NDTV Khabar

मन की बात: तीन तलाक पर पीएम मोदी ने मुस्लिम महिलाओं दिया भरोसा, 'न्याय दिलाने के लिए देश साथ खड़ा है'

Mann Ki Baat: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज मासिक रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात में देशवासियों को संबोधित किया.

1.2K Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मन की बात: तीन तलाक पर पीएम मोदी ने मुस्लिम महिलाओं दिया भरोसा, 'न्याय दिलाने के लिए देश साथ खड़ा है'

Mann ki Baat : मन की बात में पीएम मोदी

नई दिल्ली: Mann Ki Baat: प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी आज मासिक रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात में देशवासियों को संबोधित किया. ‘मन की बात’ कार्यक्रम के  47वाें संस्करण में पीएम मोदी ने सभी देशवासियों को रक्षाबन्धन एवं जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएं दी. प्रधानमंत्री मोदी ने मन की बात में केरल में आई भीषण त्रासदी को याद किया और वहां के लोगों को यह विश्वास दिलाया कि उनके साथ पूरे देश के लोग हैं. पीेम मोदी ने कहा कि कच्छ से कामरूप और कश्मीर से कन्याकुमारी तक हर कोई अपने-अपने स्तर पर कुछ-न-कुछ कर रहा है ताकि जहां भी आपत्ति आई; चाहे केरल हो या हिन्दुस्तान के और जिले हों, वहां जन-जीवन फिर से सामान्य हो सके
 

मन की बात LIVE UPDATES:


- दुष्कर्म के दोषियों को कम-से-कम 10 वर्ष की सज़ा होगी, वहीँ 12 वर्ष से कम उम्र की बच्चियों से रेप करने पर फांसी की सज़ा होगी. कुछ दिन पहले  मध्य प्रदेश के मंदसौर में एक अदालत ने सिर्फ़ दो महीने की सुनवाई के बाद नाबालिग़ से रेप के दो दोषियों को फाँसी की सज़ा सुनाई है. : पीएम मोदी

-देश की नारी शक्ति के खिलाफ़ कोई भी सभ्य समाज किसी भी प्रकार के अन्याय को बर्दाश्त नहीं कर सकता. बलात्कार के दोषियों को देश सहन करने के लिए तैयार नहीं है, इसलिए संसद ने आपराधिक कानून संशोधन विधेयक को पास कर कठोरतम सज़ा का प्रावधान किया है : पीएम मोदी


-अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के अधिकारों को सुरक्षित करने के लिए संशोधन विधेयक को भी पास करने का काम इस सत्र में हुआ. यह कानून SC और ST समुदाय के हितों को और अधिक सुरक्षित करेगा . साथ ही यह अपराधियों को अत्याचार करने से रोकेगा और दलित समुदायों में विश्वास भरेगा. : पीएम मोदी

-दशकों से SC/ST Commission की तरह ही OBC Commission बनाने की मांग चली आ रही थी. पिछड़े वर्ग के अधिकारों को सुनिश्चित करने के लिए देश ने इस बार OBC आयोग बनाने का संकल्प पूरा किया और उसको एक संवैधानिक अधिकार भी दिया. यह कदम सामाजिक न्याय के उद्देश्य को आगे ले जाने वाला सिद्ध होगा. : पीएम मोदी

-संसद का ये मानसून सत्र सामाजिक न्याय और युवाओं के कल्याण के सत्र के रूप में हमेशा याद किया जाएगा. इस सत्र में युवाओं और पिछड़े समुदायों को लाभ पहुँचाने वाले कई महत्वपूर्ण विधेयकों को पारित किया गया. : पीएम मोदी

- ट्रिपल तलाक मुद्दे पर पीएम मोदी ने कहा कि मॉनसून सत्र में तीन तलाक बिल पास नहीं हो सका. मैं मुस्लिम महिलाओं को विश्वास दिलाता हूं कि देश उन्हें न्याय दिलाने के लिए साथ खड़ा है. 

- स्वस्थ लोकतंत्र के लिए, उत्तम लोकतंत्र के लिए अच्छी परम्पराएं विकसित करना, लोकतंत्र को मजबूत बनाने के लिए लगातार प्रयास करना, चर्चाओं को खुले मन से आगे बढ़ाना भी अटल जी को एक उत्तम श्रद्धांजलि होगी. -  पीएम मोदी

- आजकल देश में एक साथ केंद्र और राज्यों के चुनाव कराने के विषय में चर्चा आगे बढ़ रही है .इस विषय के पक्ष और विपक्ष दोनों में लोग अपनी-अपनी बात रख रहे हैं .ये अच्छी बात है और लोकतंत्र के लिए एक शुभ संकेत भी है -  पीएम मोदी

- अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति के अधिकारों को सुरक्षित करने के लिए संशोधन विधेयक को भी इस मानसून सत्र में पास करने का काम किया गया : पीएम मोदी

- 'एक और आज़ादी’, अटल जी के कार्यकाल में ही Indian Flag Code बनाया गया और 2002 में इसे अधिकारित कर दिया गया. इस कोड के कारण ही सार्वजनिक स्थलों पर तिरंगा फहराना संभव हुआ. इसी के चलते अधिक से अधिक भारतीयों को अपना राष्ट्रध्वज फहराने का अवसर मिल पाया.: पीएम मोदी

- अटल जी के इस कदम से पैसों और संसाधनों की बचत के साथ ही कार्यक्षमता में भी बढ़ोतरी हुई. यह अटल जी जैसे दीर्घदृष्टा ही थे, जिन्होंने स्थिति को बदला और हमारी राजनीतिक संस्कृति में स्वस्थ परम्पराएं पनपी. अटल जी एक सच्चे देशभक्त थे: पीएम मोदी

- देशवासियों को यह जानकार प्रसन्नता होगी कि लोकसभा की प्रोडक्टिविटी 118% और राज्यसभा की 74% रही. दलहित से ऊपर उठकर सभी सांसदों ने मानसून सत्र को अधिक से अधिक उपयोगी बनाने का प्रयास किया जिसके परिणाम स्वरुप लोकसभा में 21 और राज्यसभा में 14 विधेयकों को पारित किया गया: पीएम मोदी 

- अटल जी के समय में ही देश का बजट पेश करने के समय में परिवर्तन हुआ. पहले अंग्रेजों की परंपरा के अनुसार शाम को 5 बजे बजट प्रस्तुत किया जाता था क्योंकि उस समय लन्दन पार्लियामेंट शुरू होने का समय होता था. वर्ष 2001 में अटल जी ने बजट पेश करने का समय शाम 5 बजे से बदलकर सुबह 11 किया था : पीएम मोदी 

- अटल जी के कार्यकाल में  ही देश को 'Indian Flag Code' के रूप में एक और आजादी मिली थी जिसके फलस्वरूप ही आज सार्वजानिक स्थलों पर तिरंगा फहराना संभव हुआ : पीएम मोदी 

- गुड गवर्नेंस को मुख्य धारा में लाने के लिए यह देश सदा अटल जी का आभारी रहेगा. अटल जी ने भारत को जो पॉलिटिकल संस्कृति दिया और इसमें जो बदलाव लाने का प्रयास किया, उसको व्यवस्था के ढांचे में ढालने का प्रयास किया. और जिसके कारण भारत को बहुत लाभ हुआ हैं और आगे भी होने वाला है. : पीएम मोदी

- जीवन की जो क्षति हुई है, उसकी भरपाई तो नहीं हो सकती लेकिन मैं शोक-संतप्त परिवारों को विश्वास दिलाना चाहता हूं कि सवा-सौ करोड़ भारतीय दुःख की इस घड़ी में आपके साथ कन्धे से कन्धा मिलाकर खड़े हैं : पीएम मोदी

- केरल में भीषण बाढ़ ने जन-जीवन को बुरी तरह प्रभावित किया है और इन कठिन परिस्थितियों में पूरा देश केरल के साथ खड़ा है. हमारी संवेदनाएं उन परिवारों के साथ हैं, जिन्होंने अपनों को गंवाया है. : पीएम मोदी

- कठिन परिश्रम करने वाले हमारे किसानों के लिए मानसून नयी उम्मीदें लेकर आता है. भीषण गर्मी से झुलसते पेड़-पौधे, सूखे जलाशयोँ को राहत देता है लेकिन कभी-कभी यह अतिवृष्टि और विनाशकारी बाढ़ भी लाता है. प्रकृति की ऐसी स्थिति बनी है कि कुछ जगहों में दूसरी जगहों से ज्यादा बारिश हुई है. : पीएम मोदी

- 16 अगस्त को जैसे ही देश और दुनिया ने अटल जी के निधन का समाचार सुना, हर कोई शोक में डूब गया था : पीएम मोदी

-कच्छ से कामरूप और कश्मीर से कन्याकुमारी तक हर कोई अपने-अपने स्तर पर कुछ-न-कुछ कर रहा है ताकि जहां भी आपत्ति आई; चाहे केरल हो या हिन्दुस्तान के और जिले हों, वहां जन-जीवन फिर से सामान्य हो सके : पीएम मोदी

- केरल की बाढ़ में पैरा मिलिट्री फोर्स और आपदा प्रबंधन संगठन के प्रयास को पीएम मोदी ने सराहा.

- पीएम मोदी ने केरल में बाढ़ की तबाही पर दुख प्रकट किया और बाढ़ पीड़ितो को आश्वस्त किया कि इस संकट की घड़ी में पूरा देश उनके साथ है. उन्होंने केरल के लोगों की भावना की भी प्रशंसा की और कहा कि केरल फिर से राज्य को उपर उठता देखेगा. 

- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जयंति पर मनाए जाने वाल शिक्षक दिवस के लिए भी शिक्षकों कों को शिक्षक दिवस की शुभकमनाएं दी. 

- प्रधानमंत्री ने बेंगलुरु में दसवीं कक्षा में पढ़ने वाली चिन्मयी का श्रावण पूर्णिमा के दिन रक्षाबन्धन के अलावा पड़ने वाले संस्कृत दिवस के विषय को उठाने के लिए आभार व्यक्त किया. 

- हमारे देश के इतिहास में अनेक ऐसी कहानियां हैं, जिनमें एक रक्षा सूत्र ने दो अलग-अलग राज्यों या धर्मों से जुड़े लोगों को विश्वास की डोर से जोड़ दिया था: पीएम मोदी 

-रक्षाबंधन के अलावा श्रावण पूर्णिमा के दिन संस्कृत दिवस भी मनाया जाता है. मैं उन सभी लोगों का अभिनन्दन करता हूं जो इस महान धरोहर को सहजने, संवारने और जन सामान्य तक पहुंचाने में लगे हैं : पीएम मोदी

-भगवान कृष्ण के रंग में रंगकर झूमने का सहज आनन्द अलग ही होता है. देश के कई हिस्सों में और विशेषकर महाराष्ट्र में दही-हांडी की तैयारियां भी हमारे युवा कर रहे होंगे. : पीएम मोदी 

इससे पहले मन की बात के 46वें संस्करण में पीएम मोदी ने कवि गोपाल दास नीरज को श्रद्धांजलि दी थी. उन्होंने कहा कि पिछले दिनों हमारे देश के प्रिय कवि नीरज जी हमें छोड़कर चले गए. नीरज जी की एक विशेषता रही थी, आशा, भरोसा, दृढसंकल्प, स्वयं पर विश्वास हर बात प्रेरणा दे सकती है. नीरज जी को आदरपूर्वक श्रद्धांजलि देता हूं. इसके बाद पीएम ने कहा कि जुलाई और अगस्त का महीना किसानों और सभी नौजवानों के लिए बहुत महत्वपूर्ण होते हैं.

युवाओं के लिए 'स्वच्छ भारत समर इंटर्नशिप 2018', लॉन्च, 'मन की बात' के 10 अहम प्वाइंट्स

टिप्पणियां
गौरतलब है 'मन की बात' आकाशवाणी पर प्रसारित किया जाने वाला एक कार्यक्रम है जिसके जरिए भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी भारत के नागरिकों को संबोधित करते हैं. इस कार्यक्रम का पहला प्रसारण 3 अक्तूबर 2014 को किया गया था. जनवरी 2015 में अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा ने भी उनके साथ इस कार्यक्रम में भाग लिया था तथा भारत की जनता के प्रश्नों के उत्तर दिए थे.

VIDEO: पीएम नरेंद्र मोदी के ‘मन की बात’




Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement