केंद्रीय अर्धसैनिक बलों से COVID-19 संक्रमण के कई मामले आए सामने, लगभग 500 जवान कोरोना संक्रमित

सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) से कोरोना के 195 मामले सामने आए हैं. जो कि सुरक्षा बलों में सबसे ज्यादा हैं.

केंद्रीय अर्धसैनिक बलों से COVID-19 संक्रमण के कई मामले आए सामने, लगभग 500 जवान कोरोना संक्रमित

सुरक्षा बलों से एक साथ  COVID-19 संक्रमण के कई मामले सामने आ रहे हैं.

नई दिल्ली:

राजधानी दिल्ली में सुरक्षा बलों से एक साथ  COVID-19 संक्रमण के कई मामले सामने आ रहे हैं. विभिन्न केंद्रीय अर्धसैनिक बलों से लगभग 500 मामले सामने आए हैं. अब सभी यूनिट ने कोविड मामलों की निगरानी करने और वायरस के प्रसार को रोकने के लिए सेल का गठन किया है. सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) कोरोना के 195 मामलों के साथ सूची में सबसे ऊपर है, जो कि चिंता का विषय है. यह इसलिए क्योंकि अधिकांश मामले दिल्ली से ही जुड़े हैं. फोर्स हेडक्वार्टर के एक वरिष्ठ अधिकारी ने NDTV को बताया, "अब तक 191 मामले सक्रिय हैं और लगभग 130 मामले दिल्ली से जुड़े हुए हैं, क्योंकि हमारी यूनिट को कानून और व्यवस्था के प्रबंधन के लिए मध्य दिल्ली में दिल्ली पुलिस के साथ तैनात किया गया था."

उनके अनुसार बीएसएफ कोविड सेल उन सभी जवानों के स्वास्थ्य की निगरानी कर रही है जो क्वॉरंटाइन हैं. बीएसएफ के दो जवानों की गुरुवार को मौत हो गई. केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल से दूसरे नंबर पर सबसे ज्यादा मामले हैं. गुरुवार तक फोर्स में 159 कोविड पॉजिटिव मामले थे और मयूर विहार में लगभग 900 क्वारंटाइन में थे. कंट्रोल रूम ड्यूटी पर गृह मंत्रालय के साथ प्रतिनियुक्त दो सीआरपीएफ जवान भी कोरोना पॉजीटिव पाए गए हैं. सीआरपीएफ के एक वरिष्ठ अधिकारी ने खुलासा किया, "उनमें से एक ड्राइवर तो दूसरा कॉन्स्टेबल था, दोनों कोरोना पॉजिटिव आए लेकिन हमने सभी सावधानी बरती और उनके संपर्क में आए सभी लोगों का पता लगाया."

बढ़ती मामलों की संख्या पर नज़र रखने के लिए सीआरपीएफ ने कोविड सेल भी बनाया है. सीआरपीएफ डीजीपी एपी माहेश्वरी ने NDTV को बताया “कोविड के अनुभवों से सीखते हुए, संवर्धित उपायों को सुदृढ़ करने और सभी घटनाक्रमों पर सटीक रूप से निगरानी करने के लिए एक विशेष सेल बनाया गया है. इस तरह की किसी भी पुनरावृत्ति को कम करने के लिए वास्तविक समय जोखिम मूल्यांकन किया जा रहा है. यह सुनिश्चित करने के लिए चिकित्सा और प्रशासनिक संवर्ग की एकीकृत टीमें काम पर हैं." 

हालांकि वह इस बात पर जोर देते हैं कि बेशक सीआरपीएफ हाई रिस्क इलाक़े और हॉट स्पॉट्स में तैनाती हुई है लेकिन करोना ज़्यादा फैला नहीं है. उन्होंने कहा कि नई रणनीतियां जिनमें स्पॉट प्रोटेक्शन, सेनिटेशन, रोटेशनल तैनाती  शामिल है से फायदा हुआ है.

भारत तिब्बत सीमा पुलिस ने अब तक 82 कोरोना पॉजीटिव मामलों की सूचना दी है. गुरुवार को दिल्ली पुलिस के साथ तैनात एक कंपनी के 8 जवान कोरोना पॉजीटिव निकले. सीआईएसएफ जो दिल्ली में सभी रणनीतिक इमारतों की रखवाली करती है, में लगभग 50 मामले हैं. इससे पहले इस सप्ताह में दिल्ली पुलिस के साथ तैनात कंपनी के साथ तैनात दो जवान कोरोना पॉजीटिव पाए गए थे.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

सशस्त्र सीमा बल में अब तक केवल 14 मामलों के साथ कोविड संबंधित मामलों की संख्या सबसे कम है. एसएसबी के महानिदेशक राजेश चंद्रा ने कहा, "सभी संक्रमित जवान दिल्ली पुलिस के साथ कानून व्यवस्था में तैनात थे." उनके अनुसार दिल्ली में कानून व्यवस्था के लिए एसएसबी की 16 कंपनियों की आवश्यकता है और सभी मामले केवल इन कंपनियों से संबंधित हैं. राजधानी में तीन जिले सबसे ज्यादा कोरोना से प्रभावित हैं- मध्य, दक्षिण पूर्व और उत्तरी जिले. अब तक दिल्ली पुलिस के 80 जवान कोरोना पॉजीटिव निकले हैं. इस बीच गृह मंत्रालय ने सभी बलों के जवानों को प्रतिरक्षा बढ़ाने और विशेषज्ञों से परामर्श के बाद उचित खुराक में वृद्धि करने को कहा है.

दिल्ली पुलिस के कांस्टेबल की तबीयत बिगड़ी, 24 घंटे में हुई मौत