असम में बोले PM मोदी : 'पिछली सरकार ने दिसपुर को दूर माना, अब दिल्ली आपके दरवाजे पर खड़ी है'

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को चुनावी राज्य असम में कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया. उन्होंने कहा कि वो आत्मनिर्भर असम के विकास में सहभागी बन रहे हैं.

असम में बोले PM मोदी : 'पिछली सरकार ने दिसपुर को दूर माना, अब दिल्ली आपके दरवाजे पर खड़ी है'

PM Modi in Assam: पीएम मोदी ने की 'आत्मनिर्भर असम' की बात.

नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सोमवार को चुनावी राज्य असम में गए हैं, जहां उन्होंने कई विकास परियोजनाओं का उद्घाटन और शिलान्यास किया. पीएम ने कहा कि असम की बीजेपी की सरकार ने यहां सभी अधूरे कामों को तेजी से पूरा करवाया है और वंचित जगहों पर पहुंचने की कोशिश कर रही है. उन्होंंने कहा कि 'असम के पास सबकुछ है, जो यहां के नागरिक को बेहतर जीवन के लिए चाहिए, जरूरत इसकी है कि विकास का जो डबल इंजन है, उसे मजबूत किया जाए और इसका मौका आ रहा है. असम के लोगों के आशीर्वाद से, असम के विकास में और तेजी आएगी.'

पीएम ने पिछली सरकार पर आरोप लगाते हुए कहा कि 'आजादी के बाद दशकों से देश पर राज करने वालों ने दिसपुर को दिल्ली से दूर मान लिया, दिल्ली दूर नहीं है, दिल्ली आपके दरवाजे पर खड़ी है. पिछले कुछ सालों में केंद्र सरकार के मंत्रियों को यहां भेजा गया है. ताकि वो आपकी जरूरतों को ध्यान में रखते हुए काम करें, समझें. मैं भी आता रहा हूं ताकि आपके विकास में सहभागी बन सकूं.'

सरकार ने यहां भी किसानों के लिए उठाए गए सरकार के कदमों की चर्चा की. उन्होंने कहा कि 'ब्रह्मपुत्र के आशीर्वाद से, इस क्षेत्र की जमीन बहुत ही उपजाऊ रही है. यहां के किसान अपने सामर्थ्य को बढ़ा सकें, उन्हें खेती की आधुनिक सुविधाएं मिल सकें, उनकी आय बढ़े, इसके लिए राज्य और केंद्र सरकार मिलकर काम कर रही हैं.' पीएम ने कहा कि चाहे किसानों के खाते में सीधा पैसा ट्रांसफर करना हो, या उन्हें अच्छे बीज देना हो, सरकार उनकी हर जरूरत को सर्वोपरि रखते हुए काम कर रही है.

यह भी पढ़ें : 'मूड ऑफ द नेशन' क्या है, पता चल चुका है : नीति आयोग की बैठक में पीएम मोदी

किसानों और मत्स्य मंत्रालय पर भी की टिप्पणी

पीएम मोदी ने यहां मत्स्य पालन के किसानों और मत्स्य मंत्रालय पर भी टिप्पणी की. उन्होंने कहा कि 'मछली पालन पर विशेष जोर देते हुए सरकार एक अलग मंत्रालय काफी पहले ही बना चुकी है. मछली पालन को बढ़ावा देने के लिए जितना आजादी के बाद से खर्च नहीं हुआ, उससे ज्यादा अब हमारी सरकार खर्च कर रही है. मछली व्यवसाय से जुड़े किसानों के लिए 20 हजार करोड़ रुपये की योजना बनाई गई है, इसका लाभ असम के लोगों को भी मिलेगा.'


बता दें कि कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने अभी पिछले हफ्ते ही पुदुच्चेरी में कहा था कि सरकार ने मत्स्य मंत्रालय नहीं बनाया है, लेकिन बीजेपी ने कहा था कि केंद्र में पीएम मोदी ने 2019 में ही मत्स्य मंत्रालय का पशुपालन और डेयरी मंत्रालय के साथ ही गठन किया है. इसपर कांग्रेस ने कहा था कि बीजेपी ने एक अलग मंत्रालय लाने का वादा पूरा नहीं किया है.

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


पीएम मोदी ने कहा कि असम के युवाओं के पास अद्भुत क्षमता है और यहां सरकार कई क्षेत्रों के लिए बड़ी संख्या में कॉलेज स्थापित कर रही है. उन्होंने कहा कि 'असम के पास Tea, Tourism, Handloom और Handicraft की ताकत है. बच्चे ये स्किल स्कूल-कॉलेज से ही सीखेंगे तो आत्मनिर्भरता की नींव वहीं से जुड़ेगी.'