पहलू खान मामला: राजस्थान सरकार की SIT जांच से पीड़ित परिवार को उम्मीद, कहा- शायद अब हमें न्याय मिले...

पीड़ित परिवार (Pehlu Khan) का कहना है कि अलवर की कोर्ट के द्वारा सभी आरोपियों को बरी करने के बाद अब उन्हें सरकार द्वारा गठित एसआईटी की जांच से उम्मीद है.

पहलू खान मामला: राजस्थान सरकार की SIT जांच से पीड़ित परिवार को उम्मीद, कहा- शायद अब हमें न्याय मिले...

पहलू खान मामले की जांच के लिए बनाई गई एसआईटी

खास बातें

  • सीएम गहलोत ने मामले की जांच के लिए बनाई है एसआईटी
  • पीड़ित परिवार ने किया इस फैसले का स्वागत
  • कोर्ट ने आरोपियों को किया था बरी
नई दिल्ली:

अलवर में लिंचिंग के शिकार हुए पहलू खान (Pehlu Khan) मामले में अदालत के फैसले के बाद अब राजस्थान सरकार इस पूरे मामले की जांच करा रही है. इसके लिए विशेष एसआईटी का भी गठन किया गया है. राजस्थान सरकार के इस फैसले का पहलू खान (Pehlu Khan) के परिवार ने स्वागत किया है. पीड़ित परिवार (Pehlu Khan) का कहना है कि अलवर की कोर्ट के द्वारा सभी आरोपियों को बरी करने के बाद अब उन्हें सरकार द्वारा गठित एसआईटी की जांच से उम्मीद है. बता दें कि इस मामले में फैसला सुनाते हुए अलवर कोर्ट ने कहा था कि सभी आरोपियों को पर्याप्त सबूतों के अभाव में बरी किया जा रहा है. 

Pehlu Khan Case: पहलू खान केस में कोर्ट के फैसले से भड़कीं स्वरा भास्कर, बोलीं- शर्मनाक...अंधकार युग

गौरतलब है कि एक दिन पहले ही सीएम अशोक गहलोत ने इस मामले की जांच को लेकर एसआईटी का गठन किया है. सीएम ने अगले 15 दिनों में इस मामले को लेकर रिपोर्ट भी मांगी है. बता दें कि साल 2017 में इस भीड़ ने गो-तस्करी के शक में पहलू खान की पीट-पीटकर हत्या कर दी थी. कोर्ट ने आज इस मामले में सभी आरोपियों को संदेह का लाभ देते हुए बरी कर दिया था. एक अप्रैल 2017 को हरियाणा के नूंह मेवात ज़िले के निवासी पहलू ख़ान जयपुर से दो गाय खरीद कर अपने घर ले जा रहे थे.

प्रियंका गांधी बोलीं- पहलू खान मामले में लोअर कोर्ट का फैसला चौंकने वाला...

शाम करीब सात बजे बहरोड़ पुलिया से आगे निकलने पर भीड़ ने पिकअप गाड़ी को रुकवा कर पहलू ख़ान और उसके बेटों के साथ मारपीट की थी. इलाज के दौरान उसकी अस्पताल में मौत हो गई थी. पहलू ख़ान की हत्या के मामले में 8 आरोपी पकड़े गए. जिनमें दो नाबालिग हैं. आज अलवर कोर्ट में इन 6 आरोपियों पर फैसला सुनाया गया. नाबालिग आरोपियों की सुनवाई जुवेनाइल कोर्ट में हो रही है. इस मॉब लिंचिंग के मामले में एनडीटीवी ने एक स्टिंग ऑपरेशन किया था, जिसमें कई चौंकाने वाले तथ्य सामने आए थे. इस स्टिंग के बाद मामले की दोबारा जांच की मांग उठी थी. पुलिस ने एनडीटीवी के स्टिंग को सबूत की तरह पेश किया था. 

उत्तर प्रदेश के गोंडा में बच्चा चोर बताकर महिला को पीटा, 9 लोग गिरफ्तार

बता दें कि पहलू खान मॉब लिंचिंग मामले में पुलिस ने दो FIR दर्ज की थी. एक FIR पहलू खान की हत्या के मामले में 8 लोगों के खिलाफ और दूसरी बिना कलेक्टर की अनुमति के मवेशी ले जाने पर पहलू और उसके परिवार के खिलाफ हुई थी. दूसरे मामले में पहलू खान और उसके दो बेटों के खिलाफ अब चार्जशीट दाखिल की गई थी. पहलू खान की मौत हो चुकी है ऐसे में उनके खिलाफ तो केस बंद हो जाएगा, लेकिन उनके बेटों के खिलाफ केस चलेगा.

Newsbeep

पिछले 15 दिनों में बिहार में मॉब लिंचिंग की 12 घटनाएं सामने आईं, अब पुलिस ने उठाया यह कदम

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


वहीं बात करें साल 2019 में देशभर में हुए गाय के नाम पर हिंसा की तो करीब 8 घटनाएं हो चुकी हैं.यह न सिर्फ हरियाणा, बल्कि कर्नाटक, असम, झारखंड, मध्य प्रदेश, यूपी और बिहार राज्यों में भी गाय के नाम पर हिंसा हो चुकी है.