NDTV Khabar

पीएम मोदी वाराणसी से ही लड़ेंगे चुनाव, 25 केंद्रीय मंत्री वाराणसी की जनता से सीधे करेंगे संवाद

बीजेपी नेताओं का कहना है कि यह कार्यक्रम सिर्फ पीएम के चुनाव क्षेत्र तक ही सीमित नहीं रहेगा. इसे अन्य चुनाव क्षेत्रों में भी आयोजित किया जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम मोदी वाराणसी से ही लड़ेंगे चुनाव, 25 केंद्रीय मंत्री वाराणसी की जनता से सीधे करेंगे संवाद

फाइल फोटो

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकसभा चुनाव 2019 में ओडिशा के पुरी से चुनाव लड़ने की अटकलों के बीच आज साफ हो गया है कि वह वाराणसी से ही चुनाव लड़ेंगे. बीजेपी ने वाराणसी में पूरी ताकत लगाने का फैसला किया है. बीजेपी सूत्रों के अनुसार अगले तीन महीनों में 25 केंद्रीय मंत्री बनारस की जनता से सीधे संवाद करेंगे. ये मंत्री अपने मंत्रालयों से जुड़े प्रोफेशनल्स से तो बात करेंगे ही साथ ही उपलब्धियों का लेखा-जोखा रखने के साथ उनकी समस्याओं का समाधान भी करेंगे. हर मंत्री से कहा गया है कि पांच से दस हजार लोगों के सम्मेलन करें. इन सम्मेलनों में मंत्री बनारस में हुए अपने मंत्रालयों के काम का ब्यौरा देंगे. इसकी शुरुआत भी हो चुकी है. 

वाराणसी में योगी आदित्यनाथ ने अलकनंदा क्रूज का उद्घाटन किया, जानें क्या है इसकी खासियत

टिप्पणियां
हाल ही में कृषि मंत्री राधामोहन सिंह ने बनारस में पांच हजार किसानों का सम्मेलन किया था. अगले हफ्ते रेल राज्य मंत्री मनोज सिन्हा कुलियों के बीच जाएंगे. कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद वकीलों से संवाद करेंगे तो वहीं वित्त राज्य मंत्री शिवप्रताप शुक्ला चार्टर्ड अकाउंटेंट से मिलेंगे. स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा डॉक्टरों से मुख़ातिब होंगे, रसायन व उर्वरक मंत्री अनंत कुमार केमिस्ट से बात करेंगे, सड़क एवं परिवहन राज्य मंत्री मनसुख मंडाविया ई रिक्शा चालकों से मिलेंगे, वहीं ग्रामीण विकास मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ग्राम प्रधानों से संवाद कर उनकी राय जानेंगे, महिला कल्याण के लिए काम करने वाली संस्थाओं से महिला विकास मंत्री मेनका गांधी बात करेंगी, तो बुनकर और साड़ी बनाने वाले कारीगरों से वस्त्र मंत्री स्मृति ईरानी मुखातिब होंगी. 

बदहाली के घाट, पीएम के सामने वाराणसी घाट की सच्चाई को छुपा लिया​

बीजेपी नेताओं का कहना है कि यह कार्यक्रम सिर्फ पीएम के चुनाव क्षेत्र तक ही सीमित नहीं रहेगा. इसे अन्य चुनाव क्षेत्रों में भी आयोजित किया जाएगा. इसका नाम सांसद जन संवाद रखा गया है. इसमें हर चुनाव क्षेत्र में व्यवसायिकों से सीधा संवाद किया जाएगा. इसका मकसद यह जानना है कि सरकार के फैसले जमीन तक पहुंच भी पा रहे हैं या नहीं. साथ ही, सरकारी योजनाओं के बारे में जनता की क्या राय है? 
 


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement