NDTV Khabar

पीएम नरेंद्र मोदी बनेंगे लेखक, छात्रों को तनाव से दूर रहने का देंगे गुरुमंत्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा लिखी जाने वाली किताब का प्रकाशन पेंगुइन द्वारा किया जाएगा.

 Share
ईमेल करें
टिप्पणियां
पीएम नरेंद्र मोदी बनेंगे लेखक, छात्रों को तनाव से दूर रहने का देंगे गुरुमंत्र

पुस्तक का प्रकाशन पेंगुइन रैंडम हाउस द्वारा किया जाएगा.....

खास बातें

  1. दुनिया व भारत के युवाओं को समर्पित होगी पीएम मोदी की किताब
  2. किताब का प्रकाशन पेंगुइन रैंडम हाउस द्वारा किया जाएगा
  3. पुस्तक का प्रकाशन साल के अंत तक, कई भाषाओं में होगी
नई दिल्ली:

'मन की बात' को अच्छी प्रतिक्रिया के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जल्द ही युवाओं को तनाव से निपटने के तरीके बताने के लिए एक किताब लिखेंगे, जिसका प्रकाशन पेंगुइन द्वारा किया जाएगा. किताब में पीएम मोदी मूल मुद्दों जैसे परीक्षा के तनाव पर काबू पाने, परीक्षाओं के दौरान अपना ख्याल रखने व यहां तक कि परीक्षा खत्म होने के बाद क्या करें आदि के बारे में बताएंगे. मोदी ने एक बयान में कहा, "मैंने एक विषय पर लिखने का चुनाव किया है, जो मेरे दिल के करीब है और इस पर मेरा मौलिक दृष्टिकोण है -यह है युवा संचालित और युवा नेतृत्व वाला कल."

प्रकाशक पेंगुइन रैंडम हाउस द्वारा इसकी घोषणा की गई है, जिसमें कहा गया है कि किसी कार्यरत प्रधानमंत्री द्वारा लिखी जाने वाली यह अपने तरह की पहली किताब होगी. प्रकाशक ने कहा कि किताब में बहुत सारे आयाम शामिल होंगे, जिससे विद्यार्थी अपने को खास तौर से कक्षा 10वीं व 12वीं की परीक्षा से जोड़ सकेंगे. पुस्तक का प्रकाशन साल के अंत तक किया जाएगा. यह कई भाषाओं में प्रकाशित होगी.

टिप्पणियां

अंक से ज्यादा दें ज्ञान का महत्व
इस पुस्तक का सार यह है कि अंक के ऊपर ज्ञान को क्यों महत्व दिया जाए और भविष्य के लिये कैसे जिम्मेदारी का वहन किया जाए. 'मन की बात' को अच्छी प्रतिक्रिया के बाद प्रधानमंत्री के मन में इस पुस्तक को लिखने का विचार आया. उन विचारों को एकत्रित करने और कुछ नए विचारों के साथ इन्हें पुस्तकाकार रूप देने का निर्णय किया .


पैंग्वीन रैंडम हाउस के सीईओ गौरव श्रीनागेश ने कहा कि हम प्रधानमंत्री के विचारों को प्रकाशित करके हषर्ति हो रहे हैं ताकि युवाओं के बारे में उनके संदेश को देश में पहुंचाया जा सके. पीआरएच के वाणिज्यिक एवं कारोबार प्रकोष्ठ की एडिटर इन चीफ मिली एश्वर्या ने कहा कि यह विरले देखी जाने वाली और अनोखी पहल है कि प्रधानमंत्री ने छात्रों की स्थिति को सीधे संबोधित करने का निर्णय किया है. हम इस पहल का हिस्सा बनकर गौरवान्वित हैं.
(इनपुट एजेंसी से)
 



Hindi News से जुड़े अन्य अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर लाइक और ट्विटर पर फॉलो करें.


Advertisement