कश्मीर में मुहर्रम पर आतंकियों और उनके पनाहगारों की हिंसा फैलाने की योजना: सेना के सूत्र

कश्मीर में आतंकवादियों द्वारा मुहर्रम पर बड़ी हिंसा अंजाम देने की जानकारी सेना के सूत्रों को मिली है. सेना के गोपनीय सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक 10 सितंबर को मुहर्रम के अवसर पर कश्मीर में आतंकवादियों और उनके पनाहगारों की बड़ी हिंसा फैलाने की योजना है.

कश्मीर में मुहर्रम पर आतंकियों और उनके पनाहगारों की हिंसा फैलाने की योजना: सेना के सूत्र

कश्मीर का एक दृश्य- (प्रतीकात्मक तस्वीर)

खास बातें

  • सेना के सूत्रों को मिली सूचना
  • मुहर्रम पर बड़ी हिंसा अंजाम देने की जानकारी
  • कश्मीर में आतंकवादियों और उनके पनाहगारों की बड़ी हिंसा फैलाने की योजना
नई दिल्ली:

कश्मीर में आतंकवादियों द्वारा मुहर्रम पर बड़ी हिंसा अंजाम देने की जानकारी सेना के सूत्रों को मिली है. सेना के गोपनीय सूत्रों द्वारा मिली जानकारी के मुताबिक 10 सितंबर को मुहर्रम के अवसर पर कश्मीर में आतंकवादियों और उनके पनाहगारों की बड़ी हिंसा फैलाने की योजना है. इसके अलावा कश्मीर में मस्जिदों और जियारत पर हमला या आग लगाने की कोशिश के जरिये हिंसा फैलाने और माहौल खराब करने की योजना है. इतना ही नहीं, शिया और सुन्नी के बीच आपसी झड़प और हिंसा भड़काने की भी सूचना मिली है.

बॉलीवुड डायरेक्टर ने कश्मीर में कर्फ्यू पर किया ट्वीट, लिखा- 23 दिन हो गए, सन्नाटा...

यह भी बताया गया है कि श्रीनगर के सौरा में हिंसा फैलाने की योजना तैयार करने के लिए गुप्त बैठक भी की गई. यहां हिंसा फैलाने के रूप रेखा तैयार की गई. फिलहाल सुरक्षा बल हालात से निपटने के लिए नए सिरे से तैयारी की है. बता दें कि जम्मू कश्मीर में नियंत्रण रेखा और अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सुरक्षा बल हाई अलर्ट पर हैं, क्योंकि सीमा पार से आतंकवाद का खतरा अब भी बना हुआ है. जम्मू-कश्मीर सरकार के प्रधान सचिव रोहित कंसल ने शनिवार को बताया, ‘‘सीमा पार से होने वाले आतंकवाद का खतरा अब भी बना हुआ है. सुरक्षा बल हाई अलर्ट पर हैं.''

कश्मीर के हालात पर सरकारी सूत्रों का बड़ा खुलासा- हिरासत में 40 नेता और 1000 से ज्यादा पत्थरबाज

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

रोहित कंसल राज्य सरकार के प्रवक्ता भी हैं. वह राज्य के हालात के बारे में मीडिया को जानकारी दे रहे थे. कंसल ने कहा, ‘‘घाटी के 69 थाना क्षेत्रों में पाबंदियों को दिन के समय पूरी तरह से हटा दिया गया है जबकि जम्मू क्षेत्र के 81 थाना क्षेत्रों में दिन के समय में कोई प्रतिबंध नहीं लगा रखा है.'' इससे पहले 73वें स्वतंत्रता दिवस को देखते हुए सुरक्षा बलों को अतिरिक्त चौकन्ना रहने के लिए कहा गया था. एक अधिकारी ने खुलासा करते हुए कहा था कि हम लगातार उन संदेशों को इंटरसेप्ट कर रहे हैं जहां पाकिस्तान अपने अधिकारियों को हमले के निर्देश दे रहा है.

Video: जम्मू कश्मीर को लेकर बीजेपी का बड़ा फैसला