NDTV Khabar

वार्ताकार की नियुक्ति के बाद भी जारी रहेंगे आतंकवाद विरोधी अभियान : वरिष्ठ रक्षा सूत्र

घाटी से आतंकवादियों का सफ़ाया भी शांति की दिशा में उठाया गया कदम ही है. इसलिए घाटी में सेना के ऑपरेशन में और कश्मीर में वार्ताकार की नियुक्ति के कदम में कोई आपसी विरोधाभास नहीं है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
वार्ताकार की नियुक्ति के बाद भी जारी रहेंगे आतंकवाद विरोधी अभियान : वरिष्ठ रक्षा सूत्र

भारतीय सेना का जवान.

खास बातें

  1. कश्मीर में बातचीत के लिए वार्ताकार नियुक्त
  2. वार्ताकार की नियुक्ति के बाद भी सेना चलाएगी अभियान
  3. वरिष्ठ रक्षा सूत्रों ने एनडीटीवी को बताया.
नई दिल्ली: कश्मीर में वार्ताकार की नियुक्ति का राज्य में आतंकवादियों के खिलाफ जारी सैन्य अभियानों पर कोई फर्क़ नहीं पड़ेगा. सरकार को आतंकवादियों के सफाए के लिए जो करना है वह करती रहेगी. आगे भी सुरक्षा बलों द्वारा आतंकवादियों को ढूंढकर सफाए का काम जारी रहेगा. घाटी से आतंकवादियों का सफ़ाया भी शांति की दिशा में उठाया गया कदम ही है. इसलिए घाटी में सेना के ऑपरेशन में और कश्मीर में वार्ताकार की नियुक्ति के कदम में कोई आपसी विरोधाभास नहीं है.

यह भी पढ़ें : राज्य की सत्ता मिली तो जम्मू-कश्मीर के विभिन्न क्षेत्रों को स्वायत्तता देंगे : फारुक अब्दुल्ला

जब दो तीन आतंकवादी हमले हुए और ऐसा लगा कि क्या देश को जवाब नहीं देना चाहिए. तभी सर्जिकल स्ट्राइक की गयी. किसी सर्जिकल स्ट्राइक में कितना अंदर जाना है और कितनी बड़ी सर्जिकल स्ट्राइक करनी है, इसका आकलन सेना द्वारा किया जाता है. बिना राजनीतिक इच्छाशक्ति के सर्जिकल स्ट्राइक होना संभव नहीं है.
VIDEO: चिदंबरम ने कश्मीर पर दिया विवादित बयान

हाल ही में म्यांमार बॉर्डर के पास जो हुआ वो सर्जिकल स्ट्राइक नहीं थी. वो आर्मी की तरफ से एक संतुलित रिस्पांस था जो देश की सीमाओं के अंदर रहते हुए ही किया गया था.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement