झारखंड के गोड्डा में डोजर पलटने से ऑपरेटर की मौत

घटना को लेकर राजमहल कोयला परियोजना के कामगारों में आक्रोश, सुरक्षा मानकों को आनदेखा करने का आरोप

झारखंड के गोड्डा में डोजर पलटने से ऑपरेटर की मौत

झारखंड के गोड्डा में डोजर पलटने से ऑपरेटर की मौत हो गई.

रांची:

झारखंड के गोड्डा में डोजर पलटने से उसके ऑपरेटर की मौत हो गई.  मृतक की पहचान बिहार के समस्तीपुर जिले के सुल्तानपुर गांव निवासी राजीव कुमार सिंह के रूप में की गई है. यह दुर्घटना राजमहल परियोजना में कार्यरत निजी कंपनी आरसीएमएल के कोयला डंपिंग स्थान पर हुई.

बताया जाता है कि डोजर ऑपरेटर राजीव कुमार सिंह ने दो दिन पहले ही ड्यूटी ज्वाइन की थी. शुक्रवार को प्रथम पाली में वह डोजर संख्या टीडी64 से माइनिंग सरदार मनीष कुमार की निगरानी में बिड़ला की कोयला डम्पिंग साइड में डम्प को समतल कर रहा था. इसी दौरान डोजर को पीछे करने के क्रम में संतुलन बिगड़ गया और उसका डोजर पलट गया.  राजीव की उसी में दबकर दर्दनाक मौत हो गई. इसके बाद आनन-फानन में वर्कशॉप एजेंट के इशारे पर मिचीगन मशीन से उसे बाहर निकला गया. बताया जाता है कि हंगामा न हो इसलिए शव को फौरन परियोजना अस्पताल, ऊर्जानगर लाया गया.  वहां डाक्टरों ने उसे  मृत घोषित करने की औपचारिकता पूरी की.

इस घटना को लेकर राजमहल कोयला परियोजना के कामगारों में  नाराजगी व आक्रोश देखा जा रहा है. घटना स्थल पर पहुंचे जीएम खनन डीके नायक के सामने ही कामगारों  ने जर्जर डोजर तथा सुरक्षा मनकों को दरकिनार कर उनसे जबरन काम कराने के मामले पर आक्रोश व्यक्त किया.

जो डोजर दुर्घटनाग्रस्त हुआ, उसमें साइड दरवाजे के दोनों और कांच भी नहीं लगे हैं और न ही सीट बेल्ट है. जबकि सुरक्षा के लिहाज से इन दोनों का होना बेहद जरूरी माना जाता है. एकॉ मैनेजमेंट सवालो के घेरे में है. आउटसोर्सिंग कम्पनी बिड़ला की साइड पर इसीएल कि डोजर एवं कर्मी क्यों काम कर रहा था उसे वहां काम करने का निर्देश किस अधिकारी ने दिया था?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com