पाकिस्तान में भी चीनी वीडियो ऐप TikTok बैन, बताई गई ये वजह

भारत और अमेरिका के बाद अब चीन के सबसे करीबी मित्र देश पाकिस्तान में भी चीनी वीडियो ऐप टिकटॉक पर पाबंदी लगा दी गई है.

पाकिस्तान में भी चीनी वीडियो ऐप TikTok बैन, बताई गई ये वजह

प्रतीकात्मक तस्वीर

नई दिल्ली:

भारत और अमेरिका के बाद अब चीन के सबसे करीबी मित्र देश पाकिस्तान में भी चीनी वीडियो ऐप टिकटॉक पर पाबंदी लगा दी गई है. पाकिस्तान टेलीकम्युनिकेशन अथॉरिटी ने बैन लगाते हुए हवाला दिया है कि समाज के कई वर्गों से शिकायत आ रही थी कि टिकटॉक वीडियो ऐप के ज़रिए अश्लीलता और फूहड़ता फैलाई जा रही है.

टिकटॉक ने अपने अमेरिकी कारोबार को लेकर ओरेकल और वॉलमार्ट के साथ प्रस्तावित समझौते की पुष्टि की

पाकिस्तान टेलीकम्युनिकेशन अथॉरिटी द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार, ऐप पर "अनैतिक/अशोभनीय सामग्री शेयर करने के खिलाफ कई श‍िकायतें मिली थीं. अथॉरिटी ने बताया कि टिकाटॉक को अंतिम नोटिस जारी कर जवाब देने के लिए पर्याप्त समय दिया गया था ताकि गैरकानूनी ऑनलाइन सामग्री के मॉडरेशन का कोई प्रभावी तंत्र बनाया जा सके. हालांकि, कंपनी अथॉरिटी के निर्देशों का "पूरी तरह से पालन करने में विफल रही" जिसके बाद देश में इसे प्रतिबंधित करने का फैसला किया गया.

इससे पहले 18 सितंबर को अमेरिका ने राष्ट्रीय सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए वह लोकप्रिय चीनी सोशल मीडिया ऐप टिकटॉक और वीचैट पर प्रतिबंध लगाने की घोषणा की थी. अमेरिका ने कहा था कि वे देश की संप्रभुता, अखंडता और सुरक्षा के लिये पूर्वाग्रही थे.

Newsbeep

टिकटॉक, वीचैट पर अमेरिकी प्रतिबंध के खिलाफ चीन की जवाबी कार्रवाई की चेतावनी

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


बता दें कि भारत सरकार ने 29 जुलाई को चीन के कुल 59 ऐप पर रोक लगा दी थी. इसमें टिकटॉक, वीगो वीडियो, हेलो, यूसी ब्राउजर, यूसी न्यूज, वीचैट और शेयरचैट जैसी चर्चित ऐप शामिल थे. भारत सरकार ने देश की संप्रभुता और अखंडता और डेटा सुरक्षा को खतरा बताते हुये इन ऐप को बंद किया था. लेकिन सरकार के इस निर्णय को 15 जून को लद्दाख की गलवान घाटी में भारत-चीन के बीच हुए हिंसक संघर्ष से जोड़कर देखा गया था.