NDTV Khabar

क्या रेलवे की वेबसाइट स्लो है? रेल मंत्री पीयूष गोयल बोले, 'जी नहीं-1 सेकेंड से भी कम समय...'

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि रेलवे की आधिकारिक वेबसाइट 1 सेकेंड से भी कम समय में रिस्पॉन्स देती है और हर दिन एक करोड़ से ज्यादा लोग वेबसाइट का इस्तेमाल करते हैं.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
क्या रेलवे की वेबसाइट स्लो है? रेल मंत्री पीयूष गोयल बोले, 'जी नहीं-1 सेकेंड से भी कम समय...'

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल (फाइल फोटो)

खास बातें

  1. मलप्पपुरम से सांसद पीके कुन्हालीकुट्टी ने पूछा था सवाल
  2. गोयल ने कहा, 1 सेकेंड से भी कम समय में रिस्पॉन्स देती है वेबसाइट
  3. हर दिन एक करोड़ से ज्यादा लोग करते हैं वेबसाइट का इस्तेमाल
नई दिल्ली :

केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा कि रेलवे की आधिकारिक वेबसाइट 1 सेकेंड से भी कम समय में रिस्पॉन्स देती है और हर दिन एक करोड़ से ज्यादा लोग वेबसाइट का इस्तेमाल करते हैं. दरअसल, केरल के मलप्पपुरम से इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग के सांसद पीके कुन्हालीकुट्टी ने बुधवार को लोकसभा में रेल मंत्री से पूछा कि क्या रेलवे की वेबसाइट स्लो है और यह निर्धारित समय में अपेक्षित परिणाम नहीं देती है? इस सवाल के जवाब में पीयूष गोयल ने कहा, 'जी नहीं...भारतीय रेलवे की वेबसाइट पर स्थानीय और नेटवर्क संबंधी लेनदेन काफी तेज है और इसमें 1 सेकेंड से भी कम समय लगता है'. उन्होंने बताया कि रेलवे की वेबसाइट को हर दिन औसतन 1.2 करोड़ लोग इस्तेमाल करते हैं. वेबसाइट को वर्ष 2017 में दोबारा डिजाइन किया गया था. 

CAG की रिपोर्ट: पिछले 10 सालों में सबसे खराब रहा रेलवे का परिचालन


टिप्पणियां

उन्होंने कहा, इससे पहले वर्ष 2002 के संस्करण में कॉमन गेटवे इंटरफेस (सीजीआई) प्रौद्योगिकी का प्रयोग किया जाता था, जबकि पुन: डिजाइन की गई वेबसाइट में जावा का प्रयोग किया गया है, जो पहले से अधिक उन्नत है. सांसद पीके कुन्हालीकुट्टी के इस सवाल कि आम जन के लिए वेबसाइट को लाभकारी बनाने की दिशा में सरकार क्या कदम उठा रही है, रेल मंत्री पीयूष गोयल ने कहा, 'बेहतर यूजर एक्सपीरियंस के लिए तमाम कदम उठाए गए हैं, ताकि आम जन को कोई दिक्कत न हो. खासकर वेबसाइट को मोबाइल फ्रेंडली बनाने की दिशा में काम किया गया है. साथ ही ‘गूगल रीकैप्चा' का एडवांस वर्जन भी इस्तेमाल किया जा रहा है'.  

Video:कैसे चलेगी रेल? 10 साल के सबसे निचले स्तर पर कमाई



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें. India News की ज्यादा जानकारी के लिए Hindi News App डाउनलोड करें और हमें Google समाचार पर फॉलो करें


Advertisement