NDTV Khabar

तिहाड़ जेल में बंद चिदंबरम बोले- किसी अधिकारी ने कुछ गलत नहीं किया, किसी की गिफ्तारी नहीं हो

चिदंबरम को सीबीआई ने आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार किया है. फिलहाल वह न्यायिक हिरासत में हैं और तिहाड़ जेल में बंद हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
तिहाड़ जेल में बंद चिदंबरम बोले- किसी अधिकारी ने कुछ गलत नहीं किया, किसी की गिफ्तारी नहीं हो

पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम.

खास बातें

  1. तिहाड़ जेल में बंद हैं चिदंबरम
  2. परिवार ने किए उनकी ओर से ट्वीट
  3. कहा- किसी की न हो गिरफ्तारी

आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार पूर्व वित्त मंत्री एवं कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पी चिदंबरम ने सोमवार को कहा कि उनसे जुड़े मामले में किसी भी अधिकारी की गिरफ्तारी नहीं होनी चाहिए क्योंकि किसी ने कुछ गलत नहीं किया है. चिदंबरम की ओर से उनके परिवार ने उनके आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर यह टिप्पणी पोस्ट की. चिदंबरम ने कहा, 'लोगों ने मुझसे पूछा कि 'अगर मामले को सुझाने और प्रक्रिया को आगे बढाने वाले दर्जनों अधिकारियों को गिफ्तार नहीं किया गया तो आप को क्यों गिरफ्तार किया गया।"

साथ ही उन्होंने कहा, 'मेरे पास कोई जवाब नहीं है. किसी अधिकारी ने कुछ गलत नहीं किया है. मैं नहीं चाहता कि किसी की गिफ्तारी हो.' बता दें, चिदंबरम को सीबीआई ने आईएनएक्स मीडिया मामले में गिरफ्तार किया है. फिलहाल वह न्यायिक हिरासत में हैं और तिहाड़ जेल में बंद हैं.

तिहाड़ जेल में कैसे बीती पी. चिदंबरम की रात, अजीब इत्तेफाक भी जुड़ा


बता दें, पी चिदंबरम को गुरुवार शाम तिहाड़ जेल लाया गया और जेल अधिकारियों के अनुसार उन्हें एक अलग कोठरी और पश्चिमी शैली के एक शौचालय के अलावा कोई विशेष सुविधा नहीं मिलेगी. अन्य कैदियों की तरह वह जेल के पुस्तकालय का उपयोग कर सकेंगे और एक निश्चित अवधि तक टेलीविजन देख सकते हैं. आवश्यक मेडिकल जांच के बाद चिदंबरम को जेल नंबर सात में रखा गया है. आम तौर पर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के मामलों में आरोपियों को इसी जेल में रखा जाता है. उनके पुत्र कार्ति को भी पिछले साल इसी मामले में उसी कोठरी में 12 दिनों तक रखा गया था. पी चिदंबरम तिहाड़ जेल में 19 सितंबर तक रहेंगे.

टिप्पणियां

कभी PM पद के दावेदार माने जाने वाले चिदंबरम अब 'तिहाड़' में, पढ़ें- करियर में अब तक क्या-क्या हासिल किया?

VIDEO: पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम भेजे गए तिहाड़ जेल, CBI कोर्ट ने दिया आदेश



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement