NDTV Khabar

पाक का आतंकी के बदले जाधव को छोड़ने की पेशकश वाला दावा एक और काल्पनिक झूठ : भारत

पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा मुहम्मद आसिफ ने कहा था कि उन्हें एक एनएसए के साथ मुलाकात में अफगानिस्तान की जेल में बंद एक आतंकवादी के बदले जाधव को सौंपने का प्रस्ताव मिला था जिसके बाद यह प्रतिक्रिया आई.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पाक का आतंकी के बदले जाधव को छोड़ने की पेशकश वाला दावा एक और काल्पनिक झूठ : भारत

कुलभूषण जाधव (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. आसिफ :जेल में बंद एक आतंकवादी के बदले जाधव को सौंपने का प्रस्ताव मिला था
  2. आसिफ ने एनएसए की पहचान उजागर नहीं की.
  3. भारत : झूठों की लंबी फेहरिस्त में शामिल एक और झूठ है.
नई दिल्ली: अफगानिस्तान के एनएसए द्वारा एक आतंकवादी को रिहा करने के बदले भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव को छोड़ने की पेशकश संबंधी पाकिस्तान के दावे को खारिज करने का जिक्र करते हुए भारत ने शुक्रवार को कहा कि यह इस्लामाबाद के काल्पनिक झूठ की फेहरिस्त में एक और झूठ है. पाकिस्तान के विदेश मंत्री ख्वाजा मुहम्मद आसिफ ने कहा था कि उन्हें एक एनएसए के साथ मुलाकात में अफगानिस्तान की जेल में बंद एक आतंकवादी के बदले जाधव को सौंपने का प्रस्ताव मिला था जिसके बाद यह प्रतिक्रिया आई.

हालांकि ख्वाजा ने एनएसए की पहचान उजागर नहीं की और ना ही उस आतंकवादी का नाम बताया जिसे छोड़ने की बात आई है. आसिफ के दावे का विरोध करते हुए अफगानिस्तान के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार मोहम्मद हनीफ अतमार के कार्यालय ने बयान जारी करते हुए कहा कि न्यूयॉर्क में 21 सितंबर को पाकिस्तान के विदेश मंत्री के साथ उनकी मुलाकात के दौरान भारत या किसी भारतीय नागरिक का कोई उल्लेख या संदर्भ नहीं आया था.

यह भी पढ़ें : पाकिस्तान के विदेश मंत्री का दावा, कुलभूषण जाधव के बदले आतंकवादी देने का मिला था प्रस्ताव

आसिफ ने 26 सितंबर को न्यूयॉर्क में एशिया सोसायटी में एक कार्यक्रम में कहा था कि पाकिस्तान को एक आतंकवादी के बदले जाधव को छोड़ने का प्रस्ताव मिला था. इस आतंकवादी ने 2014 में पेशावर के स्कूल पर हमला किया था और अब अफगानिस्तान की जेल में बंद है.

टिप्पणियां
VIDEO : कुलभूषण जाधव की मां को मिलेगा पाकिस्तान का वीजा?

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने पुरजोर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा कि अफगान एनएसए के बयान से लगता है कि आसिफ का बयान पाकिस्तानी संस्थाओं द्वारा बोले गये काल्पनिक झूठों की लंबी फेहरिस्त में शामिल एक और झूठ है. अतमार के दफ्तर से जारी बयान में कहा गया कि बैठक में दोनों पक्षों ने द्विपक्षीय सहयोग समेत अनेक मुद्दों पर विस्तार से चर्चा की थी.

(इनपुट भाषा से)


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement