NDTV Khabar

तिहाड़ जेल में बंद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम का मोदी सरकार पर हमला- Tweet कर कही यह बात...

आईएनएक्स मीडिया (INX Media Case) मामले में गिरफ्तार पूर्व वित्त मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर बुधवार को चिंता जताई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तिहाड़ जेल में बंद पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम का मोदी सरकार पर हमला- Tweet कर कही यह बात...

तिहाड़ जेल में बंद हैं पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम. (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. अर्थव्यवस्था को लेकर चिदंबरम का सरकार पर हमला
  2. चिदंबरम का ट्विटर हैंडल उनका परिवार कर रहा है इस्तेमाल
  3. INX मीडिया मामले में तिहाड़ में बंद हैं पी चिदंबरम
नई दिल्ली:

आईएनएक्स मीडिया (INX Media Case) मामले में गिरफ्तार पूर्व वित्त मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम (P Chidambaram) ने अर्थव्यवस्था की स्थिति को लेकर बुधवार को चिंता जताई. उन्होंने सवाल किया कि क्या देश को निराशा के इस दौर से बाहर निकालने की कोई योजना सरकार के पास है. तिहाड़ जेल में बंद चिदंबरम की ओर से उनके परिवार ने उनके आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर यह टिप्पणी पोस्ट की. उन्होंने कहा, 'सहयोग के लिए आप सभी लोगों का धन्यवाद. मैं कहना चाहता हूं कि मैं न्याय और अन्याय के बीच अंतर करने की गरीब लोगों की क्षमता से हैरान हो गया हूं. मुझे पिछले कुछ दिनों में उनसे मिलने और बात करने का मौका मिला.'

तिहाड़ जेल में बंद चिदंबरम बोले- किसी अधिकारी ने कुछ गलत नहीं किया, किसी की गिफ्तारी नहीं हो


चिदंबरम ने कहा, 'मुझे अर्थव्यवस्था की बहुत चिंता है. गरीब लोग सबसे बुरी तरह प्रभावित हैं. कम आय, कम नौकरियां, कम व्यापार और कम निवेश से गरीब एवं मध्यम वर्ग प्रभावित होता है.' उन्होंने सवाल किया, 'इस मुश्किल और निराशा से देश को बाहर निकलने की सरकार के पास क्या क्या योजना है?' बता दें कि चिदंबरम को सीबीआई ने आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार किया है. फिलहाल वह न्यायिक हिरासत में हैं और तिहाड़ जेल में बंद हैं.

तिहाड़ जेल में कैसे बीती पी. चिदंबरम की रात, अजीब इत्तेफाक भी जुड़ा

इसके अलावा चिदंबरम ने यह भी आरोप लगाया कि आईएनएक्स मीडिया मामला राजनीतिक प्रतिशोध से प्रेरित है और जांच एजेंसी केंद्र के इशारे पर काम कर रही है. चिदंबरम ने दिल्ली हाईकोर्ट के समक्ष दायर अपने आवेदनों में कहा, 'इस मामले में तत्काल आपराधिक कार्रवाई एक दुर्भावनापूर्ण मामला है, जोकि राजनीतिक प्रतिशोध से पैदा हुआ है. जांच एजेंसी केंद्र के इशारे पर काम कर रही है, जो कि याचिकाकर्ता की बेदाग छवि को धूमिल करना चाहती है.' चिदंबरम ने हाईकोर्ट के समक्ष दो आवेदन पेश किए, जिनमें से एक जमानत के लिए था. इसके अलावा दूसरा आवेदन पांच सितंबर को निचली अदालत द्वारा पारित उस आदेश के खिलाफ है, जिसमें उन्हें 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था. चिदंबरम ने अपनी दलीलों में आगे कहा कि वह सरकार के राजनीतिक विरोधी हैं और यह राजनीतिक प्रतिशोध का एक स्पष्ट मामला है.

चिदंबरम कभी गृहमंत्री की कुर्सी पर बैठकर करते थे तिहाड़ का बजट पास, लेकिन अब वहीं प्लास्टिक के बर्तन के लिए...

टिप्पणियां

पूर्व केंद्रीय मंत्री को पिछले गुरुवार को अदालत में पेश किए जाने के बाद विशेष सीबीआई न्यायाधीश अजय कुमार कुहर ने चिदंबरम को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया था. अदालत ने चिदंबरम द्वारा दायर किए गए आवेदनों को भी स्वीकार कर लिया था. इनमें जेड-श्रेणी की सुरक्षा के साथ एक खाट, बाथरूम के साथ एक अलग सेल और दवाओं की अनुमति मांगी गई थी. उन्होंने जेल में पश्चिमी शैली के शौचालय (इंग्लिश टॉयलेट) की भी मांग की थी.

VIDEO: पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम भेजे गए तिहाड़ जेल



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement