NDTV Khabar

PNB घोटाला: नीरव मोदी के पीछे जिस 'पप्‍पू' का था हाथ, जानें कौन है वो

गुजरात के छोटे से शहर पालनपुर के रहने वाले 'पप्पू' ने मुंबई में अपने पिता के साथ एक छोटे व्यापारी के तौर पर कारोबार की शुरुआत की थी, लेकिन जल्द ही बड़े शोमैन बन गए और देखते ही देखते तकरीबन 22 बड़ी कंपनियों के मालिक बन बैठे. वह मेहुल ही हैं, जिन्होंने हीरे को फिल्मी हस्तियों के साथ जोड़ ब्रांड के तौर पर स्थापित किया.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
PNB घोटाला: नीरव मोदी के पीछे जिस 'पप्‍पू' का था हाथ, जानें कौन है वो

नीरव मोदी (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. मेहुल चौकसी को हीरा बाज़ार में 'पप्पू' के नाम से जाना जाता है
  2. नीरव मोदी के साथ मेहुल चौकसी भी देश छोड़कर फरार है.
  3. 'पप्पू' ने मुंबई में अपने पिता के साथ कारोबार की शुरुआत की थी
मुंबई:

देश के सबसे बड़े बैंक घोटाले में चर्चा में भले ही नीरव मोदी है, लेकिन उनके पीछे जिसका हाथ था वो है नीरव के मामा मेहुल चौकसी. इनको हीरा बाज़ार में 'पप्पू' के नाम से जाना जाता है. नीरव मोदी के साथ मेहुल चौकसी भी देश छोड़कर फरार है.

पीएनबी घोटाला : वित्त मंत्री अरुण जेटली ने तोड़ी चुप्पी, बैंक प्रबंधन और ऑडिटर्स को ठहराया जिम्मेदार

गुजरात के छोटे से शहर पालनपुर के रहने वाले 'पप्पू' ने मुंबई में अपने पिता के साथ एक छोटे व्यापारी के तौर पर कारोबार की शुरुआत की थी, लेकिन जल्द ही बड़े शोमैन बन गए और देखते ही देखते तकरीबन 22 बड़ी कंपनियों के मालिक बन बैठे. वह मेहुल ही हैं, जिन्होंने हीरे को फिल्मी हस्तियों के साथ जोड़ ब्रांड के तौर पर स्थापित किया. पार्टी करना और लोगों को पैसे और उपहार देकर उपकृत कर उनसे अपना काम निकालना मेहुल चौकसी के काम का तरीका था. यहां तक कि सत्ता में पहुंच रखने वालों के परिवार और करीबियों को रिटेनरशिप पर रखना भी मेहुल की मोडस ओपेरंडी का हिस्सा रहा है.

हीरा कारोबार से जुड़ी पत्रिका निकालने वाले और हार्दिक हुंडिया बताते हैं कि मेहुल चौकसी ने अपने मिलनसार स्वभाव और बड़े-बड़े कनेक्शन के जरिये कारोबार तो बढ़ा लिया था, लेकिन भरोसा खो चुके थे. इसकी वजह थी लोगों के पैसे बकाया रखने की आदत.  हार्दिक हुंडिया की माने तो 6 महीने पहले ही उन्होंने एक गुजराती अखबार में 'पप्पू' के भागने की भविष्यवाणी कर दी थी.


PNB घोटाला: नीरव मोदी की कंपनी के सीनियर अधिकारी विपुल अंबानी सहित 5 लोग CBI की गिरफ्त में

इसके बावजूद मेहुल की बाज़ार में पकड़ मजूबत थी और आज भी उन्हें करीब से जानने वाले कारोबारी खुलकर बोलने को तैयार नहीं है. लेकिन मेहुल चौकसी के पीड़ित व्यापारी अब खुलकर सामने आने लगे हैं. इस बीच बैंक घोटाले के प्रमुख फरार आरोपी नीरव मोदी ने बैंक पर ही मामला बिगाड़ने का आरोप लगाकर कर्ज की अदायगी से हाथ खींच लिया है, तो भारतीय जांच एजेंसियों ने कर्ज वसूली के लिये  संपत्ति और जेवरातों की बरामदगी में तेजी ला दी है.

आयकर विभाग ने अब तक नीरव के 105 बैंक अकाउंट तो 29 संपत्तियों सील कर चुका है. इसके साथ ही मेहुल चौकसी की कंपनी गीतांजलि ज्वेलर्स के 9 बैंक अकाउंट और 7 संपत्ति सील किये जा चुके हैं, लेकिन जो हैरान करने वाली बात है यह है कि ज्यादातर बैंक अकाउंट में सिर्फ मिनिमम बैलेंस ही बचा है.

शत्रुघ्न सिन्हा ने दावोस में पीएम के साथ नीरव मोदी की उपस्थिति पर उठाए सवाल, कहा- क्या PMO सो रहा था?

टिप्पणियां

इस बीच अदालत में आरोपी के वकील ने घोटाले को उजागर करने वाले को ही आरोपी बनाए जाने का आरोप लगाया. वकील ने दावा किया कि यशवंत जोशी ही वह शख्स है एलओयू बनाने वाले शेट्टी की जगह पर आए और सबकुछ सामने लाया. चीफ मैनेजर बेचू तिवारी तक शेट्टी के बनाये एलओयू पहुंचे ही नहीं थे, लेकिन सीबीआई का दावा है कि जोशी के आने के बाद भी 3 से 4 एलओयू जारी हुए थे. 

VIDEO: क्या बैंकों में PNB जैसे और भी घोटाले छुपे हो सकते हैं?

अदालत ने सोमवार को गिरफ्तार तीनो आरोपियो को भी 3 मार्च तक पुलिस हिरासत भेज दिया है.



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement