NDTV Khabar

पाकिस्तानी युवक ने सुषमा स्वराज से मांगी मदद, कहा, 'अल्लाह के बाद आप ही हमारी आखिरी उम्मीद'

युवक ने कुछ दिन पहले ही सुषमा स्वराज से भारत आकर अपना इलाज कराने की अनुमति मांगी थी.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाकिस्तानी युवक ने सुषमा स्वराज से मांगी मदद, कहा, 'अल्लाह के बाद आप ही हमारी आखिरी उम्मीद'

विदेश मंत्री सुषमा स्वराज (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. पाकिस्तानी युवक ने ट्वीट कर मांगी थी मदद
  2. मानवता दिखाते हुए स्वराज ने तुरंत वीजा जारी करने को कहा
  3. लीवर ट्रांसप्लांट कराने अब भारत आ पाएगा पाकिस्तानी युवक
नई दिल्ली : भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने मानवता दिखाते हुए एक बार फिर पाकिस्तानी युवक को मडिकल वीजा देने की घोषणा की है. युवक ने कुछ दिन पहले ही सुषमा स्वराज से भारत आकर अपना इलाज कराने की अनुमति मांगी थी. युवक ने स्वराज को इस  बाबत ट्वीट कर लिखा था कि ''अल्लाह के बाद आप ही हमारी आखिरी उम्मीद" हैं. हमारी मदद करें. शाहजैब इकबाल नाम के युवक ने पाकिस्तान में भारतीय हाई कमिशन से अपने भाई के लीवर ट्रांसप्लांट के लिए भारत का वीजा मांगा था. 

यह भी पढ़ें: सुषमा ने बलात्कार और पुलिस ज्यादतियों पर जताई गहरी चिंता

इकबाल के ट्वीट का जवाब देते हुए सुषमा स्वराज ने ट्वीट कर उन्हें वीजा देने की बात कही. उन्होंने अपने ट्वीट में कहा कि भारत तुम्हें कभी नाउम्मीद नहीं होने देगा. मैंने इस्लामाबाद में भारतीय हाई कमिशन से तुम्हारे परिवार को तुरंत वीजा जारी करने को कहा है. उन्होंने किश्वर सुलताना नाम की महिला, जिन्हें नोए़डा के एक अस्पताल से लीवर ट्रांसप्लांट कराना है, को भी वीजा देने की घोषणा की. विदेश मंत्री ने स्वतंत्रता दिवस के मौके पर घोषणा की थी कि भारत मानवता को ध्यान में रखते हुए पाकिस्तान के हर मरीज के लिए तुरंत वीजा उपलब्ध कराने की हर संभव कोशिश करेगा.

यह भी पढ़ें: 'हार्ट ऑफ एशिया' समिट के लिए पाक पहुंचीं विदेशमंत्री, बोलीं- बेहतर होने चाहिए भारत-पाक संबंध

दोनों देशों के बीच कई अन्य मुद्दों पर चल रही कड़वाहट को पीछे छोड़ते हुए इस साल मई में विदेश मंत्रालय ने एक अहम घोषणा की थी. इसके तहत पाकिस्तान से आने वाले मरीज को भारत सरकार पाकिस्तान प्रधानमंत्री के विदेश मामलों के सलाहकार सरताज अजीज द्वारा जारी किए रिकम्मडेशन लेटर के आधार पर तुरंत वीजा उपलब्ध कराएगा. हालांकि भारत सरकार के इस पहल का इस्लामाबद ने यह कहते हुए विरोध किया था कि इस तरह की कोई भी शर्त राजनयिक नियमों की अनदेखी है. और इससे पहले जुलाई में जब ट्यूमर के एक मरीज को वीजा दिया गया तो उस समय ऐसे किसी लेटर की मांग नहीं की गई थी.

टिप्पणियां
VIDEO: अंतरराष्ट्रीय अदालत में भारत ने दर्ज की बड़ी जीत


सुषमा स्वराज ने उस समय कहा था कि चुकि यह हिस्सा भारत का अभिन्न अंग है इसलिए किसी भी मरीज को वीजा के लिए पाकिस्तान का कोई रिकम्मडेशन लेटर नहीं चाहिए. हालांकि 15 अगस्त के बाद किसी भी पाकिस्तानी नागरिक का मेडिकल वीजा खारिज नहीं किया गया है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement