Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

CAA के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों से रिकवरी का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा CAA के विरोध प्रदर्शन के दौरान सरकारी सम्पतियों को नुकसान पहुंचाने वालों से रिकवरी का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है

CAA के खिलाफ प्रदर्शन के दौरान सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने वालों से रिकवरी का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा

खास बातें

  • योगी सरकार कर रही है प्रदर्शनकारियों से रिकवरी
  • कई लोगों को भेजा गया नोटिस
  • कार्रवाई के खिलाफ दी गई याचिका
नई दिल्ली:

उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा CAA के विरोध प्रदर्शन के दौरान सरकारी सम्पतियों को नुकसान पहुंचाने वालों से रिकवरी का मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया है. याचिका को परवेज़ आरिफ ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दाखिल कर सरकार के फैसले को चुनौती दी है. याचिका में रिकवरी के नोटिस को रद्द करने की मांग की गई. याचिका में यह भी मांग की गई कि प्रदर्शन के दौरान जो घटनाएं हुई हैं उसकी न्यायिक जांच  हो. गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश सरकार प्रदर्शन के दौरान हुई तोड़फोड़ की घटनाओं की भरपाई के लिए प्रदर्शनकारियों से ही वसूली कर रही है.  सीएम योगी ने प्रदर्शन के बाद ऐलान किया था कि तोड़फोड़ करने वालों से ही इसकी भरपाई की जाएगी. 
 

जेपी नड्डा के स्वागत के वक्त BJP कार्यकर्ता ने महिला सिपाही से की अश्लील हरकत, सरेआम दबंगई दिखाते आए नजर

वहीं  गुरुवार को भी मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘मैं फिर इस मंच से कहूंगा कि लोकतंत्र में धरना प्रदर्शन शांतिपूर्ण तरीके से ज्ञापन देना सब का अधिकार है. लेकिन, कोई सार्वजनिक संपत्ति को, व्यापारिक प्रतिष्ठानों को जलायेगा, तोड़फोड़ करेगा तो हम उसकी संपत्ति से वसूली करके ले लेंगे और आगे के लिए हम उनको वह सजा देंगे कि आने वाली पीढ़ी उन्हें याद करेगी कि कैसे कार्य होते हैं. सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की कीमत क्या होती है इसके बारे में उनको 10 बार सोचना पड़ेगा.''

CAA का अनोखा विरोध, पुरखों की कब्र पर जाकर कांग्रेसी नेता ने रोते हुए मांगे भारतीय होने के सबूत

आपको बता दें कि नागरिकता कानून और एनआरसी के विरोध में उत्तर प्रदेश के लखनऊ सहित कई शहरों में विरोध प्रदर्शन के दौरान हिंसक घटनाएं हुई थीं. जिसमें सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचा था. 

सहमति और असहमति लोकतंत्र के मूल तत्व : प्रणब मुखर्जी​