NDTV Khabar

तमिलनाडु में कार्टूनिस्ट बाला की गिरफ्तारी पर यह है देश के मशहूर कार्टूनिस्टों की राय...

तमिलनाडु में एक राजनीतिक कार्टून को लेकर कार्टूनिस्ट की गिरफ्तारी ने एक बार फिर से अभिव्यक्ति की आज़ादी को लेकर सरकारों की बढ़ रही असहिष्णुता को लेकर सवाल उठने लगे हैं

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तमिलनाडु में कार्टूनिस्ट बाला की गिरफ्तारी पर यह है देश के मशहूर कार्टूनिस्टों की राय...

तमिलनाडु में कार्टूनिस्ट बाला की गिरफ्तारी पर यह है देश के मशहूर कार्टूनिस्टों की राय

खास बातें

  1. कार्टूनिस्ट की गिरफ्तारी पर देश के मशहूर कार्टूनिस्टों ने दी अपनी राय
  2. सरकारों की बढ़ रही असहिष्णुता को लेकर सवाल उठने लगे हैं.
  3. अभिषेक तिवारी ने कहा कि उनका बनाया कार्टून आम आदमी के पक्ष में था
नई दिल्ली:

तमिलनाडु में एक राजनीतिक कार्टून को लेकर कार्टूनिस्ट की गिरफ्तारी ने एक बार फिर से अभिव्यक्ति की आज़ादी को लेकर सरकारों की बढ़ रही असहिष्णुता को लेकर सवाल उठने लगे हैं. इसी बारे में कार्टूनिस्टों की राय जानने के लिए हमने देश के कुछ जाने माने कार्टूनिस्ट से बात की. राजस्थान में राज्य सरकार के खिलाफ जमकर आवाज़ उठाने वाले अखबार राजस्थान पत्रिका के ग्रुप कार्टूनिस्ट अभिषेक तिवारी कहते हैं कि सबसे पहले हमें ये देखना चाहिए कि यह कार्टून किसके पक्ष में खड़ा था. मुझे लगता है कि ये उस आम आदमी के पक्ष में खड़ा था, जिसने आत्मदाह किया. कार्टूनिस्ट ने व्यवस्था को निशाना बनाया उसकी कमियों के लिए. इतनी सी बात पर क्या कार्टून को आप जेल में डाल देंगे? कार्टूनिस्ट कार्टून नहीं बनाएगा, पत्रकार खबर नहीं लिखेगा, व्यवस्था पर सवाल नहीं खड़े करेगा तो क्या करेगा? हम किस ओर जा रहे हैं यह कैसी नजीर पेश कर रहे हैं?
 

abhishek

व्यवस्था के अंधेरे कमरे में कैद व्यक्ति के लिए कार्टून एक रोशनदान है, उसे भी बंद कर देना चाहते हैं ये लोग. पर कार्टूनिस्ट कृतिश भट्ट अभिव्यक्ति की आजादी को इस तरह से इस्तेमाल किये जाने को लक्ष्मण रेखा लांघना मानते हैं. कृतिश का मानना है कि हर समाज की अपनी परंपरा होती है और हमें उसके दायरे को नहीं लांघना चाहिए. उन्हें लगता है कि कार्टून में किसी के कपड़े उतार कर रख देना भी ठीक नहीं है. हालांकि रितेश ये जोड़ना भी नहीं भूलते कि सरकार ने जरूरत से ज्यादा कठोर तरीका अपनाया है.
 
kritish

वरिष्ठ कार्टूनिस्ट इरफान खान भी विवादित कार्टून को अच्छी श्रेणी में नहीं रखते. हालांकि, उनका भी यही कहना है कि सरकार पहले चेतावनी तो दे सकती थी. इरफान खान ये भी बताते हैं कि उन्होंने बाला से बात भी की और ये समझने की कोशिश भी कि इस तरफ कि कार्टून बनाने से उन्हें बचना चाहिए पर बाला ने इरफ़ान को बताया कि एक इंसान के साथ हुए हादसे से वो इतने गुस्से में थे कि उन्होंने ये कार्टून बनाया. 
 
irfan

यह भी पढ़ें: तमिलनाडु में मुख्यमंत्री का विवादित कार्टून बनाने को लेकर कार्टूनिस्ट गिरफ्तार
टिप्पणियां

पहले भी सरकारें इस तरह की कार्रवाई करती रही है और कार्टूनिस्ट असीम त्रिवेदी भी उनमे से एक हैं. असीम का कहना है कि कार्टून में एक प्रतीकात्मक बोध होता है. बाला ने कार्टून में जो कुछ दिखाया वो बेशर्मी को दिखने का एक प्रतीकात्मक तरीका है. मेरे ख्याल से ये बहुत शानदार तरीका था. बाला की आवाज़ में मेरी भी आवाज शामिल है और हजारों पत्रकारों कार्टूनिस्टों की आवाज शामिल है.

aseem

यह भी पढ़ें: वायरल वीडियो की सच्चाई बताएगी Check4spam, दो इंजीनियरों ने तैयार की वेबसाइट

हिंदुस्तान अखबार की कार्टूनिस्ट पवन टून कहते हैं कि पहले की तुलना में अब नेता हास्य बर्दास्त काम ही करते हैं. यही कारण है कि माध्यम कार्टून का हो या लिखने का, आलोचना होने पर गिरफ़्तारी जैसे कठोर कदम आम होते जा रहे हैं. पवन एक दिलचस्प प्रसंग का जिक्र करते हुए बताते हैं कि किस तरफ पंडित नेहरू ने शंकर पिल्लई के कार्टून्स को देखते-विमोचन करते हुए कहा था-शंकर मुझे कभी बख्शना मत. आज के दौर के नेताओं में आलोचना को यूं गंभीरता से लेने की सहनशक्ति काफी काम होती चली जा रही है.
 

pawan

वहीं, इंडिया टुमॉरो के कार्टूनिस्ट युसूफ मुन्ना का मन्ना है की एक कार्टून को लेकर जिस तरह पुलिस, प्रशासन और सरकार सक्रियता दिखायी है वैसी सक्रियता कर्ज से पीड़ित परिवार को बचाने के लिये दिखाना चाहिए था.
 
yusuf

VIDEO: तमिलनाडु में सीएम का कार्टून बनाने वाले शख्स को मिली जमानत
राज्य सरकार अब अपनी खीझ कार्टूनिस्ट बाला पर उतार कर मीडिया की आवाज को दबाना चाहती है जो निन्दनीय है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement