NDTV Khabar

चीन के मुद्दे पर सरकार को समय देने के मूड में विपक्ष, संसद में फिलहाल नहीं उठाएगा डोकाला मुद्दा

संसद का मॉनसून सत्र सोमवार से शुरू हो गया. आज सत्र के दौरान गौ-रक्षकों से जुड़े घटनाक्रम, किसानों के प्रदर्शन, कश्मीर में तनाव आदि मुद्दे उठ सकते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
चीन के मुद्दे पर सरकार को समय देने के मूड में विपक्ष, संसद में फिलहाल नहीं उठाएगा डोकाला मुद्दा

संसद का मॉनसून सत्र सोमवार से शुरू हुआ है.

खास बातें

  1. विपक्ष पहले इस मुद्दे को सदन में उठाना चाहता था
  2. सर्वदलीय बैठक में भी इस मद्दे पर हुई थी चर्चा
  3. माना जा रहा था कि विपक्ष सरकार से बयान की मांग करेगा
नई दिल्ली: चीन के साथ सीमा पर जारी विवाद के बीच संसद में इस मुद्दे के उठने की उम्मीद रही है. सत्र से पहले यह कहा जा रहा था कि विपक्ष डोकलाम में भारत और चीन की सेनाओं के आमने-सामने होने का मुद्दा उठा सकती है. लेकिन अब सूत्रों का कहना है कि विपक्ष सरकार को कूटनीतिक कदम उठाने के लिए अभी कुछ और समय दे सकता है. 

संसद का मॉनसून सत्र सोमवार से शुरू हो गया. आज सत्र के दौरान गौ-रक्षकों से जुड़े घटनाक्रम, किसानों के प्रदर्शन, कश्मीर में तनाव, कुछ विपक्षी नेताओं के खिलाफ कथित भ्रष्टाचार को लेकर कानून अनुपालन एजेंसियों की कार्रवाई, सिक्किम सेक्टर में चीन के साथ जारी गतिरोध जैसे मुद्दे उठेंगे और विपक्ष इन मुद्दों पर सरकार को घेरने का प्रयास करेगा. कांग्रेस पार्टी ने भीड़ द्वारा लोगों की हत्या और मंदसौर में पुलिस द्वारा किसानों पर की गई फायरिंग के मुद्दे पर स्थगन प्रस्ताव दे दिया है. 

सोमवार को संसद में लोकसभा और राज्यसभा की कार्यवाही दोनों सदनों के वर्तमान सदस्यों के निधन के मद्देनजर उन्हें श्रद्धांजलि देने के बाद दिनभर के लिये स्थगित हो गई थी.

बता दें कि कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद कह चुके हैं कि हम भीड़ द्वारा हिंसा, किसानों की आत्महत्या के मद्देनजर कृषि संकट के मुद्दे उठाएंगे. आजाद ने कहा कि कांग्रेस सदन की कार्यवाही में व्यवधान डालने के पक्ष में नहीं है, लेकिन उन्होंने सरकार से आगे आकर मुद्दों पर चर्चा करने की अनुमति देने को कहा.

विपक्ष की ओर से आर्थिक मोर्चे पर भी सरकार को घेरने की भी संभावना है और रोजगार के अवसर एवं बेरोजगारी की समस्या को भी सदन में उठाया जा सकता है. जदयू अध्यक्ष शरद यादव ने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि वह रोजगार देने के अपने वादे को पूरा करने में विफल रही है और विपक्ष इस मुद्दे को सदन में उठायेगा. 

भाजपा ने भी कहा है कि सरकार विपक्ष की ओर से उठाये गए सभी मुद्दों पर नियमों के तहत चर्चा कराने को तैयार है. भाजपा इस बारे में जोर देती रही है कि अर्थव्यवस्था, कृषि एवं अन्य क्षेत्रों में राजग सरकार का रिकार्ड पूर्ववर्ती कांग्रेस नीत एनडीए सरकार से बेहतर है.

 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement