PM मोदी बोले- कोरोना के काल में भी कुपोषण के खिलाफ अहम जंग लड़ रहा भारत

संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) की 75वीं वर्षगांठ पर आयोजित एक कार्यक्रम में पीएम मोदी ने कहा कि भारत रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन के कारण कोरोना के इस मुश्किल दौर में भी कुपोषण के खिलाफ आगे आकर जंग लड़ रहा है.

PM मोदी बोले- कोरोना के काल में भी कुपोषण के खिलाफ अहम जंग लड़ रहा भारत

संयुक्त राष्ट्र की एजेंसी खाद्य एवं कृषि संगठन को इस साल नोबेल पुरस्कार भी मिला है

खास बातें

  • संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संगठन की 75वीं वर्षगांठ पर बोले मोदी
  • प्रधानमंत्री ने देश में ज्यादा पौष्टिक तत्वों वाली फसलें उगाने पर जोर दिय
  • 70-80 करोड़ लोगों को दिया जा रहा है मुफ्त राशन
नई दिल्ली:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने शुक्रवार को संयुक्त राष्ट्र खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) की 75वीं वर्षगांठ पर आयोजित एक डिजिटल कार्यक्रम को संबोधित किया. पीएम मोदी ने कहा कि भारत रिकॉर्ड खाद्यान्न उत्पादन के कारण कोरोना के इस मुश्किल दौर में भी कुपोषण के खिलाफ आगे आकर जंग लड़ रहा है.

यह भी पढ़ें- पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव से पहले चुनावी अखाड़ा बना दुर्गा पूजा महोत्सव, PM करेंगे पूजा पंडाल का उद्घाटन

प्रधानमंत्री ने #SahiPoshanDeshRoshan के साथ अहम जानकारियां साझा कीं. FAO के 75 साल होने पर एक स्मृति सिक्का भी जारी किया गया. मोदी ने कहा कि देश में अब ऐसी फसलों को प्रोत्साहित किया जा रहा है, जिनसे ज्यादा मात्रा में पौष्टिक तत्व मिलें.प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना के कारण जहां पूरी दुनिया संघर्ष कर रही है, वहीं भारत के किसानों ने इस बार पिछले साल के उत्पादन के रिकॉर्ड को भी तोड़ दिया.

Newsbeep

खाद्यान्न उत्पादन के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए
सरकार ने गेहूं, धान और दालें सभी प्रकार के खाद्यान्न की खरीद के अपने पुराने रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. जबकि बीते कुछ महीनों में पूरे विश्व में कोरोना संकट के दौरान भुखमरी-कुपोषण को लेकर अनेक तरह की चर्चाएं हो रही हैं. बड़े-बड़े निर्यातक अपनी चिंताएं जता रहे हैं कि क्या होगा, कैसे होगा?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com


80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन दे रहा देश
पीएम ने कहा कि भारत पिछले 7-8 महीनों से लगभग 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त राशन उपलब्ध करा रहा है. आज भारत में निरंतर ऐसे सुधार किए जा रहे हैं जो वैश्विक खाद्य सुरक्षा (Global Food Security) के प्रति भारत की प्रतिबद्धता को दिखाते हैं. खेती और किसान को सशक्त करने से लेकर भारत के पीडीएस सिस्टम (Public Distribution System) तक में एक के बाद एक सुधार किए जा रहे हैं. इस दौरान भारत ने करीब-करीब डेढ़ लाख करोड़ रुपए का खाद्यान्न गरीबों को मुफ्त बांटा है.