NDTV Khabar

उर्जित पटेल के इस्तीफे पर रघुराम राजन ने कहा- हर भारतीय को चिंतित होना चाहिए

आरबीआई के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने कहा कि आर्थिक वृद्धि और विकास के लिए संस्थानों की मजबूती जरूरी

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
उर्जित पटेल के इस्तीफे पर रघुराम राजन ने कहा- हर भारतीय को चिंतित होना चाहिए

रघुराम राजन (फाइल फोटो).

खास बातें

  1. कहा- यह जानने की कोशिश होनी चाहिए कि यह गतिरोध क्यों बना
  2. कौन सी वजह रही जिससे पटेल को यह कदम उठाना पड़ा
  3. रिजर्व बैंक के निदेशक मंडल की प्रकृति में बड़ा बदलाव आया
नई दिल्ली:

रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नर रघुराम राजन ने उर्जित पटेल के इस्तीफे पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा है कि ‘‘हर भारतीय'' को इससे चिंतित होना चाहिए क्योंकि आर्थिक वृद्धि और विकास के लिए संस्थानों की मजबूती जरूरी है.

रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने तुरंत प्रभाव से अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. सरकार के साथ कई मुद्दों को लेकर उनके मतभेद बने हुए थे और सरकार की ओर से अभूतपूर्व कदम उठाए जाने (धारा सात के तहत निर्देश) की आशंका बनी हुई थी.

राजन ने एक समाचार चैनल से कहा, ‘‘मेरा मानना है कि डॉ पटेल ने अपना वक्तव्य दे दिया है और मैं समझता हूं कि कोई नियामक अथवा जन सेवक यही अंतिम वक्तव्य दे सकता है. मेरा मानना है कि वक्तव्य का सम्मान होना चाहिए.'' उन्होंने कहा, ‘‘हमें इसके विस्तार में जाना चाहिए, कि यह गतिरोध क्यों बना. कौन सी वजह रही जिससे यह कदम उठाना पड़ा.''

यह भी पढ़ें : पीएम मोदी ने कहा- महान विरासत छोड़कर जा रहे हैं उर्जित पटेल, हमें उनकी कमी काफी खलेगी


रिजर्व बैंक के गवर्नर पद से सितंबर 2016 में सेवामुक्त हुए राजन ने कहा, ‘‘मैं समझता हूं कि यह ऐसी बात है जिसे सभी भारतीयों को समझना चाहिए क्योंकि हमारी सतत वृद्धि और अर्थव्यवस्था के साथ न्याय के लिए हमारे संस्थानों की मजबूती वास्तव में काफी महत्वपूर्ण है.'' रिजर्व बैंक की शक्तियों के बारे में राजन ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक के संचालन के मामले में रिजर्व बैंक के निदेशक मंडल की प्रकृति में ‘‘बड़ा बदलाव'' आया है. निदेशक मंडल एक परिचालन वाला बोर्ड बना, परिचालन संबंधी निर्णय के लिए है.''

यह भी पढ़ें : RBI के गवर्नर उर्जित पटेल ने निजी कारणों का हवाला देते हुए दिया इस्तीफा

रिजर्व बैंक के गवर्नर रहते हुए रघुराम राजन के भी सरकार के साथ मतभेद थे यही वजह रही कि उन्होंने पहला कार्यकाल पूरा होने के बाद उन्हें दूसरा कार्यकाल नहीं दिया गया. राजन ने कहा कि पहले रिजर्व बैंक का निदेशक मंडल सलाहकार की भूमिका निभाता था जिस पर केन्द्रीय बैंक के पेशेवर फैसला लेते थे. राजन का संकेत संभवत: आरबीआई निदेशक मंडल में आरएसएस विचारक एस गुरुमूर्ति और सहकारी बैंकिंग क्षेत्र के विशेषज्ञ एसके मराठे की हाल में नियुक्ति की ओर था.

टिप्पणियां

VIDEO : उर्जित पटेल ने दिया इस्तीफा

पटेल के इस्तीफे को लेकर उसी समय से चर्चा चल रही थी जबसे सरकार की ओर से रिजर्व बैंक कानून की धारा सात के इस्तेमाल की बात की जा रही थी. इस धारा के तहत सरकार रिजर्व बैंक गवर्नर को सीधे निर्देश दे सकती है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement