यह ख़बर 25 अप्रैल, 2012 को प्रकाशित हुई थी

बोफोर्स खुलासों पर विपक्ष ने सरकार से स्पष्टीकरण मांगा

बोफोर्स खुलासों पर विपक्ष ने सरकार से स्पष्टीकरण मांगा

खास बातें

  • भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने स्वीडिश पुलिस के पूर्व प्रमुख स्टेन लिंडस्टॉर्म द्वारा बोफोर्स दलाली पर किए गए खुलासों पर सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है।
नई दिल्ली:

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने स्वीडिश पुलिस के पूर्व प्रमुख स्टेन लिंडस्टॉर्म द्वारा बोफोर्स दलाली पर किए गए खुलासों पर सरकार से स्पष्टीकरण मांगा है। ताजा खुलासों में मुख्य आरोपी ओटावियो क्वोत्रोक्की को सुरक्षित रास्ता दिए जाने की बात भी शामिल है।

भाजपा ने कहा कि उसने 1980 के दशक में हुए 1,500 करोड़ रुपये के बोफोर्स तोप सौदे में इटली के व्यापारी क्वोत्रोक्की को सुरक्षित रास्ता दिए जाने पर हमेशा सवाल खड़े किए हैं। इसके साथ ही भाजपा ने आरोप लगाया कि क्वोत्रोक्की गांधी परिवार का करीबी था, और यहां से उसे आसानी से चले जाने देने के लिए सरकार को देश से माफी मांगनी चाहिए। भाजपा इस मुद्दे को संसद में भी उठाने की योजना बना रही है।

भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा, "दिवंगत राजीव गांधी की पूरी सरकार ओटावियो क्वोत्रोक्की को बचाने में जुटी हुई थी। सरकार और गांधी परिवार से आखिर क्वोत्रोक्की का क्या रिश्ता था, जो पूरी सरकार उसे बचाने में जुटी हुई थी..यह एक गम्भीर मामला है।"

प्रसाद ने कहा, "सरकार को जवाब देना चाहिए और उसे राष्ट्र से माफी मांगनी चाहिए।"

प्रसाद ने कहा, "वह गांधी परिवार का करीबी था... क्वोत्रोक्की की भूमिका की जांच एक स्वतंत्र एजेंसी से कराई जानी चाहिए, और उन सीबीआई अधिकारियों की भूमिका भी जांच कराई जानी चाहिए जिन्होंने कहा है कि क्वोत्रोक्की के खिलाफ कोई सबूत नहीं है।"

भाजपा संसदीय दल की बैठक में इस मुद्दे को संसद में एक बार फिर उठाए जाने का भी निर्णय लिया गया। प्रसाद ने कहा कि पार्टी इस मुद्दे पर एक व्यवस्थित बहस चाहेगी।

प्रसाद ने कहा, "पार्टी की संसदीय दल की बैठक में बोफोर्स घोटाले पर लम्बी चर्चा हुई... हम इस मुद्दे को संसद में उठाएंगे, हम इस पर एक व्यवस्थित बहस चाहेंगे।" उन्होंने कहा कि इस मुद्दे को बुधवार को इसलिए नहीं उठाया गया, क्योंकि कई महत्वपूर्ण विधेयक लम्बित थे और विपक्ष सदन की कार्यवाही में बाधा नहीं पैदा करना चाहता था।

भाजपा के एक अन्य नेता राजीव प्रताप रूडी ने कहा, "क्वोत्रोक्की को देश से बाहर भेजने में जिस तरह से मदद की गई थी, उससे सरकार के इरादे का एक स्पष्ट संकेत मिल गया था। हमने क्वोत्रोक्की पर हमेशा सवाल खड़े किए हैं। सरकार को इस मुद्दे पर दोबारा गौर करना चाहिए।"

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) ने लिंडस्टार्म के खुलासों पर सरकार से जवाब मांगा है। भाकपा नेता डी. राजा ने कहा, "सरकार और केद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) इस खुलासे को नजरअंदाज नहीं कर सकते। उन्हें इस पर जवाब देना होगा कि क्वोत्रोक्की को कैसे भारत से निकलने का सुरक्षित रास्ता दिया गया।"

ज्ञात हो कि वेबसाइट दहूटडॉटऑर्ग को दिए एक साक्षात्कार में लिंडस्टार्म ने कहा है कि इस बात को साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं था कि गांधी ने बोफोर्स सौदे में रिश्वत ली थी, लेकिन उन्होंने क्वोत्रोक्की को बचाने की कोशिशें बंद नहीं की थी।

Newsbeep

लिंडस्टार्म ने यह भी कहा है कि अभिनेता और तत्कालीन कांग्रेस सांसद अमिताभ बच्चन और उनके परिवार के खिलाफ मामला भारतीय जांचकर्ताओं ने स्वीडिश समाचार पत्र 'डैगेन्स निहेटर' में गढ़ा था।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


राज्यसभा सदस्य जया बच्चन ने इस पर कहा, "हम यह बात 25 वर्ष पहले ही जानते थे, लेकिन न्याय अपना पूरा समय लेता है और हमारा रुख अब सही साबित हुआ है।"