NDTV Khabar

अब केरल CM ने साधा अमित शाह के हिंदी को 'राष्ट्रभाषा' बनाने वाले बयान पर निशाना

पिनराई विजयन ने कहा कि यह धारणा बेतुकी है कि हिंदी राष्ट्र को एकजुट कर सकती है

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
अब केरल CM ने साधा अमित शाह के हिंदी को 'राष्ट्रभाषा' बनाने वाले बयान पर निशाना
तिरुवनंतपुरम:

अमित शाह (Amit Shah) के हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने की अपील करने वाले बयान पर सियासत जारी है. इसी क्रम में अब उन पर केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन (Pinarayi Vijayan) ने निशाना साधा है. विजयन ने रविवार को कहा कि यह विवाद खड़ा करने का सुनियोजित प्रयास है जिससे देश के सामने मौजूद गंभीर समस्याओं से ध्यान बंटाया जा सके. उन्होंने इसे गैर हिंदी भाषी लोगों की मातृ भाषा के खिलाफ युद्धघोष करार दिया है.  विजयन ने कहा कि यह धारणा बेतुकी है कि हिंदी राष्ट्र को एकजुट कर सकती है . 

मुख्यमंत्री ने फेसबुक पर लिके पोस्ट में कहा कि इस मुद्दे पर कई जगहों पर प्रदर्शन होने के बावजूद शाह हिंदी एजेंडा से हटने को तैयार नहीं है, ये संकेत हैं जो दिखाते हैं कि संघ परिवार एक और आंदोलन का मंच खोलने की तैयारी कर रहा है. 

CM पिनराई विजयन के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी करने के मामले में अब तक 119 लोगों पर केस दर्ज


हालांकि केरल के राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने इस कदम का स्वागत करते हुए कहा कि भाषा लोगों को प्रेरित और एकजुट करती है और हिंदी से देश की एकता को और मजबूती मिल सकती है. उन्होंने शनिवार को हिंदी दिवस के मौके पर एक ट्वीट में कहा, “एक भाषा लोगों को प्रेरित और एकजुट करती है. आइए हिंदी के जरिये अपनी एकता को और सुदृढ़ करें, हमारी राष्ट्रीय भाषा। हमारी मातृभाषा के साथ, हिंदी का इस्तेमाल भी अपने कामों में करें.”

मालूम हो अमित शाह ने हिंदी दिवस के अवसर पर शनिवार को ट्वीट किया, ‘‘आज हिंदी दिवस के अवसर पर मैं देश के सभी नागरिकों से अपील करता हूं कि हम अपनी- अपनी मातृभाषा के प्रयोग को बढाएं और साथ में हिंदी भाषा का भी प्रयोग कर देश की एक भाषा के पूज्य बापू और लौह पुरूष सरदार पटेल के स्वप्न को साकार करने में योगदान दें.''

CPM के दफ्तर पर आधी रात में मारा छापा तो IPS के खिलाफ CM ने बैठाई जांच, मिली क्लीनचिट

एक कार्यक्रम के दौरान अमित शाह ने कहा कि विभिन्न भाषाएं और बोलियां हमारे देश की ताकत हैं. लेकिन अब देश को एक भाषा की जरूरत है ताकि यहां पर विदेशी भाषाओं को जगह न मिल पाए. इसलिए हमारे स्वतंत्रता सेनानियों ने हिंदी को 'राजभाषा' के तौर पर जाना जाता था.  (इनपुट-भाषा)

टिप्पणियां

VIDEO: अमित शाह के हिंदी को राष्ट्रभाषा बनाने वाले बयान पर विपक्षी नेताओं ने दी कड़ी प्रतिक्रिया​

  



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement