NDTV Khabar

'मूक प्रधानमंत्री' कहे जाने पर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने यह दिया जवाब

मनमोहन सिंह ने कहा भारत की किस्मत में है विश्व अर्थव्यवस्था का बड़ा पावरहाउस बनना, वार्षिक आर्थिक वृद्धि दर औसतन सात प्रतिशत

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
'मूक प्रधानमंत्री' कहे जाने पर पूर्व पीएम मनमोहन सिंह ने यह दिया जवाब

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की पुस्तक 'चेंजिंग इंडिया' का मंगलवार को विमोचन हुआ.

खास बातें

  1. मनमोहन सिंह की छह खंड की किताब ‘चेंजिंग इंडिया’ का विमोचन
  2. सिंह ने कहा- सरकार और आरबीआई के बीच संबंध पति-पत्नी की तरह
  3. कर्ज माफी पर कहा- प्रभाव नहीं पता, चुनावी घोषणा का सम्मान किया
नई दिल्ली:

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा कि लोग कहते हैं कि मैं मूक प्रधानमंत्री था. मुझे लगता है कि यह पुस्तक खंड (मनमोहन सिंह की किताब) खुद बोलती है.‘चेंजिंग इंडिया' शीर्षक के साथ प्रकाशित छह खंड की अपनी पुस्तक के विमोचन समारोह में उन्होंने यह बात कही.

दिल्ली में मंगलवार को आयोजित उक्त समारोह में मनमोहन सिंह ने कहा कि मैं जब प्रधानमंत्री नहीं था जो प्रेस से बात करने से डरता था. बाद में मैंने नियमित रूप से पत्रकारों से मुलाकात की. विदेश यात्राओं के दौरान मुलाकातें कीं. विमान से वापसी के दौरान भी प्रेस कॉन्फ्रेंस होती थी.

पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था का एक बड़ा ‘पावरहाउस' बनना भारत के भाग्य में लिखा है. सन 1991 के बाद से भारत की वार्षिक आर्थिक वृद्धि दर औसतन सात प्रतिशत बनी हुई है. उन्होंने कहा, कि सभी बाधाओं और व्यवधानों के बावजूद भारत सही दिशा में बढ़ता रहेगा. भारत के भाग्य में है कि वह वैश्विक अर्थव्यवस्था का पावर हाउस बने.


यह भी पढ़ें : आरबीआई गवर्नर उर्जित पटेल का इस्तीफा, अर्थव्यवस्था के लिए बड़े झटके की तरह है : मनमोहन सिंह

भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर रह चुके मनमोहन सिंह ने केंद्रीय बैंक और केंद्र सरकार के संबंधों के बारे में कहा कि रिजर्व बैंक और सरकार का संबंध पति-पत्नी के संबंध की तरह है. दोनों के बीच मतभेदों को निपटाना जरूरी होता है ताकि दोनों सामंजस्य के साथ काम कर सकें. उन्होंने यह बात ऐसे समय कही है जब रिजर्व बैंक के आरक्षित धन के स्तर तथा लघु एवं मझोले उद्यमों के लिए कर्ज के नियम आसान बनाने समेत विभिन्न मुद्दों को लेकर केंद्रीय बैंक तथा वित्त मंत्रालय के बीच मतभेदों की चर्चा के बीच उर्जित पटेल ने आरबीआई के गवर्नर पद से इस्तीफा दे दिया.

 
4mqtsdjk

विमोचन समारोह में संवाददाताओं से अलग से बातचीत में मनमोहन सिंह ने कहा कि रिजर्व बैंक की स्वायत्तता तथा स्वतंत्रता का सम्मान होना चाहिए. उर्जित पटेल के इस्तीफे के बाद सरकार ने आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव शक्तिकांत दास को गवर्नर नियुक्त किया है. सिंह ने कहा, ‘जो भी आरबीआई के गवर्नर हैं, मैं उन्हें शुभकामना देता हूं.' पूर्व प्रधानमंत्री ने कहा कि हमें एक मजबूत और स्वतंत्र आरबीआई की जरूरत है जो केंद्र सरकार के साथ मिलकर काम करे. उन्होंने कहा, ‘मैं उम्मीद और प्रार्थना करता हूं कि सरकार तथा आरबीआई साथ मिलकर काम करने का रास्ता निकालें.'    

टिप्पणियां

VIDEO : मनमोहन सिंह ने केंद्र सरकार के फैसलों पर सवाल उठाए

मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ की सरकारों द्वारा कृषि ऋण माफी की घोषणा से जुड़े सवाल के जवाब में सिंह ने कहा, ‘हमें चुनावी घोषणा-पत्र में जताई गई प्रतिबद्धता का सम्मान करना है....'' उन्होंने कहा, ‘मैंने प्रभाव के बारे में अध्ययन नहीं किया है लेकिन चूंकि प्रतिबद्धता जताई गई है, अत: हमें उसका सम्मान करना है.'
(इनपुट भाषा से भी)



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement