NDTV Khabar

पीएम मोदी की शी चिनफिंग के साथ डिनर डिप्लोमेसी, ढाई घंटे की बातचीत में संबंध विस्तार पर दिया जोर

सूत्रों ने बताया कि इस तटीय शहर में समुद्र किनारे स्थित एक रंगबिरंगे तम्बू के नीचे भव्य शोर मंदिर परिसर में बैठक तय समय से काफी लंबी चली.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी की  शी चिनफिंग के साथ डिनर डिप्लोमेसी, ढाई घंटे की बातचीत में संबंध विस्तार पर दिया जोर

शी चिनफिंग का भारत दौरा

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग ने शुक्रवार को रात्रिभोज के दौरान ढाई घंटे बातचीत की. उन्होंने द्विपक्षीय विकास साझेदारी को नई ऊर्जा देने और विवादास्पद मामलों पर मतभेदों से संपूर्ण संबंधों को अलग रखने का संकल्प लिया. सूत्रों ने बताया कि इस तटीय शहर में समुद्र किनारे स्थित एक रंगबिरंगे तम्बू के नीचे भव्य शोर मंदिर परिसर में बैठक तय समय से काफी लंबी चली. इस दौरान दोनों नेताओं ने तमिलनाडु के स्थानीय स्वादिष्ट व्यंजनों का आनंद लेते हुए जटिल मामलों समेत कई विषयों पर बातचीत की. इस दौरान दोनों के अनुवादकों के उनकी मदद की. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने अनौपचारिक शिखर वार्ता के पहले दिन मोदी और शी की बैठक को काफी उपयोगी बताया. रवीश कुमार ने ट्वीट किया कि लंबे रात्रिभोज पर सुखद वार्ता के साथ अत्यंत सार्थक दिन का समापन हुआ.

चीनी राष्ट्रपति Xi Jinping पहुंचे चेन्नई, एयरपोर्ट पर हुआ भव्य स्वागत, PM Modi के साथ करेंगे बातचीत


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी ने कलाक्षेत्र की अद्भुत सांस्कृतिक प्रस्तुति के बाद रात्रिभोज में भारत-चीन साझेदारी को गहरा करने पर अपने विचारों का आदान-प्रदान करना जारी रखा. हालांकि, इस बात की कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई कि पीएम मोदी और शी ने कश्मीर मुद्दे पर बातचीत की या नहीं. इस मामले के कारण दोनों देशों के संबंध तनावपूर्ण हो गए थे, लेकिन ऐसी अटकलें लगाई जा रही है कि रात्रिभोज में दोनों देशों के बीच हुई बातचीत के दौरान इसका जिक्र हुआ था. पीएम मोदी ने रात्रिभोज के बाद ट्वीट किया कि मामल्लापुरम भारत से सबसे खूबसूरत स्थानों में से एक है, यह जीवंतता से भरा है. यह वाणिज्य, आध्यात्म से जुड़ा है और अब यह एक लोकप्रिय पर्यटन केंद्र है. मुझे खुशी है कि मैं और राष्ट्रपति शी चिनफिंग इस खूबसूरत जगह में समय बिता रहे हैं, जो यूरेस्को का धरोहर स्थल भी है.

PM मोदी ने चीनी राष्ट्रपति Xi Jinping को महाबलीपुरम में दिखाई अर्जुन की तपस्या स्थली

सूत्रों ने बताया कि शी और मोदी ने द्विपक्षीय विकास साझेदारी को नई ऊर्जा देने एवं विवादास्पद मामलों पर मतभेदों से समग्र संबंधों को अलग करने का संकल्प लिया. इससे पहले मोदी और शी ने बंगाल की खाड़ी को निहार रहे चट्टानों को काट कर बनाये गए सातवीं सदी के पंच रथ मंदिर की पृष्ठभूमि में नारियल पानी का आनंद लिया और अनौपचारिक बातचीत की. तमिलनाडु की पारपंरिक वेशभूषा ‘वेष्टि' (धोती), सफेद कमीज और अंगवस्त्रम पहने मोदी ने अच्छे मेजबान की भूमिका निभाते हुए शी को इस प्राचीन शहर की विश्व प्रसिद्ध धरोहरों ‘अर्जुन तपस्या स्मारक', ‘नवनीत पिंड' (कृष्णाज बटरबॉल), ‘पंच रथ' और ‘शोर मंदिर' के दर्शन कराए. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, ‘‘यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल पर अनौपचारिक शिखर वार्ता की यह सहज प्रकृति आगे भी जारी रहेगी और यह उच्चतम स्तर पर संपर्कों को गहरा करेगी और भारत-चीन संबध के भविष्य के मार्ग को निर्देशित करेगी.''

भारत-चीन संबंधों में उतार-चढ़ाव के बीच पीएम मोदी और शी चिनफिंग की मुलाकात अहम, 10 प्रमुख बातें

शी के चेन्नई हवाईअड्डे पर उतरने के कुछ ही देर बात सरकारी सूत्रों ने कहा कि दोनों नेता शनिवार को शिखर वार्ता के समापन के बाद कुछ निर्देश जारी कर सकते हैं. उन्होंने पिछले साल चीन के वुहान में भी पहली शिखर वार्ता के बाद ऐसा ही किया था. दोनों पक्षों के अधिकारियों ने कहा कि मोदी-शी शिखर वार्ता में कई विवादास्पद मुद्दों पर दोनों देशों के बीच मतभेदों के बावजूद आगे बढ़ने और विकास के नए मार्ग तैयार करने पर ध्यान केंद्रित किया जाएगा. सरकारी प्रसारणकर्ता ‘दूरदर्शन' द्वारा दिखाई गई दोनों नेताओं की फुटेज में मोदी सूर्यास्त के दौरान सूरज की मध्यम रोशनी में चीनी नेता को स्मारकों की ऐतिहासिक महत्ता बताते दिख रहे हैं. सफेद कमीज और काली पतलून पहने शी चीन के फुजियांग प्रांत के साथ ऐतिहासिक रूप से जुड़े इस तटीय शहर के विरासत स्थल में प्रसिद्ध गुफाओं एवं पत्थर की मूर्तियों में काफी रुचि दिखाते दिखे. मोदी और शी की मदद के लिए उनके साथ एक-एक अनुवादक भी थे. दोनों ‘पंच रथ' परिसर में करीब 15 मिनट बैठे और उन्होंने नारियल पानी पीते हुए गहन वार्ता की.

मोदी-शी की वार्ता से पहले बोले चीनी राजदूत, कहा, दोनों देश एक दूसरे के लिए खतरा नहीं

इस बैठक की तस्वीरों में दो उभरती अर्थव्यवस्थाओं के नेताओं के बीच गर्मजोशी और तालमेल दिखा. दोनों नेता ‘पंच रथ' से पल्लव राजवंश की सांस्कृतिक विरासत के प्रतीक ‘शोर मंदिर' गए जिसमें की गई रोशनी देखते ही बन रही थी. वहां कुछ समय बिताने के बाद मोदी और शी के साथ दोनों पक्षों के शीर्ष प्रतिनिधिमंडल भी वहां आ गए. इसके बाद सभी ने कलाक्षेत्र सोसाइटी की सांस्कृतिक प्रस्तुति का आनंद लिया. इस समारोह के बाद मोदी ने ‘शोर मंदिर' परिसर में एक निजी रात्रिभोज में शी की मेजबानी की. मंदिर को रोशनी और फूलों से सजाया गया था. दोनों पक्षों से आठ-आठ प्रतिनिधियों को भी इस भोज के लिए आमंत्रित किया गया था. रात्रिभोज में तमिलनाडु के चुनिंदा पारंपरिक व्यंजनों समेत शाकाहारी एवं मांसाहारी व्यंजन परोसे गए. ‘नवनीत पिंड' (कृष्णाज बटरबॉल) स्थल पर मोदी ने शी के साथ निजी तालमेल को दर्शाते हुए उनका हाथ पकड़कर ऊपर उठाया.

टिप्पणियां

शी चिनफिंग ने इमरान खान से कहा- कश्मीर में स्थिति पर ‘करीबी नजर' रखे हुए है चीन

कुमार ने एक ट्वीट किया, ‘‘साथ मिलकर, सीना ताने खड़े.'' इससे पहले मोदी के साथ दूसरी अनौपचारिक शिखर वार्ता के लिए यहां पहुंचे शी का चेन्नई में भव्य स्वागत किया गया. शी के यहां हवाईअड्डे पर पहुंचने पर तमिलनाडु के राज्यपाल बनवारी लाल पुरोहित, मुख्यमंत्री के पलानीस्वामी, उप मुख्यमंत्री ओ पनीरसेल्वम और चीन में नियुक्त भारत के राजदूत विक्रम मिस्री ने उनका स्वागत किया. शी के ‘एयर चाइना बोइंग 747' विमान से भारत पहुंचने के कुछ ही देर बाद मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘राष्ट्रपति शी चिनफिंग, आपका भारत में स्वागत है.''



(हेडलाइन के अलावा, इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है, यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)


NDTV.in पर विधानसभा चुनाव 2019 (Assembly Elections 2019) के तहत हरियाणा (Haryana) एवं महाराष्ट्र (Maharashtra) में होने जा रहे चुनाव से जुड़ी ताज़ातरीन ख़बरें (Election News in Hindi), LIVE TV कवरेज, वीडियो, फोटो गैलरी तथा अन्य हिन्दी अपडेट (Hindi News) हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement