रहा है कि भारत-पाकिस्तान के बीच मुद्दे द्विपक्षीय तरीके से सुलझाए जाएंगे. बता दें कि भारत-पाक रिश्ते पर ट्रंप ने ओवल ऑफिस में कहा था कि यदि मैं मदद कर सकता हूं, तो मैं एक मध्यस्थ होना पसंद करूंगा.

टिप्पणियां

(इनपुट भाषा से भी)

Video: कश्मीर पर मध्यस्थता के लिए तैयार डोनाल्ड ट्रंप



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement