NDTV Khabar

मन की बात में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहीं ये 5 'काम की बातें', इन्हें अपनाने की दी सलाह

155 Shares
ईमेल करें
टिप्पणियां
मन की बात में पीएम नरेंद्र मोदी ने कहीं ये 5 'काम की बातें', इन्हें अपनाने की दी सलाह

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से अपील की कि वे सप्ताह में एक दिन पेट्रोल-डीजल का प्रयोग न करें.

नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'मन की बात' कार्यक्रम में प्रदूषण नियंत्रण, नकदी लेन देन पर रोक, साफ-सफाई जैसे कई मुद्दों पर बात की. इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के नागरिकों को 5 सबक बताए और इन्हें अपने जीवन में अपनाने की अपील की. पीएम मोदी ने कालाधन, भ्रष्टाचार, महिलाओं की मैटरनिटी लीव, स्वच्छा आदि मुद्दों को भी अपने संबोधन में उठाया. रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 30वें मन की बात कार्यक्रम के जरिए देश की जनता को संबोधित किया.

1. सप्ताह में एक दिन पेट्रोल-डीजल का प्रयोग न करें: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देशवासियों से अपील की कि वे सप्ताह में एक दिन पेट्रोल-डीजल का प्रयोग न करें. पीएम मोदी ने कहा, ' न्यू इंडिया न सरकारी कार्यक्रम है, न ही किसी राजनीतिक दल का घोषणापत्र. यह 125 करोड़ भारतीयों का आह्वान है. न्यू इंडिया का सपना सच हो सकता है. जरूरी नहीं कि हर चीज सरकारी पैसे से होती है. अगर हर नागरिक संकल्प करे कि अपनी जिम्मेदारी निभाऊंगा, एक दिन पेट्रोल-डीजल का इस्तेमाल नहीं करूंगा. इन छोटी-छोटी बातों से न्यू इंडिया बनेगा.'

2. खाना बर्बाद न करें: पीएम मोदी ने देश के लोगों से खाने की बर्बादी रोकने की अपील की. उन्होंने कहा, 'हमें फूड वेस्टेज पर चिंता करनी चाहिए. हम प्लेट भर लेते हैं फिर खा नहीं पाते और जूठन छोड़कर निकल जाते हैं. सोचिए, जूठन न छोड़ें तो कितने लोगों का पेट भर सकता है.' पीएम ने कहा, 'इस विषय पर उदासीनता सामाजिक अपराध है. इस पर जागरूकता बढ़नी चाहिए. मैं कुछ लोगों को जानता हूं जो जूठन रोकने के लिए काम कर रहे हैं. जो लोग शरीर-स्वास्थ्य के लिए जागरूक होते हैं, वे कहते हैं- थोड़ा पेट खाली रखो, थोड़ी प्लेट भी खाली रखो.'

3. डिजिटल पेमेंन्ट पर जोर दें:  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश वासियों से डिजिटल पेमेंट करने की अपील की. पीएम मोदी ने कहा, 'देश के लोग बिना नकद कारोबार की तरफ बढ़ रहे हैं. डीमैट (भीम) अकाउंट को कुछ दिन में ही डेढ़ करोड़ लोगों ने डाउनलोड किया है.' उन्होंने कहा, 'कालेधन के खिलाफ आप वीर सैनिक बन सकते हैं. डिजिटल पेमेंन्ट पर जोर दें.' उन्होंने कहा कि 14 अप्रैल को बाबा साहब अंबेडकर की जन्म जयंती पर डिजीधन का समापन होने वाला है. हमें तय करना है कि नोटों का इस्तेमाल कैसे कम हो.

4. खुलकर बातें करें डिप्रेशन भगाएं: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि इस बार के विश्व स्वास्थ्य दिवस का थीम डिप्रेशन है. उन्होंने अपील की, 'हम मनोवैज्ञानिक माहौल बनाकर डिप्रेशन को खत्म कर सकते हैं. मैं चाहता हूं कि लोग अपने मित्रों-परिजनों के बीच और अभिभावकों के साथ, खुलकर बातें करें और मन में जो भी बातें उठे उसे कह डालिए.' पीएम मोदी ने मन को स्वस्थ्य रखने के लिए योग को एक अच्छा साधन बताया.

5. स्वेच्छा से लोगों की मदद करें: मन की बात कार्यक्रम में पीएम मोदी ने देशवासियों से अपील की कि वे स्वेच्छा से जरूरतमंदों की मदद करें. पीएम मोदी ने कहा, 'लाखों लोग नि:स्वार्थ भाव से समाज के शोषित, वंचितों के लिए कुछ करते नजर आते हैं. कई लोग रोज अस्पताल जाकर मरीजों की मदद करते हैं. ब्लड डोनेट करते हैं. जन सेवा ही प्रभु सेवा हमारी रगों में है.'


Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक और गूगल प्लस पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करे...

Advertisement