कोरोना काल में 6 बार देश को संबोधित कर चुके PM नरेंद्र मोदी, जानें इस दौरान किस बारे में की बात..

कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद पीएम कई बार राष्‍ट्र को संबोधित कर चुके हैं. आइए जानते हैं कि मार्च माह से पीएम ने कितने बार देश को संबोधित किया और क्‍या मुद्दे पर बात की...

कोरोना काल में 6 बार देश को संबोधित कर चुके PM नरेंद्र मोदी, जानें इस दौरान किस बारे में की बात..

देश में कोरोना महामारी के बीच मार्च से पीएम अब तक छह बार देश को संबोधित कर चुके है

खास बातें

  • संबोधन इस बार किस मुद्दे पर होगा इसे लेकर अटकलें जारी
  • फेस्टिव सीजन में सावधानियों या वैक्‍सीन के बारे में कर सकते हैं बात
  • मार्च माह से अब तक छह बार देश के लोगों को कर चुके हैं संबोधित
नई दिल्‍ली:

Covid-19 Pandemic: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi)  मंगलवार को शाम 6 बजे देश को संबोधित करेंगे. उन्‍होंने एक ट्वीट के जरिये यह जानकारी दी. अपने ट्वीट में पीएम ने लिखा-"आज शाम 6 बजे राष्ट्र के नाम संदेश दूंगा. आप जरूर जुड़ें." यह अभी स्‍पष्‍ट नहीं हो सका है कि पीएम अपने संबोधन में किस मुद्दे पर बात करेंगे हालांकि माना जा रहा है कि वे देश में कोरोना वायरस के संक्रमण की स्थिति और फेस्टिव सीजन के मद्देनजर ऐहतियाती उपायों को लेकर चर्चा कर सकते हैं. कोरोना वायरस के प्रकोप के बाद पीएम कई बार राष्‍ट्र को संबोधित कर चुके हैं. आइए जानते हैं कि मार्च माह से पीएम ने कितने बार देश को संबोधित किया और क्‍या मुद्दे पर बात की...

19 मार्च: ऐसे समय जब कोरोना ने देश में दस्‍तक दी थी, पीएम ने 19 मार्च को अपने पहले संबोधन में जनता कर्फ्यू का ऐलान किया था. उन्‍होंने लोगों को एक दिन घर में ही रहने की अपील की थी.

प्रधानमंत्री ने बताया, उनके किस फैसले की वजह से कोरोना संक्रमण के मामलों में आ रही है कमी

24 मार्च: कोरोना मामले को लेकर अपने पहले संबोधन के चार दिन बाद 24 मार्च को पीएम एक बार फिर देश की जनता के सामने आए थे. उन्‍होंने बताया था कि कोरोनावायरस (Coronavirus) की रोकथाम के लिए आज रात 12 बजे से पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन कर दिया गया है.पीएम ने अपने संबोधन में कहा था कि 21 दिन तक घर से निकलना भूल जाइए. जो देश कोरोना से प्रभावित हैं, उन  देशों को दो महीने के अध्ययन से यही निष्‍कर्ष निकला है कि बचाव का एकमात्र रास्ता है सोशल डिस्टैसिंग यानी अपने घरों में बंद रहना इसके अलावा कोई और रास्ता नहीं है. 

3 अप्रैल: पीएम ने 3 अप्रैल को एक बार फिर देश को संबोधित किया पीएम मोदी ने अपने इस संबोधन में कोरोना के खिलाफ जंग में एकजुटता पर जोर दिया था. उन्‍होंने कहा था, 'देश एक होकर ही कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ सकता है. कुछ लोग यह सोच रहे हैं कि कितने दिन ऐसे और काटने पड़ेंगे. साथियों यह लॉकडाउन का समय जरूर हैं, हम अपने घरों में जरूर हैं, लेकिन हम में से कोई अकेला नहीं है. 130 करोड़ लोगों की सामूहिक शक्ति हर लोगों की एकता है.

PM मोदी बोले- कोरोना के काल में भी कुपोषण के खिलाफ अहम जंग लड़ रहा भारत

14 अप्रैल: अपन संबोधन में पीएम ने लॉकडाउन को 14 अप्रैल तक चलने वाला लॉकडाउन 3 मई तक बढ़ाने का ऐलान किया था.पीएम मोदी ने कहा Fkk, ''साथियों, सारे सुझावों को ध्यान में रखते हुए ये तय किया गया है कि भारत में लॉकडाउन को अब 3 मई तक और बढ़ाना पड़ेगा. यानि 3 मई तक हम सभी को, हर देशवासी को लॉकडाउन में ही रहना होगा. इस दौरान हमें अनुशासन का उसी तरह पालन करना है, जैसे हम करते आ रहे हैं. मेरी सभी देशवासियों से ये प्रार्थना है कि अब कोरोना को हमें किसी भी कीमत पर नए क्षेत्रों में फैलने नहीं देना है.'' 

कोरोना के टीकाकरण के लिए व्यवस्था चुनाव की तरह दुरुस्त रखी जाए : पीएम मोदी

12 मई: कोरोना काल के दौरान जब पीएम मोदी पांचवीं बार देशवासियों से मुखातिब हुए थे तो 20 लाख करोड़ के आर्थिक पैकेज का ऐलान किया था. पीएम ने कहा कि 20 लाख करोड़ रुपये का यह पैकेज 'आत्मनिर्भर भारत अभियान' को नई गति देगा.

30 जून: कोरोना मामले में पीएम ने 30 जून के अपने राष्ट्र के नाम संबोधन में Unlock 2.0 को लेकर अपनी बातें देश के समक्ष रखी थी. उन्होंने कहा था कि अनलॉक के बाद से देखा जा रहा है कि लोगों में लापरवाही बढ़ गई है जबकि यही सख्ती करने का वक्त है. उन्होंने फेस मास्क से जुड़े नियमों पर खासा जोर दिया. प्रधानमंत्री ने कहा कि सार्वजनिक जगहों पर फेस मास्क पहनना अनिवार्य है. पीएम ने कहा, 'अनलॉक के बाद से कोरोनावायरस महामारी के दौरान लागू किए गए दिशा-निर्देशों का लोग उल्लंघन करते हुए नजर आ रहे हैं, ऐसा नहीं होना चाहिए.

Newsbeep

क्या भारत में जल्द खत्म होने वाली है कोरोना महामारी?

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com