NDTV Khabar

विपक्ष की मोदी सरकार को नसीहत, राज्यों के मामलों में न करें 'अनावश्यक हस्तक्षेप'

बैठक में शामिल होने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि मेरे ख्याल से केंद्र को सहकारी संघवाद का पालन करना चाहिए.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
विपक्ष की मोदी सरकार को नसीहत, राज्यों के मामलों में न करें 'अनावश्यक हस्तक्षेप'

पीएम मोदी की फाइल फोटो

खास बातें

  1. ममता ने कहा केंद्र सरकार को राज्यों की बेहतरी के लिए काम करना चाहिए
  2. आंध्र प्रदेश के सीएम ने भी किसानों के कर्ज माफी की बात कही
  3. नीति आयोग में बैठक के दौरान रखी बात
नई दिल्ली: दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल द्वारा राज्य में गतिरोध के लिए केंद्र को जिम्मेदार ठहराने के बाद अब विपक्ष ने भी मोदी सरकार पर हमला बोला है. नीति आयोग की बैठक में प्रमुख विपक्षी दलों ने मोदी सरकार को राज्यों के मामलों से दूर रहने की नसीहत दी है. खास तौर पर गैर-भाजपा शासित राज्यों के मुख्मंत्रियों ने इस बैठक में जोर देकर कहा कि केंद्र सरकार को चाहिए कि वह अनावश्यक राज्यों के किसी मामले में हस्तक्षेप करने से बंचे. इस बैठक में गैर-भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने कहा कि केंद्र को सहकारी संघवाद का पालन करना चाहिए. विपक्षी पार्टियों के मुख्यमंत्रियों ने राजग सरकार पर संविधान के संघीय ढांचे को कमजोर करने का आरोप भी लगाया.

यह भी पढ़ें: मुख्यमंत्रियों से ना मिलने देने पर बोले केजरीवाल, ‘इसमें PM मोदी का हाथ है’

बैठक में शामिल होने के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि मेरे ख्याल से केंद्र को सहकारी संघवाद का पालन करना चाहिए और राज्य के मामलों में गैर - जरूरी दखल नहीं देना चाहिए. उन्होंने कहा कि केंद्र को चाहिए कि वह सहकारी संघीय ढांचे को मजबूत बनाने पर काम करे. वहीं आंध्र प्रदेश , केरल और कर्नाटक जैसे राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने इस बैठक में किसानों के कृषि ऋण माफी का मुद्दा उठाया. कर्नाटक के मुख्यमंत्री एच डी कुमारस्वामी ने अपने संबोधन में इस योजना को लागू करने के लिए केंद्र की तरफ से 50 प्रतिशत मदद की मांग की. वहीं 15वें वित्त आयोग के मुद्दे पर विपक्षी मुख्यमंत्रियों ने अपनी शंकाएं जाहिर कीं और केंद्र से इसकी शर्तों को नये सिरे से परिभाषित करने का आग्रह किया.

यह भी पढ़ें: अरविंद केजरीवाल के समर्थन में आए 4 राज्यों के मुख्यमंत्री, PM के सामने उठाएंगे मुद्दा

इस बीच, ममता बनर्जी ने नीति आयोग के खिलाफ आवाज उठाते हुए कहा कि यह राज्यों के लिए कुछ नहीं करता है. गौरतलब है ममता बनर्जी ने शनिवार को दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल से न मिलने दिए जाने पर केंद्र सरकार पर कई गंभीर आरोप लगाए थे. उन्होंने कहा था कि दिल्ली का अगर ये हाल है तो बाहर बहुत गलत मैसेज जा रहा है. अगर कोई बीजेपी का मुख्यमंत्री भी कहता है तो हम उसको भी सुनेंगे. हम LG को संवैधानिक संस्था मानते हैं. हम लोकतंत्र को मानते हैं, लेकिन हम मुख्यमंत्री के साथ नहीं मिल पा रहे हैं.

यह भी पढ़ें: ममता, चंद्रबाबू नायडू सहित चार मुख्यमंत्रियों को नहीं मिली केजरीवाल से मिलने की इजाजत

मैं किसी पर आरोप नहीं लगाना चाहती हूं कि कौन इस परिस्थिति के लिए जिम्मेदार है. हमारी भी इज्जत है हम ऐसे सड़क पर मार्च नहीं कर सकते हैं. अगर LG इजाजत नहीं देंगे तो हम क्या करेंगे. हम सरकार और अधिकारी दोनों की इज्जत करेंगे. हम मारपीट पर चर्चा नहीं करेंगे.पश्चिम बंगाल की सीएम ने कहा कि दिल्ली में आज कई तरह की समस्या है. साथ काम न करने की वजह से आम जनता का नुकसान हो रहा है.

VIDEO: दिल्ली में संवैधानिक संकट- ममता बनर्जी.

टिप्पणियां


संविधान के मुताबिक हमनें उप-राज्यपाल से अनुरोध किया था कि हमें सीएम अरविंद केजरीवाल से मिलने दिया जाए. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार हमें कमजोर नहीं समझे, हम चुनी हुईं सरकारें हैं. ममता ने कहा कि छह दिन में केजरीवाल धरने पर हैं और एलजी छह मिनट का समय भी नहीं निकाल सके.  (इनपुट भाषा से) 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

विधानसभा चुनाव परिणाम (Election Results in Hindi) से जुड़ी ताज़ा ख़बरों (Latest News), लाइव टीवी (LIVE TV) और विस्‍तृत कवरेज के लिए लॉग ऑन करें ndtv.in. आप हमें फेसबुक और ट्विटर पर भी फॉलो कर सकते हैं.


Advertisement