NDTV Khabar

मेदांता अस्पताल का एयर एंबुलेंस बैंकॉक के पास दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत, चार अन्य घायल

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
मेदांता अस्पताल का एयर एंबुलेंस बैंकॉक के पास दुर्घटनाग्रस्त, पायलट की मौत, चार अन्य घायल

गुड़गांव स्थित मेदांता अस्पताल का एयर एंबुलेंस बैंकॉक में हादसे का शिकार हो गया (प्रतीकात्मक चित्र)

खास बातें

  1. विमान ने नई दिल्ली से बैंकॉक के लिए उड़ान भरी थी
  2. नाखोन पैथेम हवाई अड्डे के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया.
  3. एयर एंबुलेंस में आग लगने से हुई दुर्घटना
नई दिल्ली: मेदांता अस्पताल का एक एयर एंबुलेंस आग लगने के बाद बैंकॉक के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया, जिसमें पायलट की मौत हो गई और चार अन्य लोग घायल हो गए. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सोमवार रात इसकी जानकारी दी. उन्होंने कहा कि घायलों को सेना के हेलीकॉप्टरों से बैंकॉक अस्पताल ले जाया गया है. इस विमान ने नई दिल्ली से बैंकॉक के लिए उड़ान भरा था. रास्ते में वह ईंधन भरने के लिए कोलकाता में रुका और बाद में नाखोन पैथेम हवाई अड्डे के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया.
  विभिन्न ट्वीट में सुषमा स्वराज ने कहा, पांच सदस्यों को लेकर जा रहा मेदांता अस्पताल का एयर एंबुलेंस आग लगने के बाद बैंकॉक के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया. घायलों को सेना के हेलीकॉप्टरों से बैंकॉक अस्पताल ले जाया गया है.'

टिप्पणियां
उन्होंने लिखा, 'हमारे मिशन ने अभी मुझे सूचना दी है कि एयर एंबुलेंस के पायलट अरुणाक्ष नंदी की मौत हो गई है. डॉक्टर शैलेंद्र और डॉक्टर कोमल आईसीयू में हैं. दो अन्य को हल्की चोटें आई हैं.'
  विदेश मंत्री ने पीड़ित परिवार के प्रति सांत्वना व्यक्त करते हुए कहा घायलों को हर तरह की मदद का आश्वासन दिया है. इस एयर एंबुलेंस में दो डॉक्टर और एक नर्स भी सवार थे. इनमें से एक डॉक्टर मेदांता अस्पताल के एनेस्थिसिया डिपार्टमेंट और दूसरे क्रिटिकल केयर डिपार्टमेंट के थे. मेदांता अस्पताल के प्रमुख नरेश त्रेहन ने हादसे को 'दुर्भाग्यपूर्ण' बताते हुए कहा कि यह एयर एंबुलेंस बैंकॉक से एक मरीज को लाने गया था, जो फेफड़े की बीमारी से जूझ रहा है. उन्होंने बताया कि मेदांता के डॉक्टरों की एक टीम बैंकॉक के लिए रवाना हो गई.

उन्होंने कहा कि दोनों डॉक्टर आग में झुलसने से घायल हो गए हैं, लेकिन जो जानकारी मिल रही है उसके अनुसार यह जानलेवा नहीं है. उनके परिवार के लोग भी जल्द ही वहां पहुंचेंगे. मैं भी बैकॉक जा सकता हूं. विदेश मंत्रालय भी काफी मदद कर रहा है.


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement