PM मोदी ने बिहार में 'कोसी रेल महासेतु' का उद्घाटन किया, बोले- रेल कनेक्टिविटी का नया इतिहास रचा गया..

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को बिहार विधानसभा चुनावों के पहले कई परियोजनाओं का शुभारंभ किया है और कोसी रेल महासेतु का उद्घाटन करते हुए इसे राष्ट्र को समर्पित किया है.

PM मोदी ने बिहार में 'कोसी रेल महासेतु' का उद्घाटन किया, बोले- रेल कनेक्टिविटी का नया इतिहास रचा गया..

बिहार चुनाव के पहले पीएम मोदी ने बिहार में शुरू की विकास परियोजनाएं. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • बिहार विधानसभा चुनाव के पहले विकास परियोजनाएं
  • कोसी रेल महासेतु का उद्घाटन किया
  • 12 रेल परियाजनाओं का शुभारंभ
नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने शुक्रवार को बिहार विधानसभा चुनावों (Bihar Assembly Elections-2020) के पहले कई परियोजनाओं का शुभारंभ किया है और कोसी रेल महासेतु का उद्घाटन करते हुए इसे राष्ट्र को समर्पित किया है. कोसी महासेतु परियोजना को 2003-04 में केंद्र सरकार ने मंजूरी दी थी. इसकी लंबाई 1.9 किलोमीटर है और इसके निर्माण में 516 करोड़ रुपए की लागत आई है.

पीएम मोदी ने जिन परियोजाओं का शुभारंभ किया उनमें किउल नदी पर एक नया रेल पुल, दो नई रेल लाइनें, पांच विद्युतीकरण परियोजनाएं, एक विद्युत लोकोमोटिव शेड और बाढ़-बख्तियारपुर के बीच तीसरी नई लाइन परियोजना शामिल हैं. इनके अलावा प्रधानमंत्री ने दो नई लाइन परियोजनाओं हाजीपुर-घोसवार-वैशाली और इस्लामपुर-नातेशर का भी उदघाटन किया है. उन्होंने करनौती-बख्तियारपुर संपर्क बाईपास और बाढ़-बख्तियारपुर के बीच तीसरी लाइन का भी उद्घाटन किया है. 

पीएम ने इस वर्चुअल कार्यक्रम में इस महासेतु का उद्घाटन करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि 'कोसी और मिथिला क्षेत्र के लिए ये महासेतु सुविधा का साधन तो है ही, ये इस पूरे क्षेत्र में व्यापार-कारोबार, उद्योग-रोज़गार को भी बढ़ावा देने वाला है. आज कोसी महासेतु होते हुए सुपौल-आसनपुर कुपहा के बीच ट्रेन सेवा शुरू होने से सुपौल, अररिया और सहरसा जिले के लोगों को बहुत लाभ होगा. यही नहीं, इससे नॉर्थ ईस्ट के साथियों के लिए एक वैकल्पिक रेलमार्ग भी उपलब्ध हो जाएगा.'

यह भी पढ़ें: PM की चौखट तक पहुंची JDU-LJP की जंग, चिराग पासवान ने खत लिखकर कहा - नीतीश सरकार से खुश नहीं जनता : रिपोर्ट

पीएम ने कहा, 'जब नीतीश जी रेल मंत्री थे, जब पासवान जी रेल मंत्री थे, तो उन्होंने भी इस समस्या को दूर करने के लिए बहुत प्रयास किया था. लेकिन, फिर एक लंबा समय वो आया, जब इस दिशा में ज्यादा काम ही नहीं किया गया.' पीएम ने कहा कि लगभग 3 हजार करोड़ रुपए वाले इन प्रोजेक्ट्स से बिहार का रेल नेटवर्क तो सशक्त होगा ही, पश्चिम बंगाल और पूर्वी भारत की रेल कनेक्टिविटी भी मजबूत होगी. 

पीएम ने कहा कि 'आज बिहार में 12 हज़ार हॉर्सपावर के सबसे शक्तिशाली विद्युत इंजन बन रहे हैं. बिहार के लिए एक और बड़ी बात ये है कि आज बिहार में रेल नेटवर्क के लगभग 90% हिस्से का बिजलीकरण पूरा हो चुका है. बीते 6 साल में ही बिहार में 3 हज़ार किलोमीटर से अधिक के रेलमार्ग का बिजलीकरण हुआ है.'

बता दें कि पिछले कुछ दिनों में प्रधानमंत्री ने बिहार को दर्जन भर से अधिक परियोजनाओं का सौगात दिया है. बिहार में अक्टूबर-नवंबर में विधानसभा के चुनाव होने हैं. चुनाव आयोग तारीखों को लेकर जल्द ही घोषणा कर सकता है.

Video: बिहार विधानसभा चुनाव में NDA का सीट फॉर्मूला

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com