PM नरेंद्र मोदी 30 नवंबर को जा सकते है वाराणसी, नाविकों को सता रही इस बात की चिंता...

देव दीपावली पर हर साल हज़ारों टूरिस्ट वाराणसी आते हैं और गंगा में नौका विहार कर इस अद्भुत नज़ारे का आनंद लेते हैं.नाविकों का भी सालभर की कमाई का एक बड़ा हिस्सा इससे आता है.

PM नरेंद्र मोदी 30 नवंबर को जा सकते है वाराणसी, नाविकों को सता रही इस बात की चिंता...

पीएम नरेंद्र मोदी 30 नवंबर को वाराणसी की यात्रा पर जा सकते हैं (फाइल फोटो)

खास बातें

  • देव दीवाली देखने 30 तारीख को गंगा घाट जा सकते हैं पीएम
  • मीडिया के अनुसार, इससे ललिता से राजघाट तक नावें नहीं चलेंगी
  • देव दीवाली को नाविकों को होती है बड़ी कमाई, उन्‍हें सता रही चिंता
वाराणसी:

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) 30 नवम्बर को अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी (Varanasi) आ सकते हैं. हालंकि अभी इसका कोई ऑफिसियल प्रोग्राम नहीं आया है लेकिन स्थानीय बीजेपी नेता उनके आगमन की तैयारी में जुटे हैं. यही नहीं, इस आगमन पर उनके कार्यक्रम भी तय हो रहे हैं, जिनमें सेवापुरी ब्‍लॉक में एक जनसभा के साथ 30 नवम्बर को होने वाले देव दीपावली प्रोग्राम में भी शामिल होने की बात हो रही है. पीएम के आगमन के इन कार्यक्रमों की खबर भी अखबार में छप रही है. ऐसी ही एक खबर आज ये छपी कि प्रधानमंत्री मोदी, देव दीपावली देखने गंगा घाट आयेंगे लिहाजा उनकी सुरक्षा की दृष्टि से ललिता घाट से लेकर राजघाट तक सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक नौका का संचालन नहीं होगा.

PM मोदी पुणे स्थित सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया का करेंगे दौरा, कोरोना वैक्सीन बना रही है कंपनी

गौरतलब है कि देव दीपावली पर हर साल हज़ारों टूरिस्ट वाराणसी आते हैं और गंगा में नौका विहार कर इस अद्भुत नज़ारे का आनंद लेते हैं.नाविकों का भी सालभर की कमाई का एक बड़ा हिस्सा इससे आता है, लिहाजा जैसे ही ये खबर अखबार में आई कि कुछ घाटों में नौका संचालन नहीं होगा तो नाविक समाज में हलचल हुई. आननफानन में मीटिंग बुलाई गई और ये तय किया गया कि अगर सभी घाटों में नौका संचालन की अनुमति नहीं मिलेगी तो वो लोग उस दिन गंगा में नाव नहीं चलाएंगे.

कोरोना पर बैठक में PM ने CMs से कहा- 5% के नीचे लाएं पॉजिटिविटी रेट

नाविक पृथ्वीनाथ साहनी कहते हैं, 'हम लोगों ने मीटिंग की. अभी अखबार में समाचार पत्रों में पढ़ा है कि राजघाट से ललिता घाट तक नावें नहीं चलेगी और ललिता घाट से अस्सी घाट तक चलेगी और इधर राजघाट तक नहीं चलेगी. ऐसे में हमारे सभी भाई जो ललिता घाट से राजघाट तक चलाते हैं, वे भूखे मर जाएंगे. आधी नाव चलेंगी, ऐसे में हमारा हम लोगों का कहना है कि चले तो पूरा रामनगर से लेकर राजघाट तक. ये देव दीपावली परम्परागत त्यौहार है हम लोग पैसेंजर उठाते हैं तो रामनगर से राजघाट तक माननीय प्रधानमन्त्री की वजह से आधे नाविक भूखे मर जाएंगे. इसको देखते हुवे हम लोगों ने निर्णय लिया कि अगर हमारे आधे नाविक भूखा मरेंगे तो क्यों न माननीय प्रधानमंत्री के सम्मान में रामनगर से राजघाट तक नाव बंद करके उनकी सुरक्षा की दृष्टि से हम लोग नाव उस पार खड़ी करके खड़े रहेंगे. या तो पूरी नाव रामनगर से राजघाट तक चले तब तो हम लोग चलेंगे नहीं तो नहीं चलेंगे.' 

Newsbeep

रवीश कुमार का प्राइम टाइम: कोरोना को लेकर राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम ने की चर्चा

Listen to the latest songs, only on JioSaavn.com