PM मोदी ने शुरू किया 'आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान', कहा- आपत्ति में अवसर ढूंढने का समय

केंद्र की मोदी सरकार की इस योजना में इन वापस लौटे हुए मजदूरों को रोजगार देने, स्थानीय बिजनेस को प्रमोट करने और औद्योगिक संस्थानों के साथ पार्टनरशिप कर रोजगार के अवसर बढ़ाने का लक्ष्य है.

खास बातें

  • प्रवासी मजदूरों के लिए बनाए जाएंगे रोजगार के अवसर
  • स्थानीय उद्यमियों को दिया जाएगा बढ़ावा
  • यूपी सरकार ने की है प्रवासी मजदूरों की स्किल मैपिंग
नई दिल्ली:

लॉकडाउन में महानगरों से उत्तर प्रदेश वापस आए मजदूरों और कामगारों (migrant workers) के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने शुक्रवार को 'आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान' (Aatma Nirbhar Uttar Pradesh Abhiyan) शुरू कर दिया. पीएम मोदी ने इसकी घोषणा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए की. पीएम मोदी न यहां रिमोट दबाकर इस योजना का शुभारंभ किया. उनके साथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी जुड़े. 

सीएम आदित्यनाथ योगी ने योजना की जानकारी देते हुए बताया कि राज्य में वापस आए प्रवासी मजदूरों को होम क्वारंटीन में रखा जा रहा है, क्वारंटीन अवधि खत्म होने के बाद मजदूरों के लिए पर्याप्त संख्या में नौकरी देने के लिए योजना तैयार की गई है. इसके लिए इन श्रमिकों की स्किल मैपिंग की गई है. कोविड-19 महामारी (COVID Outbreak) के बीच देशभर में लागू लॉकडाउन (Lockdown) के चलते उत्तर प्रदेश में लगभग 35 लाख से ज्यादा मजदूर घर वापस लौटे हैं. वर्तमान में उत्तर प्रदेश के 31 जिलों में 25,000 वापस लौटे हुए प्रवासी मजदूर हैं. 

केंद्र की मोदी सरकार की इस योजना में इन वापस लौटे हुए मजदूरों को रोजगार देने, स्थानीय बिजनेस को प्रमोट करने और औद्योगिक संस्थानों के साथ पार्टनरशिप कर रोजगार के अवसर बढ़ाने का लक्ष्य है.  इस योजना को लेकर सरकार का कहना है कि इन मजदूरों के लिए उनके गृह राज्य और घर के आस-पास ही रोजगार उपलब्ध कराने के लिए युद्धस्तर पर काम किया जा रहा है. मजदूरों की हितों की सुरक्षा के लिए एक आयोग का भी गठन किया गया है. 

प्रधानमंत्री इस उद्घाटन कार्यक्रम में राज्य के छह जिलों के ग्रामीणों से भी बात की. कुछ ऐसे लोगों को इस कार्यक्रम से जोड़ा गया, जो अपना खुद का उद्यम शुरू किया है. इन जिलों के गांवों को इस प्रोग्राम से सामुदायिक केंद्रों और कृषि विज्ञान केंद्र से जोड़ा गया, जिसमें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया गया है.

पीएम मोदी ने इन छोटे उद्यमियों से बात करते हुए कहा कि देश की सभी सरकारों को इन्हीं लोगों से सीखना चाहिए. इन लोगों ने आपत्ति को अवसर में बदला है और हमें भी यही करना है. स्वरोजगार पर निर्भर इन लोगों की तारीफ करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 'जो लोग छोटे से शुरू करते हैं, वहीं बड़ा काम करते हैं. वो ही लोग आगे बढ़ते हैं, जिनको विरासत में मिलता है, वो कभी-कभी लुढ़क जाते हैं.'

पीएम ने मजदूरों की महत्ता पर बात करते हुए कहा कि 'श्रम की ताकत हम सभी ने महसूस की है. श्रम की इसी ताकत का आधार बना, भारत सरकार द्वारा शुरू किया गया गरीब कल्याण रोजगार अभियान. आज इसी शक्ति ने आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान को प्रेरणा दी. योगी सरकार ने न सिर्फ इसमें अनेक नई योजनाएं जोड़ी हैं, लाभार्थियों की संख्या बढ़ाई है बल्कि इसे आत्मनिर्भर भारत के लक्ष्य के साथ भी पूरी तरह से जोड़ दिया है.'

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com

पीएम ने कहा, 'मुझे पूरा विश्वास है कि योगी जी के नेतृत्व में, जिस तरह आपदा को अवसर में बदला गया है, जिस तरह वो जी-जान से जुटे हैं, देश के अन्य राज्यों को भी इस योजना से बहुत कुछ सीखने को मिलेगा, वो भी इससे प्रेरणा पाएंगे.'

पीएम ने यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि देश की दूसरी सरकारों को इस सरकार से सीखने की जरूरत है. यूपी की सरकार और 24 करोड़  लोगों ने इस संकट में बहुत ही सूझ-बूझ और साहस के साथ काम किया है. उन्होंने कहा कि यूपी के आंकड़ों में दुुनियाभर के एक्सपर्ट्स को चकित कर देने की क्षमता हो. राज्य में हर किसी ने निष्ठा के साथ अपना योगदान दिया है.