NDTV Khabar

ट्रेन में वेटिंग लिस्ट की वजह से बस से यात्रा करने को मजबूर है लोग 

मिश्रा ने कहा कि उन्हें बस टिकट के लिए 2,000 रुपये प्रति सीट खर्च करने पड़े जो ट्रेन टिकट से काफी मंहगा है.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
ट्रेन में वेटिंग लिस्ट की वजह से बस से यात्रा करने को मजबूर है लोग 

प्रतीकात्मक फोटो

नई दिल्ली: पिछले तीन महीने से अमित मिश्रा बिहार जाने के लिए अपने रेलवे टिकट के कंफर्म होने की प्रतीक्षा कर रहे थे लेकिन जब टिकट कंफर्म नहीं हो पाया तो दिल्ली निवासी मिश्रा ने बस से बिहार में मधुबनी जाने का फैसला किया. मिश्रा, अपनी पत्नी और बेटे के साथ आनंद बिहार बस टर्मिनल पर बस की प्रतीक्षा कर रहे थे. वह हाल ही में बिहार के पूर्वी चंपारण जिले में दिल्ली आ रही एक बस के हादसे से भी वाकिफ हैं. वह कहते हैं कि उनके पास बस के अलावा और कोई विकल्प नहीं है. अगर रेल टिकट नहीं कंफर्म हो तो इतनी लंबी दूरी में बस के अलावा और क्या विकल्प रह जाता है.

टिप्पणियां
यह भी पढ़ें: रेल यात्रियों के लिए खुशखबरी, अब एक ऐप से पता चल जाएगा टिकट कंफर्म होगा या नहीं

मिश्रा ने कहा कि उन्हें बस टिकट के लिए 2,000 रुपये प्रति सीट खर्च करने पड़े जो ट्रेन टिकट से काफी मंहगा है. उन्होंने कहा कि मैंने अपना ट्रेन टिकट एडवांस रिजर्वेशन पीरियड ( एआरपी ) शुरू होने के कुछ दिन बाद ही बुक कराया था लेकिन फिर भी वह कंफर्म नहीं हुआ. बिहार जाने वाली बस का इंतजार कर रहे ज्यादातर लोगों ने ट्रेन के टिकट नहीं कंफर्म होने या बिहार जाने वाली ट्रेनों के कई - कई घंटे देर से चलने की वजह से बस से जाना तय किया था. फरीदाबाद के रहनेवाले एच के झा ने कहा कि मैंने यह सुना है कि रेल ट्रैक पर चल रहे काम की वजह से रेलगाड़ियां देरी से चल रही हैं लेकिन रेलवे को इसके लिए कुछ वैकल्पिक व्यवस्था करनी चाहिए थी ताकि यात्रियों को परेशानी न हो.  (इनपुट भाषा से) 
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement