यह ख़बर 23 जुलाई, 2012 को प्रकाशित हुई थी

अखिलेश सरकार को समाज कभी माफ नहीं करेगा : मायावती

अखिलेश सरकार को समाज कभी माफ नहीं करेगा : मायावती

खास बातें

  • मायावती ने कहा कि सपा सरकार के आज के फैसले की जितनी निंदा की जाए उतनी कम है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इतिहास के पन्नों में अपना नाम काले अक्षरों में दर्ज करवा लिया है।
लखनऊ:

उत्तर प्रदेश की समाजवादी पार्टी (सपा) सरकार द्वारा मायावती शासनकाल में बनाये गए आठ जिलों के नाम सोमवार को बदलने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने कहा कि ऐसा करके सपा सरकार ने दलित महापुरुषों और इतिहास का अपमान किया है और इसके लिए समाज और इतिहास उन्हें कभी माफ नहीं करेगा।

बसपा प्रमुख मायावती ने सोमवार शाम एक बयान जारी कर कहा कि जिलों के नाम बदलने की चर्चा मीडिया में काफी पहले से आ रही थी, लेकिन उनको ये भरोसा नहीं था कि दुर्भावना के तहत काम करते हुए सपा सरकार दलित व अन्य पिछड़े वर्गो में जन्मे महापुरुषों और गुरुओं के प्रति नफरत में इस हद तक तक आगे चली जाएगी कि उनके नाम पर रखे गए जिलों के नाम तक बदलकर उनका अपमान करने पर उतारू हो जाएगी।

मायावती ने कहा कि सपा सरकार के आज के फैसले की जितनी निंदा की जाए उतनी कम है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने इतिहास के पन्नों में अपना नाम काले अक्षरों में दर्ज करवा लिया है।

उन्होंने कहा कि त्याग और संघर्ष करने वाले दलित महापुरुषों का अपमान करने वालों को पहले भी समाज सबक सिखा चुका है और निश्चित ही समाज आने वाले दिनों में इस प्रकार के लगातार अपमानों को बर्दाश्त नहीं करेगा।

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

उल्लेखनीय है कि आज मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में सपा सरकार ने आठ जिलों के नाम बदलने का ऐलान किया। पंचशीलनगर का नाम बदलकर हापुड़, प्रबुद्धनगर का शामली, महामाया नगर का हाथरस, कांशीराम नगर का कासगंज, रमाबाईनगर का कानपुर देहात, ज्योतिबाफुले नगर का अमरोहा, भीमनगर का बहजोई और छत्रपति शाहूजी महाराज नगर का गौरीगंज कर दिया गया।

कैबिनेट की बैठक में लखनऊ स्थित छत्रपति शाहूजी महाराज चिकित्सा विश्वविद्यालय का नाम फिर से किंग जॉर्ज मेडिकल युनिवर्सिटी (केजीएमयू) कर दिया गया।