NDTV Khabar

INX Media Case: पी चिदंबरम समेत 15 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, जमानत पर फैसला सुरक्षित

सीबीआई ने चिदंबरम की जमानत का विरोध दिया, कहा- गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं, एक गवाह ने प्रभावित करने की कोशिश की बात कही है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
INX Media Case: पी चिदंबरम समेत 15 के खिलाफ चार्जशीट दाखिल, जमानत पर फैसला सुरक्षित

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम (P Chidambaram) की आईएनएक्स मीडिया भ्रष्टाचार मामले में जमानत पर सुनवाई हुई.

नई दिल्ली:

आईएनएक्स मीडिया केस (INX Media Case) में सीबीआई ने पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस के नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram), उनके बेटे कार्ति चिदम्बरम और कंपनियों समेत कुल 15 लोगों व निकायों के खिलाफ आरोप-पत्र दाखिल किया है. सीबीआई (CBI) ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि भ्रष्टाचार के इस मामले की जांच जारी है. उसने बताया कि सिंगापुर एवं मॉरीशस को भेजे गए आग्रह पत्र (लैटर्स रोगेटरी) पर जवाब का इंतजार किया जा रहा है.  सुप्रीम कोर्ट में पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर सुनवाई हुई.कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा है.

आईएनएक्स मीडिया मामले (INX Media Case) में पी चिदंबरम के खिलाफ सीबीआई ने आरोप पत्र दाखिल कर दिया है. सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि मामले में चार्जशीट दाखिल हो गई है. उन्हें गिरफ्तार करने के लिए नहीं बल्कि पूछताछ के लिए गिरफ्तार किया गया. आज इस मामले में चार्जशीट दाखिल करने का आखिरी दिन था. इस मामले में चिदंबरम, उनके बेटे, अफसरों व कंपनियों समेत 15 लोगों को आरोपी बनाया गया है.

सीबीआई ने कहा कि चिदंबरम (P Chidambaram) गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं. एक गवाह ने प्रभावित करने की कोशिश की बात कही है. उसकी जानकारी सील कवर में सीबीआई कोर्ट को दी गई है. वह गवाह इंद्राणी मुखर्जी नहीं है. सीबीआई ने कहा कि चिदंबरम को जमानत नहीं दी जानी चाहिए इससे गवाहों को प्रभावित करने की गंभीर आशंका है. SG तुषार मेहता ने कहा कि इस मामले में भ्रष्टाचार हुआ है और मनी लॉन्ड्रिंग भी चल रही है. सरकार की करप्शन को लेकर ज़ीरो टॉलरेंस की नीति है.


INX Media Case : कोर्ट ने पी चिदंबरम को ED की सात दिन की हिरासत में भेजा

सीबीआई ने कहा कि इस मामले में अफसर सिंधुश्री खुल्लर को भी आरोपी बनाया गया है. सीबीआई ने कहा कि उनकी फ्लाइट रिस्क बरकरार है. कई उदाहरण हैं कि देश में संपत्ति होने के बावजूद लोग भाग गए. चिदंबरम को जमानत नहीं मिलनी चाहिए.

सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में कहा कि केवल आईएनएक्स ही एक ऐसा मामला नहीं है जिसकी जांच चल रही है बल्कि पी चिदंबरम जब वित्त मंत्री थे उस दौरान की सभी FIPB के एप्रूवल को लेकर जांच चल रही है.

तिहाड़ जेल में 2 घंटे की पूछताछ के बाद पूर्व केंद्रीय मंत्री पी चिदंबरम को ED ने किया गिरफ्तार

पी चिदंबरम (P Chidambaram) के वकील कपिल सिब्बल ने कहा कि भले ही इस मामले में चार्जशीट दाखिल हो गई हो लेकिन वो जमानत ना देने का आधार नहीं हो सकता है. सिब्बल ने कहा कि अगर इनके आरोप-पत्र के हिसाब से मैं दोषी हूं तो ये निचली अदालत में साबित करें. इस बात को जमानत की सुनवाई के दौरान लाने का कोई मतलब नहीं है. मैं सभी सवालों का जवाब ट्रायल के दौरान दूंगा.

सिब्बल ने 2-जी मामले का उदाहरण देते हुए कहा कि 2-जी मामले में भी गंभीर आरोप लगे थे लेकिन परिणाम क्या हुआ? सिब्बल ने कहा कि इसको लेकर कोर्ट का फैसला है.

INX Media Case: पी चिदंबरम पर और कसा शिकंजा, CBI ने ED को दी पूर्व वित्त मंत्री की गिरफ्तारी की इजाजत

पी चिदंबरम के वकील सिब्बल ने कहा कि चिदंबरम का वजन जेल में रहने के दौरान लगातार घट रहा है. उनका वजन 73 किलो से 68.5 किलोग्राम हो गया है. घर के खाने के बावजूद उनकी सेहत गिर रही है.
सर्दियों में उनको डेंगू होने का भी खतरा भी है. उनको जेल में रखकर एजेंसी को कुछ भी हासिल होने वाला नहीं है. सीबीआई के पास चिदंबरम के खिलाफ सीधा कोई सबूत नहीं है. सिर्फ प्रताड़ित करना ही एजेंसी का मकसद है क्योंकि चिदम्बरम गवाहों को प्रभावित नहीं कर सकते. वैसे भी गवाहों की सुरक्षा का ज़िम्मा सरकार का ही है.

पी चिदंबरम की जमानत याचिका पर सुनवाई पूरी होने पर सुप्रीम कोर्ट ने फैसला सुरक्षित रखा.

चिदंबरम को कोर्ट से झटके के साथ राहत भी! घर में पके हुए भोजन पर CBI को ऐतराज नहीं

VIDEO : ईडी ने पी चिदंबरम को किया गिरफ्तार

टिप्पणियां



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement