NDTV Khabar

जापान में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए बोले PM मोदी- हमारी लोकतांत्रिक संस्थाएं और प्रणाली दुनिया में अग्रणी

जापान में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) ने कहा कि मैं सौभाग्यशाली हूं कि सात महीने बाद फिर यहां आने का अवसर मिला.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां

खास बातें

  1. जापान में भारतीय समुदाय को पीएम मोदी ने किया संबोधित
  2. पीएम मोदी बोले- भारत-जापान के रिश्ते सदियों पुराने
  3. कहा- लोकतंत्र के प्रति भारत के सामान्य जन की निष्ठा अटूट
नई दिल्ली/ओसाका:

जापान में भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं सौभाग्यशाली हूं कि सात महीने बाद फिर यहां आने का अवसर मिला. यह संयोग है कि पिछली बार जब यहां आया था, तब यहां चुनाव परिणाम आए थे, और आपने मेरे मित्र शिन्जो आबे में भरोसा जताया था, और आज जब मैं यहां आया हूं, दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र ने प्रधानसेवक पर उससे भी ज़्यादा भरोसा जताया है.'

जापान पहुंचे पीएम मोदी, ट्रंप समेत कई नेताओं से करेंगे मुलाकात

पीएम मोदी ने कहा कि 130 करोड़ भारतीयों ने पहले से भी मजबूत सरकार बनाई है. ये अपने आप में बहुत बड़ी घटना है. तीन दशक बाद पहली बार लगातार दूसरी बार पूर्ण  बहुमत की सरकार बनाई है. मुझे पता है कि आपमें से भी अनेक साथियों का इस जनमत में अमूल्य योगदान रहा है. जब दुनिया के साथ भारत के रिश्तों की बात आती है तो जापान का उसमें एक अहम स्थान है. ये रिश्ते आज के नहीं हैं, बल्कि सदियों के हैं. लोकतंत्र के प्रति भारत के सामान्य जन की निष्ठा अटूट है. हमारी लोकतांत्रिक संस्थाएं और लोकतांत्रिक प्रणाली दुनिया में अग्रणी है.


पीएम मोदी के भाषण से विपक्ष असंतुष्ट, टीएमसी ने कहा- धर्म के नाम पर जो हो रहा, वह संविधान में नहीं

पीएम मोदी (PM Modi)  ने कहा कि आप इतनी दूर बैठकर जैसे हिंदुस्तान को देखते हैं, तो सत्य को जानने की ताकत आपके पास ज्यादा होती है. भारत की यही शक्ति 21वीं सदी के विश्व को नई उम्मीद देने वाली है. 1971 के बाद देश ने पहली बार एक सरकार को प्रो इंकम्बेंसी जनादेश दिया है.

अमेरिकी विदेश मंत्री पोम्पिओ के साथ बैठक में एस-400 पर बोले एस जयशंकर- 'वही करेंगे जो देशहित में होगा'

टिप्पणियां

पीएम नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने कहा कि हमारे बोलचार के भी कुछ सूत्र हैं जो हमें जोड़ते हैं- जिसे भारत में 'ध्यान' कहा जाता है, उसे जापान में 'जेन' कहा जाता है और जिसे भारत में 'सेवा' कहा जाता है, उसे जापान में भी 'सेवा' कहा जाता है. उन्होंने कहा कि गांधी जी की एक सीख बचपन से हम लोग सुनते आए हैं और वो सीख थी 'बुरा मत देखो, बुरा मत सुनो, बुरा मत कहो.' भारत का बच्चा-बच्चा इसे भली भांति जानता है, लेकिन बहुत कम लोगों को ये पता है कि जिन तीन बंदरों को इस संदेश के लिए बापू ने चुना उनका जन्मदाता 70वीं सदी का जापान है. उन्होंने कहा कि सबका साथ, सबका विकास, सबका विश्वास के जिस मंत्र पर हम चल रहे हैं, वो भारत पर दुनिया के विश्वास को भी मजबूत करेगा.

पीएम मोदी ने कहा कि जब दुनिया के साथ भारत के रिश्तों की बात आती है तो जापान का उसमें एक अहम स्थान है. ये रिश्ते आज के नहीं हैं, बल्कि सदियों के हैं. 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement